Thursday , September 24 2020

Unhe Nigah Hai Apne Jamal Hi Ki Taraf

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf – A Ghazal By Akbar Allahabadi

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf,
Nazar utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Tawajjoh apni ho kya fann-e-shairi ki taraf,
Nazar har ek ki jati hai aib hi ki taraf.

Likha hua hai jo rona mere muqaddar mein,
Khayal tak nahi jata kabhi hansi ki taraf.

Tumhaara saya bhi jo log dekh lete hain,
Wo aankh utha ke nahi dekhte pari ki taraf.

Bala mein phansta hai dil muft jaan jati hai,
Khuda kisi ko na le jaye us gali ki taraf.

Kabhi jo hoti hai takrar ghair se hum se,
To dil se hote ho dar-parda tum usi ki taraf.

Nigah padti hai un par tamam mehfil ki,
Wo aankh utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Nigah us but-e-khud-bin ki hai mere dil par,
Na aaine ki taraf hai na aarsi ki taraf.

Qubul kijiye lillah tohfa-e-dil ko,
Nazar na kijiye is ki shikastagi ki taraf.

Yahi nazar hai jo ab qatil-e-zamana hui,
Yahi nazar hai ki uthti na thi kisi ki taraf.

Gharib-khana mein lillah do-ghadi baitho,
Bahut dinon mein tum aaye ho is gali ki taraf.

Zara si der hi ho jayegi to kya hoga,
Ghadi ghadi na uthao nazar ghadi ki taraf.

Jo ghar mein puchhe koi khauf kya hai kah dena,
Chale gaye the tahalte hue kisi ki taraf.

Hazar jalwa-e-husn-e-butan ho aye “Akbar“,
Tum apna dhyan lagaye raho usi ki taraf. !!

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf In Hindi Language

उन्हें निगाह है अपने जमाल ही की तरफ़,
नज़र उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

तवज्जोह अपनी हो क्या फ़न्न-ए-शाइरी की तरफ़,
नज़र हर एक की जाती है ऐब ही की तरफ़ !

लिखा हुआ है जो रोना मेरे मुक़द्दर में,
ख़याल तक नहीं जाता कभी हँसी की तरफ़ !

तुम्हारा साया भी जो लोग देख लेते हैं,
वो आँख उठा के नहीं देखते परी की तरफ़ !

बला में फँसता है दिल मुफ़्त जान जाती है,
ख़ुदा किसी को न ले जाए उस गली की तरफ़ !

कभी जो होती है तकरार ग़ैर से हम से,
तो दिल से होते हो दर-पर्दा तुम उसी की तरफ़ !

निगाह पड़ती है उन पर तमाम महफ़िल की,
वो आँख उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

निगाह उस बुत-ए-ख़ुद-बीं की है मेरे दिल पर,
न आइने की तरफ़ है न आरसी की तरफ़ !

क़ुबूल कीजिए लिल्लाह तोहफ़ा-ए-दिल को,
नज़र न कीजिए इस की शिकस्तगी की तरफ़ !

यही नज़र है जो अब क़ातिल-ए-ज़माना हुई,
यही नज़र है कि उठती न थी किसी की तरफ़ !

ग़रीब-ख़ाना में लिल्लाह दो-घड़ी बैठो,
बहुत दिनों में तुम आए हो इस गली की तरफ़ !

ज़रा सी देर ही हो जाएगी तो क्या होगा,
घड़ी घड़ी न उठाओ नज़र घड़ी की तरफ़ !

जो घर में पूछे कोई ख़ौफ़ क्या है कह देना,
चले गए थे टहलते हुए किसी की तरफ़ !

हज़ार जल्वा-ए-हुस्न-ए-बुताँ हो ऐ “अकबर“,
तुम अपना ध्यान लगाए रहो उसी की तरफ़ !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki..

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki.. Gulzar Poetry ! Tinka tinka kante tode …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + nine =