Monday , September 28 2020

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi image

जां निसार अख़्तर की मशहूर शायरियां हिंदी में : –

जां निसार अख़्तर प्रगतिशील विचारधारा के मशहूर शायर हैं। बीसवीं सदी के शायरों में जां निसार अख़्तर की शायरी का मयार काफी बड़ा है। उनके बारे में मशहूर शायर निदा फ़ाजली लिखते हैं- “जां निसार आख़िरी दम तक जवान रहे। बुढ़ापे में जवानी का यह जोश उर्दू इतिहास में एक चमत्कार है जो उनकी याद को शेरो-अदब की महफ़िल में हमेशा जवान रखेगा”। पेश है जां निसार के मशहूर अल्फाज़-

 

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Poetry ! Jan Nisar Akhtar Sher ! Jan Nisar Akhtar Ki Nazam ! Jan Nisar Akhtar Songs ! Jan Nisar Akhtar Famous Couplets ! Jan Nisar Akhtar Shayari In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Ghazal ! Aakhri Mulaqat Jan Nisar Akhtar !

 

पेश है जां निसार अख़्तर द्वारा लिखी गयी मशहूर शायरियां जो दिल को छू ले

Ab ye bhi nahi theek ki har dard mita de,
Kuch dard kaleje se lagane ke liye hain.

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं !

 

Aankhen jo uthaye to mohabbat ka guman ho,
Nazron ko jhukaye to shikayet si lage hai.

आँखें जो उठाए तो मोहब्बत का गुमाँ हो,
नज़रों को झुकाए तो शिकायत सी लगे है !

 

Aahat si koi aaye to lagta hai tum ho,
Saya koi lahraye to lagta hai ki tum ho.

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो,
साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो !

 

Aaj to mil ke bhi jaise na mile ho tum se,
Chounk uthte the kabhi teri mulaqat se.

आज तो मिल के भी जैसे न मिले हों तुझ से,
चौंक उठते थे कभी तेरी मुलाक़ात से हम !

 

Aankhon mein jo bhar loge to kaanton se chubhenge,
Ye khwaab to palkon pe sajaane ke liye hain.

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं !

 

Ashaar mere yun to zamane ke liye hain,
Kuch sher faqat un ko sunaane ke liye hain.

अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,
कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं !

 

Aur kya is se jiyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere gaalon ki tarah.

और क्या इस से ज़ियादा कोई नर्मी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

 

Dekhun tere haathon ko lagta hai tere haath,
Mandir mein fakat deep jalaane ke liye hai.

देखूँ तेरे हाथों को तो लगता है तेरे हाथ,
मंदिर में फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं !

 

Dil ko har lamha bachate rahe jazbaat se hum,
Itne majbur rahe hain kabhi haalaat se hum.

दिल को हर लम्हा बचाते रहे जज़्बात से हम,
इतने मजबूर रहे हैं कभी हालात से हम !

 

Dilli kahan gayi tere kuchon ki raunkein,
Galiyon se sar jhuka ke gujarne laga hun main.

दिल्ली कहाँ गईं तेरे कूचों की रौनक़ें,
गलियों से सर झुका के गुज़रने लगा हूँ मैं !

 

Ek bhi khwaab na ho jin mein wo aankhein kya hai,
Ek na ek khwaab to aankhon mein basao yaaro.

एक भी ख़्वाब न हो जिन में वो आँखें क्या हैं,
एक न एक ख़्वाब तो आँखों में बसाओ यारो !

 

Fursat-e-kaar faqat ghadi hai yaaro,
Ye na socho ki abhi umar padi hai yaaro.

फ़ुर्सत-ए-कार फ़क़त चार घड़ी है यारो,
ये न सोचो की अभी उम्र पड़ी है यारो !

 

Guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki trah,
Abhi to main use pahchan bhi na paya tha.

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह,
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था !

 

Hum se pucho ki ghazal kya hai ghazal ka fan kya,
Chand lafzon mein koi aag chupa di jaye.

हम से पूछो कि ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या,
चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए !

 

Har chand aitbaar mein dhokhe bhi hain magar,
Ye to nahi kisi pe bhrosa kiya na jaaye.

हर चंद ऐतबार में धोखे भी हैं मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए !

 

Ishq mein kya nuksan nafa hai hum ko kya samjhate ho,
Hum ne sari umar hi yaaro dil ka karobaar kiya hai.

इश्क़ में क्या नुक़सान नफा है हम को क्या समझाते हो,
हम ने सारी उम्र ही यारो दिल का कारोबार किया !

 

Itne masoom to haalaat nahi,
Log kis waaste ghabraye hain.

इतने मायूस तो हालात नहीं,
लोग किस वास्ते घबराए हैं !

 

Jab lage zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

 

Kuchal ke phenk do aankhon mein khwaab jitane hain,
Isi sabab se hain hum par ajaab jitane hain.

कुचल के फेंक दो आँखों में ख़्वाब जितने हैं,
इसी सबब से हैं हम पर अज़ाब जितने हैं !

 

Log kahte hain ki tu ab bhi khafa hai mujh se,
Teri aankhon ne to kuch aur kaha hai mujh se.

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझ से,
तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझ से !

