Gham Shayari

Gham Shayari

 

Gham Shayari ( ग़म शायरी ) – ज़िंदगी ग़म और ख़ुशी से मिलकर बनती है। आदमी अपनी प्रवृत्तियों में संवेदनशील होता है, इसलिए वह अगर प्रसन्न होता है तो दुखी भी होता है। शायरी इस तरह के ग़मों पर मलहम लगाने का काम करती है। प्रस्तुत है ‘ग़म’ पर शायरों के चुनिंदा अशआर

 

Hamare Kuch Gunaho Ki Saza Bhi Saath Chalti Hai

1. Hamare kuch gunahon ki saza bhi saath chalti hai, Hum ab tanha nahi chalte dawa bhi saath chalti hai. हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है, हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है ! 2. Kachche samar shzar se alag kar diye gaye, Hum …

Read More »

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1. Sabke kahne se iraada nahi badla jata, Har saheli se dupatta nahi badla jata. सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता, हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता ! 2. Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir, Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun. कम …

Read More »

Famous Two Line Poetry Of Aziz Lakhnavi

Famous Two Line Poetry Of Aziz Lakhnavi Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare, Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya. पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे, रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या ! Tumne cheda to kuchh khule hum bhi, …

Read More »