Wednesday , September 30 2020

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain..

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain.. Gulzar Poetry ! Ped ke patton …

Mujhe Andhere Mein Be-Shak Bitha Diya Hota..

Mujhe Andhere Mein Be-Shak Bitha Diya Hota.. Gulzar Poetry ! Mujhe andhere mein be-shak bitha …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + four =