 

Mana ki rang rang tera pairhan bhi hai,
Par is mein kuch karishma-e-aks-e-badan bhi hai.

माना कि रंग रंग तिरा पैरहन भी है,
पर इस में कुछ करिश्मा-ए-अक्स-ए-बदन भी है !

 

Main jab bhi us ke khayalon mein kho sa jata hun,
Wo khud bhi baat kare to bura lage hai mujhe.

मैं जब भी उस के ख़यालों में खो सा जाता हूँ,
वो ख़ुद भी बात करे तो बुरा लगे है मुझे !

 

Muaaf kar na saki meri zindagi mujh ko,
Wo ek lamha ki main tujh se tang aaya tha.

मुआफ़ कर न सकी मेरी ज़िंदगी मुझ को,
वो एक लम्हा कि मैं तुझ से तंग आया था !

 

Kuvvat-e-tamir thi kaisi khas-o-khashaak mein,
Aandhiyan chalti rahi aur aashiyaan banta gaya.

क़ुव्वत-ए-तामीर थी कैसी ख़स-ओ-ख़ाशाक में,
आँधियाँ चलती रहीं और आशियाँ बनता गया !

 

Sau chaand bhi chamkenge to kya baat banegi,
Tum aaye to is raat ki auqaat banegi.

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी,
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी !

 

Sharm aati hai ki us shehar mein hum hai ki jahan,
Na mile bheekh to laakhon ka gujaara hi na ho.

शर्म आती है कि उस शहर में हम हैं कि जहाँ,
न मिले भीख तो लाखों का गुज़ारा ही न हो !

 

Tujhe baahon mein bhar lene ki khwaahish yun ubharti hai,
Ki main apni nazar mein aap ruswa ho sa jata hun.

तुझे बाँहों में भर लेने की ख़्वाहिश यूँ उभरती है,
कि मैं अपनी नज़र में आप रुस्वा हो सा जाता हूँ !

 

Ye ilam ka sauda ye risale ye kitabein,
Ek shakhs ki yaadon ko bhulane ke liye hain.

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें,
एक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं !

 

Zulfein sina naaf kamar,
Ek nadi mein kitane bhanwar.

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

 

Kuch jurm nahi ishq jo duniya se chhupayen,
Humne tumhein chaaha hai hazaaron mein kahenge.

कुछ जुर्म नहीं इश्क जो दुनिया से छुपाएं,
हमने तुम्हें चाहा है हजारों में कहेंगे !

 

Kal yahi khwaab haqiqat mein badal jayenge,
Aaj jo khwaab faqat khwaab nazar aate hain.

कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं !

 

Teri humdard nazaron se mila ayesa sukoon mujhko,
Main ayesa sukoon markar bhi shayad pa nahi sakta.

तेरी हमदर्द नजरों से मिला ऐसा सुकूं मुझको,
मैं ऐसा सुकूं मरकर भी शायद पा नहीं सकता !

 

Beet jaati hai ek pal mein kabhi zindagi ki hazaarha ghadiyan,
Ek lamhe ke intezaar mein kabhi sarf hoti hai saikadon sadiyan.

बीत जाती है एक पल में कभी जिन्दगी की हजारहा घड़ियाँ,
एक लमहे के इन्तिजार में कभी सर्फ होती है सैकड़ों सदियाँ।

 

Yah kiska dhal gaya hai aanchal taaron ki nigah jhuk gayi hai,
Yah kiski machal gayi hai zulfein jati hui raat ruk gayi hai.

यह किसका ढल गया है आंचल तारों की निगाह झुक गई है,
यह किसकी मचल गई है जुल्फें जाती हुई रात रूक गई है !

Jan Nisar Akhtar Poetry /Shayari /Ghazal /Nazm

 

Meaning Of Urdu Words : –

Urdu

Hindi

English

फ़क़त

केवल, सिर्फ, बस, खत्म, समाप्त

Only, Merely, Simply

जज़्बात

भावनाएँ, जज्बे, खयालात, विचार

Emotions, Feelings

कूचों

सकड़ी गलियों

Narrow Street, Lane

लम्हा-ए-शरर

चिंगारी का क्षण

Moment Of Spark

फ़न

कला

Art, Skill

नफ़ा

फायदा, लाभ, मुनाफ़ा

Profit, Gain

ख़फ़ा

नाराज, अप्रसन्न, गुस्सा, क्रोधित

Angry, Displeased

लम्हा

क्षण

Moment

क़ुव्वत-ए-तामीर

निर्माण की ताक़त

Power To Construct

रुस्वा

बदनाम

Dishonoured, Despondent

नाफ़

नाभि, सुंदी, सुंद कूपी

Navel, Centre, Hub Of The Wheel, Middle

हमदर्द

दुख-दर्द बांटने वाला या वाली

Sympathiser

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Poetry ! Jan Nisar Akhtar Sher ! Jan Nisar Akhtar Ki Nazam ! Jan Nisar Akhtar Songs ! Jan Nisar Akhtar Famous Couplets ! Jan Nisar Akhtar Shayari In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Ghazal ! Aakhri Mulaqat Jan Nisar Akhtar !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry ! Zikr aaye to mere …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 5 =