Thursday , September 24 2020

Khushi Hai Sab Ko Ki Operation Mein Khub Nishtar Ye Chal Raha Hai

Khushi hai sab ko ki operation mein khub nishtar ye chal raha hai,
Kisi ko is ki khabar nahi hai mariz ka dam nikal raha hai.

Fana isi rang par hai qaim falak wahi chaal chal raha hai,
Shikasta o muntashir hai wo kal jo aaj sanche mein dhal raha hai.

Ye dekhte ho jo kasa-e-sar ghurur-e-ghaflat se kal tha mamlu,
Yahi badan naz se pala tha jo aaj mitti mein gal raha hai.

Samajh ho jis ki baligh samjhe nazar ho jis ki wasia dekhe,
Abhi yahan khak bhi udegi jahan ye qulzum ubal raha hai.

Kahan ka sharqi kahan ka gharbi tamam dukh sukh hai ye masawi,
Yahan bhi ek ba-murad khush hai wahan bhi ek gham se jal raha hai.

Uruj-e-qaumi zawal-e-qaumi khuda ki qudrat ke hain karishme,
Hamesha radd-o-badal ke andar ye amr political raha hai.

Maza hai speech ka dinner mein khabar ye chhapti hai pioneer mein,
Falak ki gardish ke sath hi sath kaam yaron ka chal raha hai. !!

ख़ुशी है सब को कि ऑपरेशन में ख़ूब निश्तर ये चल रहा है,
किसी को इस की ख़बर नहीं है मरीज़ का दम निकल रहा है !

फ़ना इसी रंग पर है क़ाइम फ़लक वही चाल चल रहा है,
शिकस्ता ओ मुंतशिर है वो कल जो आज साँचे में ढल रहा है !

ये देखते हो जो कासा-ए-सर ग़ुरूर-ए-ग़फ़लत से कल था ममलू,
यही बदन नाज़ से पला था जो आज मिट्टी में गल रहा है !

समझ हो जिस की बलीग़ समझे नज़र हो जिस की वसीअ देखे,
अभी यहाँ ख़ाक भी उड़ेगी जहाँ ये क़ुल्ज़ुम उबल रहा है !

कहाँ का शर्क़ी कहाँ का ग़र्बी तमाम दुख सुख है ये मसावी,
यहाँ भी इक बा-मुराद ख़ुश है वहाँ भी इक ग़म से जल रहा है !

उरूज-ए-क़ौमी ज़वाल-ए-क़ौमी ख़ुदा की क़ुदरत के हैं करिश्मे,
हमेशा रद्द-ओ-बदल के अंदर ये अम्र पोलिटिकल रहा है !

मज़ा है स्पीच का डिनर में ख़बर ये छपती है पाइनियर में,
फ़लक की गर्दिश के साथ ही साथ काम यारों का चल रहा है !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki..

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki.. Gulzar Poetry ! Tinka tinka kante tode …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 − three =