Thursday , September 24 2020

Baada-Khana Shayari

Wo Baaten Teri Wo Fasane Tere..

Wo baaten teri wo fasane tere,
Shagufta shagufta bahane tere.

Bas ek dagh-e-sajda meri kayenat,
Babinen teri aastane tere.

Mazalim tere aafiyat-afrin,
Marasim suhane suhane tere.

Faqiron ki jholi na hogi tahi,
Hain bharpur jab tak khazane tere.

Dilon ko jarahat ka lutf aa gaya,
Lage hain kuchh aise nishane tere.

Asiron ki daulat asiri ka gham,
Naye dam tere purane tere.

Bas ek zakhm-e-nazzara hissa mera,
Bahaaren teri aashiyane tere.

Faqiron ka jamghat ghadi-do-ghadi,
Sharaben teri baada-khane tere.

Zamir-e-sadaf mein kiran ka maqam,
Anokhe anokhe thikane tere.

Bahaar o khizan kam-nigahon ke wahm,
Bure ya bhale sab zamane tere.

Adam” bhi hai tera hikayat-kada,
Kahan tak gaye hain fasane tere. !!

वो बातें तेरी वो फ़साने तेरे,
शगुफ़्ता शगुफ़्ता बहाने तेरे !

बस एक दाग़-ए-सज्दा मेरी काएनात,
जबीनें तेरी आस्ताने तेरे !

मज़ालिम तेरे आफ़ियत-आफ़रीं,
मरासिम सुहाने सुहाने तेरे !

फ़क़ीरों की झोली न होगी तही,
हैं भरपूर जब तक ख़ज़ाने तेरे !

दिलों को जराहत का लुत्फ़ आ गया,
लगे हैं कुछ ऐसे निशाने तेरे !

असीरों की दौलत असीरी का ग़म,
नए दाम तेरे पुराने तेरे !

बस एक ज़ख़्म-ए-नज़्ज़ारा हिस्सा मेरा,
बहारें तेरी आशियाने तेरे !

फ़क़ीरों का जमघट घड़ी-दो-घड़ी,
शराबें तेरी बादा-ख़ाने तेरे !

ज़मीर-ए-सदफ़ में किरन का मक़ाम,
अनोखे अनोखे ठिकाने तेरे !

बहार ओ ख़िज़ाँ कम-निगाहों के वहम,
बुरे या भले सब ज़माने तेरे !

अदम” भी है तेरा हिकायत-कदा,
कहाँ तक गए हैं फ़साने तेरे !!