Saturday , December 5 2020

Aashiq Samajh Rahe Hain Mujhe Dil Lagi Se Aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten.. { Takhliq – Gulzar Nazm } ! Tumhaare honton …

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm ! Subah se shaam …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =