Sunday , September 27 2020

Jazba-E-Dil Ne Mere Tasir Dikhlai To Hai

Jazba-e-dil ne mere tasir dikhlai to hai,
Ghungruon ki jaanib-e-dar kuch sada aayi to hai.

Ishq ke izhaar mein har-chand ruswai to hai,
Par karun kya ab tabiat aap par aayi to hai.

Aap ke sar ki qasam mere siwa koi nahi,
Be-takalluf aaiye kamre mein tanhai to hai.

Jab kaha main ne tadapta hai bahut ab dil mera,
hans ke farmaya tadapta hoga saudai to hai.

Dekhiye hoti hai kab rahi su-e-mulk-e-adam,
Khana-e-tan se hamari ruh ghabrai to hai.

Dil dhadakta hai mera lun bosa-e-rukh ya na lun,
Nind mein us ne dulai munh se sarkai to hai.

Dekhiye lab tak nahi aati gul-e-ariz ki yaad,
Sair-e-gulshan se tabiat hum ne bahlai to hai.

Main bala mein kyun phansun diwana ban kar us ke sath,
Dil ko wahshat ho to ho kambakht saudai to hai.

Khak mein dil ko milaya jalwa-e-raftar se,
Kyun na ho aye naujawan ek shan-e-ranai to hai.

Yun murawwat se tumhaare samne chup ho rahen,
Kal ke jalson ki magar hum ne khabar pai to hai.

Baada-e-gul-rang ka saghar inayat kar mujhe,
Saqiya takhir kya hai ab ghata chhai to hai.

Jis ki ulfat par bada dawa tha kal “Akbar” tumhein,
Aaj hum ja kar use dekh aaye harjai to hai. !!

जज़्बा-ए-दिल ने मेरे तासीर दिखलाई तो है,
घुंघरूओं की जानिब-ए-दर कुछ सदा आई तो है !

इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है,
पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है !

आप के सर की क़सम मेरे सिवा कोई नहीं,
बे-तकल्लुफ़ आइए कमरे में तन्हाई तो है !

जब कहा मैं ने तड़पता है बहुत अब दिल मेरा,
हंस के फ़रमाया तड़पता होगा सौदाई तो है !

देखिए होती है कब राही सू-ए-मुल्क-ए-अदम,
ख़ाना-ए-तन से हमारी रूह घबराई तो है !

दिल धड़कता है मेरा लूँ बोसा-ए-रुख़ या न लूँ,
नींद में उस ने दुलाई मुँह से सरकाई तो है !

देखिए लब तक नहीं आती गुल-ए-आरिज़ की याद,
सैर-ए-गुलशन से तबीअत हम ने बहलाई तो है !

मैं बला में क्यूँ फँसूँ दीवाना बन कर उस के साथ,
दिल को वहशत हो तो हो कम्बख़्त सौदाई तो है !

ख़ाक में दिल को मिलाया जल्वा-ए-रफ़्तार से,
क्यूँ न हो ऐ नौजवाँ इक शान-ए-रानाई तो है !

यूँ मुरव्वत से तुम्हारे सामने चुप हो रहें,
कल के जलसों की मगर हम ने ख़बर पाई तो है !

बादा-ए-गुल-रंग का साग़र इनायत कर मुझे,
साक़िया ताख़ीर क्या है अब घटा छाई तो है !

जिस की उल्फ़त पर बड़ा दावा था कल “अकबर” तुम्हें,
आज हम जा कर उसे देख आए हरजाई तो है !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham..

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham.. Gulzar Nazm ! Dil mein aise thahar gaye …

Dekho Aahista Chalo Aur Bhi Aahista Zara..

Dekho Aahista Chalo Aur Bhi Aahista Zara.. Gulzar Nazm ! Dekho aahista chalo aur bhi …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − ten =