Thursday , September 24 2020

Ghar Shayari

Ghar Shayari

 

Ghar Shayari ( घर शायरी ) – आप दुनिया- जहान जितना चाहें घूम लें, लेकिन थक हारकर घर की तरफ ही लौटते हैं। पलायन तो रोजी-रोटी की तलाश में मजबूरी बस होता है और आदमी इन्हीं परिस्थितियों में बेघर होता है, लेकिन बे-घरी का दंश हमेशा इंसान को चुभता रहता है, बेतरह चुभता है और कई बार तो इस तरह कि आत्मा घायल हो जाए। इस दुख और एहसास को शायरों ने शिद्दत से महसूस किया और अपनी अनुभूतियों को लफ़्जों में ढाला। प्रस्तुत है घर की याद पर शायरों के कलाम….

 

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha..

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha.. Rahat Indori Shayari ! Sath manzil thi magar khauf-o-khatar aisa tha, Umar bhar chalte rahe log safar aisa tha. Jab wo aaye to main khush bhi hua sharminda bhi, Meri taqdir thi aisi mera ghar aisa tha. Hifz thi mujh ko bhi chehron …

Read More »