Badnaam Shayari

Khush Hun Ki Zindagi Ne Koi Kaam Kar Diya

Khush hun ki zindagi ne koi kaam kar diya,
Mujh ko supurd-e gardish-e ayaam kar diya.

Saaqi siyaah-khana-e-hasti mein dekhna,
Roshan charaagh kis ne sar-e shaam kar diya.

Pehle mere khuloos ko dete rahe fareb,
Aakhir mere khuloos ko badnaam kar diya.

Kitni duaayen dun teri zulf-e daraaz ko,
Kitna waseea silsila-e daam kar diya.

Wo chashm-e mast kitni khabardaar thi “Adam“,
Khud hosh mein rahi, humein badnaam kar diya !!

खुश हूँ की ज़िन्दगी ने कोई काम कर दिया,
मुझ को सुपुर्द-ए गर्दिश-ए अयाम कर दिया !

साक़ी सियाह-खाना-ए-हस्ती में देखना,
रोशन चराग़ किस ने सर-ए शाम कर दिया !

पहले मेरे ख़ुलूस को देते रहे फ़रेब,
आखिर मेरे ख़ुलूस को बदनाम कर दिया !

कितनी दुआएं दूँ तेरी ज़ुल्फ़-ए दराज़ को,
कितना वसीअ सिलसिला-ए दाम कर दिया !

वो चश्म-ए-मस्त कितनी ख़बरदार थी “अदम“,
खुद होश में रही, हमें बदनाम कर दिया !!