Thursday , November 26 2020

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan..

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan.. { Pompiye – Gulzar Nazm } !

Pompiye dafan tha sadiyon se jahan
Ek tahzib thi poshida wahan
Shehar khoda to tawarikh ke tukde nikle.

Dheron pathraaye hue waqt ke safhon ko ulat kar dekha
Ek bhooli hui tahzib ke purze se bichhe the har-su
Munjamid laave mein akde hue insanon ke guchchhe the wahan
Aag aur laave se ghabra ke jo lipte honge.

Wahi matke, wahi handi, wahi tute piyale
Honth tute hue, latki hui mitti ki zabanen har-su
Bhukh us waqt bhi thi, pyas bhi thi, pet bhi tha.

Hukmaranon ke mahal, un ki fasilen, sikke
Raij-ul-waqt jo hathiyar the aur un ke daste
Bediyan pattharon ki, aahani, pairon ke kade
Aur ghulamon ko jahan bandh ke rakhte the
Wo pinjre bhi bahut se nikle.

Ek tahzib yahan dafan hai aur us ke qarib
Ek tahzib rawaan hai,
Jo mere waqt ki hai.

Hukmaran bhi hain, mahal bhi hain, faslen bhi hain
Jel-khane bhi hain aur gas ke chamber bhi hain
Hiroshima pe kitaben bhi saja rakhi hain
Bediyan aahani hathkadiyan bhi steel ki hain
Aur ghulamon ko bhi aazadi hai, bandha nahi jaata.

Meri tahzib ne kitni taraqqi kar li hai. !! -Gulzar Nazm

पोम्पिये दफ़्न था सदियों से जहाँ
एक तहज़ीब थी पोशीदा वहाँ
शहर खोदा तो तवारीख़ के टुकड़े निकले

ढेरों पथराए हुए वक़्त के सफ़्हों को उलट कर देखा
एक भूली हुई तहज़ीब के पुर्ज़े से बिछे थे हर-सू
मुंजमिद लावे में अकड़े हुए इंसानों के गुच्छे थे वहाँ
आग और लावे से घबरा के जो लिपटे होंगे

वही मटके, वही हांडी, वही टूटे प्याले
होंट टूटे हुए, लटकी हुई मिट्टी की ज़बानें हर-सू
भूख उस वक़्त भी थी, प्यास भी थी, पेट भी था

हुक्मरानों के महल, उन की फ़सीलें, सिक्के
राइज-उल-वक़्त जो हथियार थे और उन के दस्ते
बेड़ियाँ पत्थरों की, आहनी, पैरों के कड़े
और ग़ुलामों को जहाँ बाँध के रखते थे
वो पिंजरे भी बहुत से निकले

एक तहज़ीब यहाँ दफ़्न है और उस के क़रीब
एक तहज़ीब रवाँ है,
जो मेरे वक़्त की है

हुक्मराँ भी हैं, महल भी हैं, फ़सलें भी हैं
जेल-ख़ाने भी हैं और गैस के चेम्बर भी हैं
हीरोशीमा पे किताबें भी सजा रक्खी हैं
बेड़ियाँ आहनी हथकड़ियाँ भी स्टील की हैं
और ग़ुलामों को भी आज़ादी है, बाँधा नहीं जाता

मेरी तहज़ीब ने अब कितनी तरक़्क़ी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } ! Faza ye budhi …

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm ! Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × three =