Tuesday , October 27 2020

Khamoshi Shayari

Khamoshi Shayari Poetry Status Quotes Image

 

Khamoshi Shayari ( ख़ामोशी शायरी ) – कभी कभी दिल की बात कहने के जुबां साथ नहीं देती तब ख़ामोशी ही साथ देती हैं, और एक यही ख़ामोशी हैं जिसमे कई राज़ छुपे होते हैं । ख़ामोशी में नाराजगी भी होती हैं और अपनापन भी होता हैं । प्यार का इज़हार भी होता हैं और किसी का तन्हाई में इंतज़ार भी होता हैं । सच ही कहते हैं लोग जो बात जुबां पर ना आ सके वो बात ख़ामोशी कह देती हैं ।

 

“ख़ामोशी” पर कहे शायरों के अल्फ़ाज़…

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1. Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta, Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta. मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता, अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता ! 2. Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya, Mere badan mein Bhai …

Read More »