Wednesday , September 30 2020

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm }

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Maza ghulta hai lafzon ka zaban par
Ki jaise pan mein mahnga qimam ghulta hai

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Nasha aata hai urdu bolne mein
Gilauri ki tarah hain munh lagi sab istelahen
Lutf deti hai, halaq chhuti hai urdu to, halaq se jaise mai ka ghont utarta hai

Badi aristocracy hai zaban mein
Faqiri mein nawabi ka maza deti hai urdu
Agarche mani kam hote hai urdu mein
Alfaz ki ifraat hoti hai
Magar phir bhi, buland aawaz padhiye to bahut hi motbar lagti hain baaten

Kahin kuch dur se kanon mein padti hai agar urdu
To lagta hai ki din jadon ke hain khidki khuli hai, dhoop andar aa rahi hai
Ajab hai ye zaban, urdu
Kabhi kahin safar karte agar koi musafir sher padh de “Mir”, “Ghalib” ka
Wo chahe ajnabi ho, yahi lagta hai wo mere watan ka hai

Badi shaista lahje mein kisi se urdu sun kar
Kya nahi lagta ki ek tahzib ki aawaz hai Urdu. !! -Gulzar’s Nazm

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
मज़ा घुलता है लफ़्ज़ों का ज़बाँ पर
कि जैसे पान में महँगा क़िमाम घुलता है

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
नशा आता है उर्दू बोलने में
गिलौरी की तरह हैं मुँह लगी सब इस्तेलाहें
लुत्फ़ देती है, हलक़ छूती है उर्दू तो, हलक़ से जैसे मय का घोंट उतरता है

बड़ी अरिस्टोकरेसी है ज़बाँ में
फ़क़ीरी में नवाबी का मज़ा देती है उर्दू
अगरचे मअनी कम होते हैं उर्दू में
अल्फ़ाज़ की इफ़रात होती है
मगर फिर भी, बुलंद आवाज़ पढ़िए तो बहुत ही मोतबर लगती हैं बातें

कहीं कुछ दूर से कानों में पड़ती है अगर उर्दू
तो लगता है कि दिन जाड़ों के हैं खिड़की खुली है, धूप अंदर आ रही है
अजब है ये ज़बाँ, उर्दू
कभी कहीं सफ़र करते अगर कोई मुसाफ़िर शेर पढ़ दे “मीर”, “ग़ालिब” का
वो चाहे अजनबी हो, यही लगता है वो मेरे वतन का है

बड़ी शाइस्ता लहजे में किसी से उर्दू सुन कर
क्या नहीं लगता कि एक तहज़ीब की आवाज़ है, उर्दू !! -गुलज़ार नज़्म

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm ! Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein …

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm ! Dhoop lage aakash pe jab Din mein …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + 20 =