Farishta Shayari

Andhere Chaaron Taraf Sayen Sayen Karne Lage..

Andhere Chaaron Taraf Sayen Sayen Karne Lage.. Rahat Indori Shayari !

Andhere chaaron taraf sayen sayen karne lage,
Charagh haath utha kar duayen karne lage.

Taraqqi kar gaye bimariyon ke saudagar,
Ye sab mariz hain jo ab dawayen karne lage.

Lahu-luhan pada tha zameen par ek suraj,
Parinde apne paron se hawayen karne lage.

Zameen par aa gaye aankhon se tut kar aansoo,
Buri khabar hai farishte khatayen karne lage.

Jhulas rahe hain yahan chhanv bantne wale,
Wo dhoop hai ki shajar iltijayen karne lage.

Ajib rang tha majlis ka khub mehfil thi,
Safed posh uthe kayen kayen karne lage. !!

अंधेरे चारों तरफ़ साएँ साएँ करने लगे,
चराग़ हाथ उठा कर दुआएँ करने लगे !

तरक़्क़ी कर गए बीमारियों के सौदागर,
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएँ करने लगे !

लहू-लुहान पड़ा था ज़मीं पर इक सूरज,
परिंदे अपने परों से हवाएँ करने लगे !

ज़मीं पर आ गए आँखों से टूट कर आँसू ,
बुरी ख़बर है फ़रिश्ते ख़ताएँ करने लगे !

झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले,
वो धूप है कि शजर इल्तिजाएँ करने लगे !

अजीब रंग था मज्लिस का ख़ूब महफ़िल थी,
सफ़ेद पोश उठे काएँ काएँ करने लगे !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Dilon Mein Aag Labon Par Gulab Rakhte Hain..

Dilon Mein Aag Labon Par Gulab Rakhte Hain.. Rahat Indori Shayari

Dilon mein aag labon par gulab rakhte hain,
Sab apne chehron pe dohri naqab rakhte hain.

Hamein charagh samajh kar bujha na paoge,
Hum apne ghar mein kai aaftab rakhte hain.

Bahut se log ki jo harf-ashna bhi nahi,
Isi mein khush hain ki teri kitab rakhte hain.

Ye mai-kada hai wo masjid hai wo hai but-khana,
Kahin bhi jao farishte hisab rakhte hain.

Hamare shehar ke manzar na dekh payenge,
Yahan ke log to aankhon mein khwaab rakhte hain. !!

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं,
सब अपने चेहरों पे दोहरी नक़ाब रखते हैं !

हमें चराग़ समझ कर बुझा न पाओगे,
हम अपने घर में कई आफ़्ताब रखते हैं !

बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आशना भी नहीं,
इसी में ख़ुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं !

ये मय-कदा है वो मस्जिद है वो है बुत-ख़ाना,
कहीं भी जाओ फ़रिश्ते हिसाब रखते हैं !

हमारे शहर के मंज़र न देख पाएँगे,
यहाँ के लोग तो आँखों में ख़्वाब रखते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1.
Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain,
Wo bachche rail ke dibbe mein jo jhaadu lagaate hain.

फ़रिश्ते आ के उनके जिस्म पर ख़ुशबू लगाते हैं,
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाड़ू लगाते हैं !

2.
Humakte khelte bachchon ki shaitaani nahi jati,
Magar phir bhi humare ghar ki veeraani nahi jati.

हुमकते खेलते बच्चों की शैतानी नहीं जाती,
मगर फिर भी हमारे घर की वीरानी नहीं जाती !

3.
Apne mustkbil ki chaadar par rafu karte huye,
Maszidon mein dekhiye bachche waju karte huye.

अपने मुस्तक़्बिल की चादर पर रफ़ू करते हुए,
मस्जिदों में देखिये बच्चे वज़ू करते हुए !

4.
Mujhe is shehar ki sab ladkiyaan aadaab karti hain,
Main bachchon ki kalaai ke liye raakhi banata hun.

मुझे इस शहर की सब लड़कियाँ आदाब करती हैं,
मैं बच्चों की कलाई के लिए राखी बनाता हूँ !

