Home / Zindagi Shayari

Zindagi Shayari

Mai-kada tha chandni thi main na tha..

Mai-kada tha chandni thi main na tha,
Ek mujassam be-khudi thi main na tha.

Ishq jab dam todta tha tum na the,
Maut jab sar dhun rahi thi main na tha.

Tur par chheda tha jis ne aap ko,
Wo meri diwangi thi main na tha.

Wo hasin baitha tha jab mere qarib,
Lazzat-e-hum-sayegi thi main na tha.

Mai-kade ke mod par rukti hui,
Muddaton ki tishnagi thi main na tha.

Thi haqiqat kuchh meri to is qadar,
Us hasin ki dil-lagi thi main na tha.

Main aur us ghuncha-dahan ki aarzoo,
Aarzoo ki sadgi thi main na tha.

Jis ne mah-paron ke dil pighla diye,
Wo to meri shayari thi main na tha.

Gesuon ke saye mein aaram-kash,
Sar-barahna zindagi thi main na tha.

Dair o kaba mein “Adam” hairat-farosh,
Do-jahan ki bad-zani thi main na tha. !!

मय-कदा था चाँदनी थी मैं न था
एक मुजस्सम बे-ख़ुदी थी मैं न था !

इश्क़ जब दम तोड़ता था तुम न थे,
मौत जब सर धुन रही थी मैं न था !

तूर पर छेड़ा था जिस ने आप को,
वो मेरी दीवानगी थी मैं न था !

वो हसीं बैठा था जब मेरे क़रीब,
लज़्ज़त-हम-सायगी थी मैं न था !

मय-कदे के मोड़ पर रुकती हुई,
मुद्दतों की तिश्नगी थी मैं न था !

थी हक़ीक़त कुछ मेरी तो इस क़दर,
उस हसीं की दिल-लगी थी मैं न था !

मैं और उस ग़ुंचा-दहन की आरज़ू,
आरज़ू की सादगी थी मैं न था !

जिस ने मह-पारों के दिल पिघला दिए,
वो तो मेरी शाएरी थी मैं न था !

गेसुओं के साए में आराम-कश,
सर-बरहना ज़िंदगी थी मैं न था !

दैर ओ काबा में “अदम” हैरत-फ़रोश,
दो-जहाँ की बद-ज़नी थी मैं न था !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Dekh kar dil-kashi zamane ki..

Dekh kar dil-kashi zamane ki,
Aarzoo hai fareb khane ki.

Aye gham-e-zindagi na ho naraaz,
Mujh ko aadat hai muskurane ki.

Zulmaton se na dar ki raste mein,
Roshani hai sharab-khane ki.

Aa tere gesuon ko pyar karun,
Raat hai mishalen jalane ki.

Kis ne saghar “Adam buland kiya,
Tham gayi gardishen zamane ki. !!

देख कर दिल-कशी ज़माने की,
आरज़ू है फरेब खाने की !

ऐ ग़म-ए-ज़िन्दगी न हो नाराज,
मुझ को आदत है मुस्कुराने की !

ज़ुल्मतों से न डर की रास्ते में,
रोशनी है शराब-खाने की !

आ तेरे गेसुओं को प्यार करूँ,
रात है मिशालें जलाने की !

किस ने सागर “अदम बुलंद किया,
थम गयी गर्दिशें ज़माने की !!

 

Agarche main ek chatan sa aadmi raha hun..

Agarche main ek chatan sa aadmi raha hun,
Magar tere baad hausla hai ki ji raha hun.

Wo reza-reza mere badan mein utar raha hai,
Main qatra qatra usi ki aankhon ko pi raha hun.

Teri hatheli pe kis ne likkha hai qatl mera,
Mujhe to lagta hai main tera dost bhi raha hun.

Khuli hain aankhen magar badan hai tamam patthar,
Koi bataye main mar chuka hun ki ji raha hun.

Kahan milegi misal meri sitamgari ki,
Ki main gulabon ke zakhm kanton se si raha hun.

Na puchh mujh se ki shehar walon ka haal kya tha,
Ki main to khud apne ghar mein bhi do ghadi raha hun.

Mila to bite dinon ka sach us ki aankh mein tha,
Wo aashna jis se muddaton ajnabi raha hun.

Bhula de mujh ko ki bewafai baja hai lekin,
Ganwa na mujh ko ki main teri zindagi raha hun.

Wo ajnabi ban ke ab mile bhi to kya hai “Mohsin”,
Ye naz kam hai ki main bhi us ka kabhi raha hun. !!

अगरचे मैं एक चटान सा आदमी रहा हूँ,
मगर तेरे बाद हौसला है कि जी रहा हूँ !

वो रेज़ा रेज़ा मेरे बदन में उतर रहा है,
मैं क़तरा क़तरा उसी की आँखों को पी रहा हूँ !

तेरी हथेली पे किस ने लिक्खा है क़त्ल मेरा,
मुझे तो लगता है मैं तेरा दोस्त भी रहा हूँ !

खुली हैं आँखें मगर बदन है तमाम पत्थर,
कोई बताए मैं मर चुका हूँ कि जी रहा हूँ !

कहाँ मिलेगी मिसाल मेरी सितमगरी की,
कि मैं गुलाबों के ज़ख़्म काँटों से सी रहा हूँ !

न पूछ मुझ से कि शहर वालों का हाल क्या था,
कि मैं तो ख़ुद अपने घर में भी दो घड़ी रहा हूँ !

मिला तो बीते दिनों का सच उस की आँख में था,
वो आश्ना जिस से मुद्दतों अजनबी रहा हूँ !

भुला दे मुझ को कि बेवफ़ाई बजा है लेकिन,
गँवा न मुझ को कि मैं तेरी ज़िंदगी रहा हूँ !

वो अजनबी बन के अब मिले भी तो क्या है “मोहसिन”,
ये नाज़ कम है कि मैं भी उस का कभी रहा हूँ !!

 

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe..

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe,
Wo mera hone se ziyada mujhe pana chahe.

Meri palkon se phisal jata hai chehra tera,
Ye musafir to koi aur thikana chahe.

Ek banphool tha is shehar mein wo bhi na raha,
Koi ab kis ke liye laut ke aana chahe.

Zindagi hasraton ke saz pe sahma-sahma,
Wo tarana hai jise dil nahi gaana chahe. !!

उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे,
वो मेरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे !

मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,
ये मुसाफ़िर तो कोई और ठिकाना चाहे !

एक बनफूल था इस शहर में वो भी न रहा,
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे !

ज़िंदगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा,
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे !!

 

Khud ko aasan kar rahi ho na..

Khud ko aasan kar rahi ho na,
Hum pe ehsan kar rahi ho na .

Zindagi hasraton ki mayyat hai,
Phir bhi arman kar rahi ho na.

Nind sapne sukun ummidein,
Kitna nuqsan kar rahi ho na.

Hum ne samjha hai pyar par tum to,
Jaan pahchan kar rahi ho na. !!

ख़ुद को आसान कर रही हो ना,
हम पे एहसान कर रही हो ना !

ज़िंदगी हसरतों की मय्यत है,
फिर भी अरमान कर रही हो ना !

नींद सपने सुकून उम्मीदें,
कितना नुक़सान कर रही हो ना !

हम ने समझा है प्यार पर तुम तो,
जान पहचान कर रही हो ना !!