Tuesday , October 27 2020

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm ! Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein …

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm ! Dhoop lage aakash pe jab Din mein …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 19 =