Monday , September 28 2020

Faasla Shayari

Main Rozgaar Ke Silsile Mein..

Main Rozgaar Ke Silsile Mein.. Gulzar’s Nazm !

Main Rozgaar Ke Silsile Mein

Main rozgaar ke silsile mein
Kabhi kabhi uske shehar jata hun
To guzarta hun us gali se..

Wo neem taariq si gali
Aur usike nukkad pe unghata sa purana khambha
Usi ke niche tamam shab intezaar karke
Main chhod aaya tha shehar uska..

Bahot hi khasta si roshni ki chhadi ko teke
Wo khambha ab bhi wahi khada hai..

Phitur hai ye magar
Main khambhe ke paas jakar
Nazar bachake mohalle walon ki
Puch leta hun aaj bhi ye..

Wo mere jaane ke bad bhi aayi to nahi thi
Wo aayi thi kya.. ??

मैं रोजगार के सिलसिले में
कभी कभी उसके शहर जाता हूँ
तो गुज़रता हूँ उस गली से..

वो नीम तारीक सी गली
और उसी के नुक्कड़ पे ऊंघता सा पुराना खम्भा
उसी के नीचे तमाम सब इंतज़ार कर के
मैं छोड़ आया था शहर उसका..

बहुत ही खस्ता सी रौशनी की छड़ी को टेके
वो खम्बा अब भी वही खड़ा है..

फितूर है ये मगर
मैं खम्बे के पास जा कर
नज़र बचा के मोहल्ले वालों की
पूछ लेता हूँ आज भी ये..

वो मेरे जाने के बाद भी आई तो नहीं थी
वो आई थी क्या.. ??

– Gulzar Poetry / Ghazal / Shayari / Nazm

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Ghar Ka Rasta Bhi Mila Tha Shayad..

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad,
Raah mein sang-e-wafa tha shayad.

Is qadar tez hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayad.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayad.

Log be-mehr na hote honge,
Waham sa dil ko hua tha shayad.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-dua tha shayad.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayad.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-ada,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayad !!

घर का रास्ता भी मिला था शायद,
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!