Wednesday , September 30 2020

Falsafi Ko Behas Ke Andar Khuda Milta Nahi

Falsafi ko behas ke andar khuda milta nahi,
Dor ko suljha raha hai aur sira milta nahi.

Marifat khaliq ki aalam mein bahut dushwar hai,
Shehar-e-tan mein jab ki khud apna pata milta nahi.

Ghafilon ke lutf ko kafi hai duniyawi khushi,
Aaqilon ko be-gham-e-uqba maza milta nahi.

Kashti-e-dil ki ilahi bahr-e-hasti mein ho khair,
Nakhuda milte hain lekin ba-khuda milta nahi.

Ghafilon ko kya sunaun dastan-e-ishq-e-yar,
Sunne wale milte hain dard-ashna milta nahi.

Zindagani ka maza milta tha jin ki bazm mein,
Un ki qabron ka bhi ab mujh ko pata milta nahi.

Sirf zahir ho gaya sarmaya-e-zeb-o-safa,
Kya tajjub hai jo baatin ba-safa milta nahi.

Pukhta tabaon par hawadis ka nahi hota asar,
Kohsaron mein nishan-e-naqsh-e-pa milta nahi.

Shaikh-sahib barhaman se lakh barten dosti,
Be-bhajan gaye to mandir se tika milta nahi.

Jis pe dil aaya hai wo shirin-ada milta nahi,
Zindagi hai talkh jine ka maza milta nahi.

Log kahte hain ki bad-nami se bachna chahiye,
Keh do be us ke jawani ka maza milta nahi.

Ahl-e-zahir jis qadar chahen karen bahs-o-jidal,
Main ye samjha hun khudi mein to khuda milta nahi.

Chal base wo din ki yaron se bhari thi anjuman,
Haye afsos aaj surat-ashna milta nahi.

Manzil-e-ishq-o-tawakkul manzil-e-ezaz hai,
Shah sab baste hain yan koi gada milta nahi.

Bar taklifon ka mujh par bar-e-ehsan se hai sahl,
Shukr ki ja hai agar hajat-rawa milta nahi.

Chandni raaten bahaar apni dikhati hain to kya,
Be tere mujh ko to lutf aye mah-laqa milta nahi.

Mani-e-dil ka kare izhaar “Akbar” kis tarah,
Lafz mauzun bahr-e-kashf-e-mudda milta nahi. !!

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं,
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं !

मारिफ़त ख़ालिक़ की आलम में बहुत दुश्वार है,
शहर-ए-तन में जब कि ख़ुद अपना पता मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों के लुत्फ़ को काफ़ी है दुनियावी ख़ुशी,
आक़िलों को बे-ग़म-ए-उक़्बा मज़ा मिलता नहीं !

कश्ती-ए-दिल की इलाही बहर-ए-हस्ती में हो ख़ैर,
नाख़ुदा मिलते हैं लेकिन बा-ख़ुदा मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों को क्या सुनाऊँ दास्तान-ए-इश्क़-ए-यार,
सुनने वाले मिलते हैं दर्द-आश्ना मिलता नहीं !

ज़िंदगानी का मज़ा मिलता था जिन की बज़्म में,
उन की क़ब्रों का भी अब मुझ को पता मिलता नहीं !

सिर्फ़ ज़ाहिर हो गया सरमाया-ए-ज़ेब-ओ-सफ़ा,
क्या तअज्जुब है जो बातिन बा-सफ़ा मिलता नहीं !

पुख़्ता तबओं पर हवादिस का नहीं होता असर,
कोहसारों में निशान-ए-नक़्श-ए-पा मिलता नहीं !

शैख़-साहिब बरहमन से लाख बरतें दोस्ती,
बे-भजन गाए तो मंदिर से टिका मिलता नहीं !

जिस पे दिल आया है वो शीरीं-अदा मिलता नहीं,
ज़िंदगी है तल्ख़ जीने का मज़ा मिलता नहीं !

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए,
कह दो बे उस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं !

अहल-ए-ज़ाहिर जिस क़दर चाहें करें बहस-ओ-जिदाल,
मैं ये समझा हूँ ख़ुदी में तो ख़ुदा मिलता नहीं !

चल बसे वो दिन कि यारों से भरी थी अंजुमन,
हाए अफ़्सोस आज सूरत-आश्ना मिलता नहीं !

मंज़िल-ए-इशक़-ओ-तवक्कुल मंज़िल-ए-एज़ाज़ है,
शाह सब बस्ते हैं याँ कोई गदा मिलता नहीं !

बार तकलीफों का मुझ पर बार-ए-एहसाँ से है सहल,
शुक्र की जा है अगर हाजत-रवा मिलता नहीं !

चाँदनी रातें बहार अपनी दिखाती हैं तो क्या,
बे तेरे मुझ को तो लुत्फ़ ऐ मह-लक़ा मिलता नहीं !

मानी-ए-दिल का करे इज़हार “अकबर” किस तरह,
लफ़्ज़ मौज़ूँ बहर-ए-कश्फ़-ए-मुद्दआ मिलता नहीं !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm } Na jaane …

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + 15 =