Wednesday , September 30 2020

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm !

Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein hai jumbish
Phir bhi kanon mein bahut tez hawaon ki sada hai

Kitne unche hain ye mehrab mahal ke
Aur mehrabon se uncha wo sitaron se bhara thaal falak ka
Kitna chhota hai mera qad
Farsh par jaise kisi harf se ek nuqta gira ho
Sainkadon samton mein bhatka hua man thahre zara
Dil dhadakta hai to bas daudti tapon ki sada aati hai

Raushni band bhi kar dene se kya hoga andhera ?
Sirf aankhen hi nahi dekh sakengi ye chaugarda, main agar kanon mein kuch thuns bhi lun
Raushni chinta ki to zehn se ab bujh nahi sakti
Khud-kashi ek andhera hai, upaye to nahi
Khidkiyan sari khuli hain to hawa kyun nahi aati ?
Niche sardi hai bahut aur hawa tund hai shayad
Dur darwaze ke bahar khade wo santari donon
Shaam se aag mein bas sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain

Meri aankhon se wo sukha hua dhancha nahi girta
Jism hi jism to tha, ruh kahan thi us mein
Kodh tha us ko tap-e-diq tha ? na jaane kya tha ?
Ya budhapa hi tha shayad
Pisliyan sukhe hue kekaron ke shakhche jaise
Rath pe jate hue dekha tha
Chatanon se udhar
Apni lathi pe gire ped ki manind khada tha

Phir yaka-yak ye hua
Sarthi rok nahi paya tha munh-zor samay ki tapen
Rath ke pahiye ke tale dekha tadap kar ise thanda hote
Khud-kashi thi ? wo samarpan tha ? wo durghatna thi ?
Kya tha ?

Sabz shadab darakhton ke wajud
Apne mausam mein to bin mange bhi phal dete hain
Sukh jate hain to sab kat ke
Is aag mein hi jhonk diye jate hain

Jaise darwaze pe aamal ke wo donon farishte
Shaam se aag mein bas
Sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain. !! -Gulzar Nazm

कोई पत्ता भी नहीं हिलता, न पर्दों में है जुम्बिश
फिर भी कानों में बहुत तेज़ हवाओं की सदा है

कितने ऊँचे हैं ये मेहराब महल के
और मेहराबों से ऊँचा वो सितारों से भरा थाल फ़लक का
कितना छोटा है मेरा क़द
फ़र्श पर जैसे किसी हर्फ़ से इक नुक़्ता गिरा हो
सैंकड़ों सम्तों में भटका हआ मन ठहरे ज़रा
दिल धड़कता है तो बस दौड़ती टापों की सदा आती है

रौशनी बंद भी कर देने से क्या होगा अंधेरा ?
सिर्फ़ आँखें ही नहीं देख सकेंगी ये चौगर्दा, मैं अगर कानों में कुछ ठूंस भी लूँ
रौशनी चिंता की तो ज़ेहन से अब बुझ नहीं सकती
ख़ुद-कशी एक अंधेरा है, उपाए तो नहीं
खिड़कियाँ सारी खुली हैं तो हवा क्यूँ नहीं आती ?
नीचे सर्दी है बहुत और हवा तुंद है शायद
दूर दरवाज़े के बाहर खड़े वो संतरी दोनों
शाम से आग में बस सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं

मेरी आँखों से वो सूखा हुआ ढाँचा नहीं गिरता
जिस्म ही जिस्म तो था, रूह कहाँ थी उस में
कोढ़ था उस को तप-ए-दिक़ था ? न जाने क्या था ?
या बुढ़ापा ही था शायद
पिसलियाँ सूखे हुए केकरों के शाख़चे जैसे
रथ पे जाते हुए देखा था
चटानों से उधर
अपनी लाठी पे गिरे पेड़ की मानिंद खड़ा था

फिर यका-यक ये हुआ
सारथी, रोक नहीं पाया था, मुँह-ज़ोर समय की टापें
रथ के पहिए के तले देखा तड़प कर इसे ठंडा होते
ख़ुद-कशी थी ? वो समर्पण था ? वो दुर्घटना थी ?
क्या था ?

सब्ज़ शादाब दरख़्तों के वजूद
अपने मौसम में तो बिन माँगे भी फल देते हैं
सूख जाते हैं तो सब काट के
इस आग में ही झोंक दिए जाते हैं

जैसे दरवाज़े पे आमाल के वो दोनों फ़रिश्ते
शाम से आग में बस
सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm ! Dhoop lage aakash pe jab Din mein …

Ek Adakar Hun Main..

Ek Adakar Hun Main.. Gulzar Nazm ! Ek adakar hun main Main adakar hun nan …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + 8 =