Saturday , December 5 2020

Kitaben Jhankti Hain Band Almari Ke Sheeshon Se..

Kitaben jhankti hain band almari ke sheeshon se
Badi hasrat se takti hain
Mahinon ab mulaqaten nahi hotin
Jo shamen un ki sohbat mein kata karti thin, ab aksar
Guzar jati hain computer ke pardon par
Badi bechain rahti hain kitaben
Unhen ab nind mein chalne ki aadat ho gayi hai
Badi hasrat se takti hain
Jo qadren wo sunati thin
Ki jin ke cell kabhi marte nahin the
Wo qadren ab nazar aati nahin ghar mein
Jo rishte wo sunati thin
Wo sare udhde udhde hain..

Koi safha palatta hun to ek siski nikalti hai
Kai lafzon ke mani gir pade hain
Bina patton ke sukhe tund lagte hain wo sab alfaz
Jin par ab koi mani nahin ugte
Bahut si istelahen hain..

Jo mitti ke sakoron ki tarah bikhri padi hain
Gilason ne unhen matruk kar dala
Zaban par zaiqa aata tha jo safhe palatne ka
Ab ungli click karne se bas ek
Jhapki guzarti hai
Bahut kuchh tah-ba-tah khulta chala jata hai parde par..

Kitabon se jo zati rabta tha kat gaya hai
Kabhi sine pe rakh ke let jate the
Kabhi godi mein lete the
Kabhi ghutnon ko apne rehl ki surat bana kar
Nim sajde mein padha karte the chhute the jabin se..

Wo sara ilm to milta rahega aainda bhi
Magar wo jo kitabon mein mila karte the sukhe phool aur
Mahke hue ruqe
Kitaben mangne girne uthane ke bahane rishte bante the
Un ka kya hoga
Wo shayad ab nahin honge.. !!

किताबें झाँकती हैं बंद अलमारी के शीशों से
बड़ी हसरत से तकती हैं
महीनों अब मुलाक़ातें नहीं होतीं
जो शामें उन की सोहबत में कटा करती थीं, अब अक्सर
गुज़र जाती हैं कम्पयूटर के पर्दों पर
बड़ी बेचैन रहती हैं किताबें
उन्हें अब नींद में चलने की आदत हो गई है
बड़ी हसरत से तकती हैं
जो क़द्रें वो सुनाती थीं
कि जिन के सेल कभी मरते नहीं थे
वो क़द्रें अब नज़र आती नहीं घर में
जो रिश्ते वो सुनाती थीं
वो सारे उधड़े उधड़े हैं..

कोई सफ़्हा पलटता हूँ तो इक सिसकी निकलती है
कई लफ़्ज़ों के मअ’नी गिर पड़े हैं
बिना पत्तों के सूखे तुंड लगते हैं वो सब अल्फ़ाज़
जिन पर अब कोई मअ’नी नहीं उगते
बहुत सी इस्तेलाहें हैं..

जो मिट्टी के सकोरों की तरह बिखरी पड़ी हैं
गिलासों ने उन्हें मतरूक कर डाला
ज़बाँ पर ज़ाइक़ा आता था जो सफ़्हे पलटने का
अब उँगली क्लिक करने से बस इक
झपकी गुज़रती है
बहुत कुछ तह-ब-तह खुलता चला जाता है पर्दे पर..

किताबों से जो ज़ाती राब्ता था कट गया है
कभी सीने पे रख के लेट जाते थे
कभी गोदी में लेते थे
कभी घुटनों को अपने रेहल की सूरत बना कर
नीम सज्दे में पढ़ा करते थे छूते थे जबीं से..

वो सारा इल्म तो मिलता रहेगा आइंदा भी
मगर वो जो किताबों में मिला करते थे सूखे फूल और
महके हुए रुकए
किताबें माँगने गिरने उठाने के बहाने रिश्ते बनते थे
उन का क्या होगा
वो शायद अब नहीं होंगे.. !! – Gulzar

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } ! Faza ye budhi …

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm ! Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =