Home / Zulf Shayari

Zulf Shayari

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye..

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye,
Rasta dekh-bhaal kar chaliye.

Mausam-e-gul hai apni banhon ko,
Meri banhon mein dal kar chaliye.

Mai-kade mein na baithiye taham,
Kuchh tabiat bahaal kar chaliye.

Kuchh na denge to kya ziyan hoga,
Harj kya hai sawal kar chaliye.

Hai agar qatl-e-am ki niyyat,
Jism ki chhab nikal kar chaliye.

Kisi nazuk-badan se takra kar,
Koi kasb-e-kamal kar chaliye.

Ya dupatta na lijiye sar par,
Ya dupatta sambhaal kar chaliye.

Yar dozakh mein hain muqim “Adam”,
Khuld se intiqal kar chaliye. !!

ज़ुल्फ़-ए-बरहम सँभाल कर चलिए,
रास्ता देख-भाल कर चलिए !

मौसम-ए-गुल है अपनी बाँहों को,
मेरी बाँहों में डाल कर चलिए !

मय-कदे में न बैठिए ताहम,
कुछ तबीअत बहाल कर चलिए !

कुछ न देंगे तो क्या ज़ियाँ होगा,
हर्ज क्या है सवाल कर चलिए !

है अगर क़त्ल-ए-आम की निय्यत,
जिस्म की छब निकाल कर चलिए !

किसी नाज़ुक-बदन से टकरा कर,
कोई कस्ब-ए-कमाल कर चलिए !

या दुपट्टा न लीजिए सर पर,
या दुपट्टा सँभाल कर चलिए !

यार दोज़ख़ में हैं मुक़ीम “अदम”,
ख़ुल्द से इंतिक़ाल कर चलिए !!

 

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata..

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata,
Aaram jo dekha hai bhulaya nahi jata.

Allah-re nadan jawani ki umangen,
Jaise koi bazaar sajaya nahi jata.

Aankhon se pilate raho saghar mein na dalo,
Ab hum se koi jaam uthaya nahi jata.

Bole koi hans kar to chhidak dete hain jaan bhi,
Lekin koi ruthe to manaya nahi jata.

Jis tar ko chheden wahi fariyaad-ba-lab hai,
Ab hum se “Adam” saaz bajaya nahi jata. !!

आँखों से तेरी ज़ुल्फ़ का साया नहीं जाता,
आराम जो देखा है भुलाया नहीं जाता !

अल्लाह-रे नादान जवानी की उमंगें,
जैसे कोई बाज़ार सजाया नहीं जाता !

आँखों से पिलाते रहो साग़र में न डालो,
अब हम से कोई जाम उठाया नहीं जाता !

बोले कोई हँस कर तो छिड़क देते हैं जाँ भी,
लेकिन कोई रूठे तो मनाया नहीं जाता !

जिस तार को छेड़ें वही फ़रियाद-ब-लब है,
अब हम से “अदम” साज़ बजाया नहीं जाता !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Aakhiri baar aah kar li hai..

Aakhiri baar aah kar li hai,
Maine khud se nibaah kar li hai.

Apne sar ek bala to leni thi,
Maine wo zulf apne sar li hai.

Din bhala kis tarah guzaroge,
Wasl ki shab bhi ab guzar li hai.

Jaan-nisaron pe war kya karna,
Maine bas haath mein sipar li hai.

Jo bhi mango udhaar dunga main,
Us gali mein dukaan kar li hai.

Mera kashkol kab se khali tha,
Maine is mein sharab bhar li hai.

Aur to kuchh nahi kiya maine,
Apni haalat tabaah kar li hai.

Shaikh aaya tha mohtasib ko liye,
Maine bhi un ki wo khabar li hai. !!

आख़िरी बार आह कर ली है,
मैंने ख़ुद से निबाह कर ली है !

अपने सर इक बला तो लेनी थी,
मैंने वो ज़ुल्फ़ अपने सर ली है !

दिन भला किस तरह गुज़ारोगे,
वस्ल की शब भी अब गुज़र ली है !

जाँ-निसारों पे वार क्या करना,
मैंने बस हाथ में सिपर ली है !

जो भी माँगो उधार दूँगा मैं,
उस गली में दुकान कर ली है !

मेरा कश्कोल कब से ख़ाली था,
मैंने इस में शराब भर ली है !

और तो कुछ नहीं किया मैंने,
अपनी हालत तबाह कर ली है !

शैख़ आया था मोहतसिब को लिए,
मैंने भी उन की वो ख़बर ली है !!

Waqt ki umar kya badi hogi..

Waqt ki umar kya badi hogi,
Ek tere wasl ki ghadi hogi.

Dastaken de rahi hai palkon par,
Koi barsat ki jhadi hogi.

Kya khabar thi ki nok-e-khanjar bhi,
Phool ki ek pankhudi hogi.

Zulf bal kha rahi hai mathe par,
Chandni se saba ladi hogi.

Aye adam ke musafiro hushyar,
Raah mein zindagi khadi hogi

Kyun girah gesuon mein dali hai,
Jaan kisi phool ki adi hogi.

Iltija ka malal kya kije,
Un ke dar par kahin padi hogi.

Maut kahte hain jis ko aye “Saghar”,
Zindagi ki koi kadi hogi. !!

वक़्त की उम्र क्या बड़ी होगी,
एक तेरे वस्ल की घड़ी होगी !

दस्तकें दे रही है पलकों पर,
कोई बरसात की झड़ी होगी !

क्या ख़बर थी कि नोक-ए-ख़ंजर भी,
फूल की एक पंखुड़ी होगी !

ज़ुल्फ़ बल खा रही है माथे पर,
चाँदनी से सबा लड़ी होगी !

ऐ अदम के मुसाफ़िरो हुश्यार,
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी !

क्यूँ गिरह गेसुओं में डाली है,
जाँ किसी फूल की अड़ी होगी !

इल्तिजा का मलाल क्या कीजे,
उन के दर पर कहीं पड़ी होगी !

मौत कहते हैं जिस को ऐ “साग़र”,
ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी !!

 

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!