Faasla Shayari

Ghar Ka Rasta Bhi Mila Tha Shayad..

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad,
Raah mein sang-e-wafa tha shayad.

Is qadar tez hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayad.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayad.

Log be-mehr na hote honge,
Waham sa dil ko hua tha shayad.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-dua tha shayad.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayad.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-ada,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayad !!

घर का रास्ता भी मिला था शायद,
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!