Juda Shayari

Sans Lena Bhi Saza Lagta Hai

Sans lena bhi saza lagta hai,
Ab to marna bhi rawa lagta hai.

Koh-e-gham par se jo dekhun to mujhe,
Dasht aaghosh-e-fana lagta hai.

Sar-e-bazar hai yaron ki talash,
Jo guzarta hai khafa lagta hai.

Mausam-e-gul mein sar-e-shakh-e-gul,
Shoala bhadke to baja lagta hai.

Muskuraata hai jo is aalam mein,
Ba-khuda mujh ko khuda lagta hai.

Itna manus hun sannate se,
Koi bole to bura lagta hai.

Un se mil kar bhi na kafur hua,
Dard ye sab se juda lagta hai.

Nutq ka sath nahi deta zehn,
Shukr karta hun gila lagta hai.

Is qadar tund hai raftar-e-hayat,
Waqt bhi rishta-bapa lagta hai. !!

साँस लेना भी सज़ा लगता है,
अब तो मरना भी रवा लगता है !

कोह-ए-ग़म पर से जो देखूँ तो मुझे,
दश्त आग़ोश-ए-फ़ना लगता है !

सर-ए-बाज़ार है यारों की तलाश,
जो गुज़रता है ख़फ़ा लगता है !

मौसम-ए-गुल में सर-ए-शाख़-ए-गुलाब,
शोला भड़के तो बजा लगता है !

मुस्कुराता है जो इस आलम में,
ब-ख़ुदा मुझ को ख़ुदा लगता है !

इतना मानूस हूँ सन्नाटे से,
कोई बोले तो बुरा लगता है !

उन से मिल कर भी न काफ़ूर हुआ,
दर्द ये सब से जुदा लगता है !

नुत्क़ का साथ नहीं देता ज़ेहन,
शुक्र करता हूँ गिला लगता है !

इस क़दर तुंद है रफ़्तार-ए-हयात,
वक़्त भी रिश्ता-बपा लगता है !!

-Ahmad Nadeem Qasmi Ghazal

 

Aate Aate Mera Naam Sa Rah Gaya..

Aate aate mera naam sa rah gaya,
Us ke honton pe kuchh kanpta rah gaya.

Raat mujrim thi daman bacha le gayi,
Din gawahon ki saf mein khada rah gaya.

Wo mere samne hi gaya aur main,
Raste ki tarah dekhta rah gaya.

Jhuth wale kahin se kahin badh gaye,
Aur main tha ki sach bolta rah gaya.

Aandhiyon ke irade to achchhe na the,
Ye diya kaise jalta hua rah gaya.

Us ko kandhon pe le ja rahe hain ‘Wasim’,
Aur wo jine ka haq mangta rah gaya. !!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया !

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई,
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया !

वो मेरे सामने ही गया और मैं,
रास्ते की तरह देखता रह गया !

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए,
और मैं था कि सच बोलता रह गया !

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया !

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं ‘वसीम’,
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila..

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila,
Agar gale nahin milta to haath bhi na mila.

Gharon pe naam the naamon ke saath ohde the,
Bahut talaash kiya koi aadmi na mila.

Tamaam rishton ko main ghar pe chhod aaya tha,
Phir us ke baad mujhe koi ajnabi na mila.

Khuda ki itni badi kayenat mein maine,
Bas ek shakhs ko manga mujhe wohi na mila.

Bahut ajib hai ye qurbaton ki duri bhi,
Wo mere saath raha aur mujhe kabhi na mila. !!

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला,
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला !

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला !

तमाम रिश्तों को मैं घर में छोड़ आया था,
फिर इसके बाद मुझे कोई अजनबी न मिला !

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख़्स को मांगा मुझे वही न मिला !

बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी,
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला !! -Bashir Badr Ghazal

 

Us Ko Juda Hue Bhi Zamana Bahut Hua..

Us ko juda hue bhi zamana bahut hua,
Ab kya kahen ye qissa purana bahut hua.

Dhalti na thi kisi bhi jatan se shab-e-firaq,
Aye marg-e-na-gahan tera aana bahut hua.

Hum khuld se nikal to gaye hain par aye khuda,
Itne se waqiye ka fasana bahut hua.

Ab hum hain aur sare zamane ki dushmani,
Us se zara sa rabt badhana bahut hua.

Ab kyun na zindagi pe mohabbat ko war den,
Is aashiqi mein jaan se jaana bahut hua.

Ab tak to dil ka dil se taaruf na ho saka,
Mana ki us se milna milana bahut hua.

Kya kya na hum kharab hue hain magar ye dil,
Aye yaad-e-yar tera thikana bahut hua.

Kahta tha nasehon se mere munh na aaiyo,
Phir kya tha ek hu ka bahana bahut hua.

Lo phir tere labon pe usi bewafa ka zikr,
Ahmad-“Faraz” tujh se kaha na bahut hua. !!

उस को जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ,
अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना बहुत हुआ !

ढलती न थी किसी भी जतन से शब-ए-फ़िराक़,
ऐ मर्ग-ए-ना-गहाँ तेरा आना बहुत हुआ !

हम ख़ुल्द से निकल तो गए हैं पर ऐ ख़ुदा,
इतने से वाक़िए का फ़साना बहुत हुआ !

अब हम हैं और सारे ज़माने की दुश्मनी,
उस से ज़रा सा रब्त बढ़ाना बहुत हुआ !

अब क्यूँ न ज़िंदगी पे मोहब्बत को वार दें,
इस आशिक़ी में जान से जाना बहुत हुआ !

अब तक तो दिल का दिल से तआरुफ़ न हो सका,
माना कि उस से मिलना मिलाना बहुत हुआ !

क्या क्या न हम ख़राब हुए हैं मगर ये दिल,
ऐ याद-ए-यार तेरा ठिकाना बहुत हुआ !

कहता था नासेहों से मेरे मुँह न आइयो,
फिर क्या था एक हू का बहाना बहुत हुआ !

लो फिर तेरे लबों पे उसी बेवफ़ा का ज़िक्र,
अहमद-“फ़राज़” तुझ से कहा न बहुत हुआ !!

 

Is Se Pahle Ki Bewafa Ho Jayen..

Is se pahle ki bewafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz“,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़“,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!