Tuesday , September 22 2020

Tumhare Khat Mein Naya Ek Salam Kis Ka Tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten.. { Takhliq – Gulzar Nazm } ! Tumhaare honton …

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm ! Subah se shaam …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − ten =