Wednesday , December 2 2020

Uth Meri Jaan Mere Saath Hi Chalna Hai Tujhe..

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!

-Kaifi Azmi Nazm

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } ! Faza ye budhi …

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm ! Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + seventeen =