Tuesday , September 22 2020

Kamar Bandhe Hue Chalne Ko Yaan Sab Yaar Baithe Hain..

Kamar bandhe hue chalne ko yaan sab yaar baithe hain,
Bahut aage gaye baqi jo hain tayyar baithe hain.

Na chhed ai nikhat-e-baad-e-bahaari rah lag apni,
Tujhe atkheliyan sujhi hain hum be-zar baithe hain.

Khayal un ka pare hai arsh-e-azam se kahin saqi,
Gharaz kuch aur dhun mein is ghadi mai-khwar baithe hain.

Basan-e-naqsh-e-pa-e-rah-rawan ku-e-tamanna mein,
Nahi uthne ki taqat kya karen lachaar baithe hain.

Ye apni chaal hai uftadgi se in dinon pahron,
Nazar aaya jahan par saya-e-diwar baithe hain.

Kahen hain sabr kis ko aah nang o nam hai kya shai,
Gharaz ro pit kar un sab ko hum yak bar baithe hain.

Kahin bose ki mat jurat dila kar baithiyo un se,
Abhi is had ko wo kaifi nahi hushyar baithe hain.

Najibon ka ajab kuch haal hai is daur mein yaron,
Jise puchho yahi kahte hain hum bekar baithe hain.

Nai ye waza sharmane ki sikhi aaj hai tum ne,
Hamare pas sahab warna yun sau bar baithe hain.

Kahan gardish falak ki chain deti hai suna “Insha“,
Ghanimat hai ki hum surat yahan do-chaar baithe hain. !!

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं,
बहुत आगे गए बाक़ी जो हैं तैयार बैठे हैं !

न छेड़ ऐ निकहत-ए-बाद-ए-बहारी राह लग अपनी,
तुझे अटखेलियाँ सूझी हैं हम बे-ज़ार बैठे हैं !

ख़याल उन का परे है अर्श-ए-आज़म से कहीं साक़ी,
ग़रज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मय-ख़्वार बैठे हैं !

बसान-ए-नक़्श-ए-पा-ए-रह-रवाँ कू-ए-तमन्ना में,
नहीं उठने की ताक़त क्या करें लाचार बैठे हैं !

ये अपनी चाल है उफ़्तादगी से इन दिनों पहरों,
नज़र आया जहाँ पर साया-ए-दीवार बैठे हैं !

कहें हैं सब्र किस को आह नंग ओ नाम है क्या शय,
ग़रज़ रो पीट कर उन सब को हम यक बार बैठे हैं !

कहीं बोसे की मत जुरअत दिला कर बैठियो उन से,
अभी इस हद को वो कैफ़ी नहीं होशियार बैठे हैं !

नजीबों का अजब कुछ हाल है इस दौर में यारो,
जिसे पूछो यही कहते हैं हम बेकार बैठे हैं !

नई ये वज़्अ शरमाने की सीखी आज है तुम ने,
हमारे पास साहब वर्ना यूँ सौ बार बैठे हैं !

कहाँ गर्दिश फ़लक की चैन देती है सुना “इंशा“,
ग़नीमत है कि हम सूरत यहाँ दो-चार बैठे हैं !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm } Na jaane …

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × two =