Fariyaad Shayari

Aks-E-Khushbu Hun Bikharne Se Na Roke Koi..

Aks-e-khushbu hun bikharne se na roke koi,
Aur bikhar jaun to mujh ko na samete koi.

Kanp uthti hun main ye soch ke tanhai mein,
Mere chehre pe tera naam na padh le koi.

Jis tarah khwab mere ho gaye reza reza,
Us tarah se na kabhi tut ke bikhre koi.

Main to us din se hirasan hun ki jab hukm mile,
Khushk phulon ko kitabon mein na rakkhe koi.

Ab to is rah se wo shakhs guzarta bhi nahi,
Ab kis ummid pe darwaze se jhanke koi.

Koi aahat koi aawaz koi chap nahi,
Dil ki galiyan badi sunsan hain aaye koi. !!

अक्स-ए-ख़ुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई,
और बिखर जाऊँ तो मुझ को न समेटे कोई !

काँप उठती हूँ मैं ये सोच के तन्हाई में,
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई !

जिस तरह ख़्वाब मेरे हो गए रेज़ा रेज़ा,
उस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई !

मैं तो उस दिन से हिरासाँ हूँ कि जब हुक्म मिले,
ख़ुश्क फूलों को किताबों में न रक्खे कोई !

अब तो इस राह से वो शख़्स गुज़रता भी नहीं,
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई !

कोई आहट कोई आवाज़ कोई चाप नहीं,
दिल की गलियाँ बड़ी सुनसान हैं आए कोई !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ranjish Hi Sahi Dil Hi Dukhane Ke Liye Aa..

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa,
Aa phir se mujhe chhod ke jaane ke liye aa.

Phale se marasim na sahi phir bhi kabhi to,
Rasm-o-rahe duniya hi nibhane ke liye aa.

Kis kis ko batayenge judaai ka sabab hum,
Tu mujh se khafa hai to zamaane ke liye aa.

Kuch to mere pindar-e-mohabbat ka bharam rakh,
Tu bhi to kabhi mujh ko manaane ke liye aa.

Ek umar se hun lazzat-e-giriya se bhi maharum,
Aye rahat-e-jaan mujh ko rulaane ke liye aa.

Ab tak dil-e-khushfaham ko tujh se hain ummiden,
Ye aakhiri shammen bhi bujhane ke liye aa.

Mana ki mohabbat ka chipana hai mohabbat,
Chupke se kisi roz jatane ke liye aa.

Jaise tujhe aate hain na aane ke bahane,
Aise hi kisi roz na jaane ke liye aa !!

रंजिश ही सही, दिल ही दुखाने के लिए आ,
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ !

पहले से मरासिम न सही, फिर भी कभी तो,
रस्म-ओ-रहे दुनिया ही निभाने के लिए आ !

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम,
तू मुझ से ख़फ़ा है, तो ज़माने के लिए आ !

कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मोहब्बत का भरम रख,
तू भी तो कभी मुझको मनाने के लिए आ !

इक उम्र से हूँ लज़्ज़त-ए-गिरिया से भी महरूम,
ऐ राहत-ए-जान मुझको रुलाने के लिए आ !

अब तक दिल-ए-ख़ुशफ़हम को तुझ से हैं उम्मीदें,
ये आखिरी शमएँ भी बुझाने के लिए आ !

माना की मोहब्बत का छिपाना है मोहब्बत,
चुपके से किसी रोज़ जताने के लिए आ !

जैसे तुझे आते हैं न आने के बहाने,
ऐसे ही किसी रोज़ न जाने के लिए आ !

-Ahmad Faraz Ghazal / Urdu Poetry