5.
Ghar ka bhojh uthane wale bachche ki taqdeer na punchh,
Bachpan ghar se baahar nikala aur khilauna tut gaya.

घर का बोझ उठाने वाले बच्चे की तक़दीर न पूछ,
बचपन घर से बाहर निकला और खिलौना टूट गया !

6.
Jo ashq gunge the wo arje-haal karne lage,
Humare bachche humin par sawal karne lage.

जो अश्क गूँगे थे वो अर्ज़े-हाल करने लगे,
हमारे बच्चे हमीं पर सवाल करने लगे !

7.
Jab ek waakya bachpan ka humko yaad aaya,
Hum un parindo ko phir se gharon mein chhod aaye.

जब एक वाक़्या बचपन का हमको याद आया,
हम उन परिंदों को फिर से घरों में छोड़ आए !

8.
Bhare sheharon mein kurbaani ka mausam jab se aaya hai,
Mere bachche kabhi holi mein pichkaari nahi late.

भरे शहरों में क़ुर्बानी का मौसम जबसे आया है,
मेरे बच्चे कभी होली में पिचकारी नहीं लाते !

9.
Maszid ki chataai pe ye sote hue bachche,
In bachchon ko dekho kabhi resham nahi dekha.

मस्जिद की चटाई पे ये सोते हुए बच्चे,
इन बच्चों को देखो, कभी रेशम नहीं देखा !

10.
Bhukh se behaal bachche to nahi roye magar,
Ghar ka chulha muflisi ki chugliyaan khane laga.

भूख से बेहाल बच्चे तो नहीं रोये मगर,
घर का चूल्हा मुफ़लिसी की चुग़लियाँ खाने लगा !

11.
Talwaar to kya meri nazar tak nahi uththi,
Us shakhs ke bachche ki taraf dekh liya tha.

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठ्ठी,
उस शख़्स के बच्चों की तरफ़ देख लिया था !

12.
Ret par khelte bachchon ko abhi kya maalum,
Koi sailaab gharaunda nahi rehane deta.

रेत पर खेलते बच्चों को अभी क्या मालूम,
कोई सैलाब घरौंदा नहीं रहने देता !

13.
Dhuaan baadal nahi hota ki bachpan daud padta hai,
Khushi se kaun bachcha karkhane tak pahunchta hai.

धुआँ बादल नहीं होता कि बचपन दौड़ पड़ता है,
ख़ुशी से कौन बच्चा कारखाने तक पहुँचता है !

14.
Main chahun to mithaai ki dukane khol sakta hun,
Magar bachpan humesha ramdane tak phunchata hai.

मैं चाहूँ तो मिठाई की दुकानें खोल सकता हूँ,
मगर बचपन हमेशा रामदाने तक पहुँचता है !

15.
Hawa ke rukh pe rehane do ye chalana sikh jayega,
Ki bachcha ladkhadayega to chalana sikh jayega.

हवा के रुख़ पे रहने दो ये चलना सीख जाएगा,
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा !

16.
Ek sulgate shehar mein bachcha mila hansta hua,
Sehame-sehame-se charagon ke ujale ki tarah.

इक सुलगते शहर में बच्चा मिला हँसता हुआ,
सहमे-सहमे-से चराग़ों के उजाले की तरह !

17.
Maine Ek muddat se maszid nahi dekhi magar,
Ek bachche ka ajan dena bahut achcha laga.

मैंने इक मुद्दत से मस्जिद नहीं देखी मगर,
एक बच्चे का अज़ाँ देना बहुत अच्छा लगा !

18.
Inhen apni jarurat ke thikaane yaad rehate hain,
Kahan par hai khilauno ki dukan bachche samjhte hain.

इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते हैं,
कहाँ पर है खिलौनों की दुकाँ बच्चे समझते हैं !

19.
Zamaana ho gaya dange mein is ghar ko jale lekin,
Kisi bachche ke rone ki sadaayein roz aati hain.

ज़माना हो गया दंगे में इस घर को जले लेकिन,
किसी बच्चे के रोने की सदाएँ रोज़ आती हैं !