Home / Zameen Shayari

Zameen Shayari

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Khud Se Chalkar Nahi Ye Tarz-E-Sukhan Aaya Hai

1.
Khud se chalkar nahi ye tarz-e-sukhan aaya hai,
Paanv daabe hain buzargon ke to fan aaya hai.

ख़ुद से चलकर नहीं ये तर्ज़-ए-सुखन आया है,
पाँव दाबे हैं बुज़र्गों के तो फ़न आया है !

2.
Humein buzurgon ki shafkat kabhi na mil paai,
Natija yah hai ki hum lofaron ke bich rahe.

हमें बुज़ुर्गों की शफ़क़त कभी न मिल पाई,
नतीजा यह है कि हम लोफ़रों के बीच रहे !

3.
Humeen girti hui deewar ko thaame rahe warna,
Salike se buzurgon ki nishani kaun rakhta hai.

हमीं गिरती हुई दीवार को थामे रहे वरना,
सलीके से बुज़ुर्गों की निशानी कौन रखता है !

4.
Ravish buzurgon ki shamil hai meri ghutti mein,
Jarurtan bhi Sakhi ki taraf nahi dekha.

रविश बुज़ुर्गों की शामिल है मेरी घुट्टी में,
ज़रूरतन भी सख़ी की तरफ़ नहीं देखा !

5.
Sadak se gujarte hain to bachche ped ginte hain,
Bade budhe bhi ginte hain wo sukhe ped ginte hain.

सड़क से जब गुज़रते हैं तो बच्चे पेड़ गिनते हैं,
बड़े बूढ़े भी गिनते हैं वो सूखे पेड़ गिनते हैं !

6.
Haweliyon ki chhatein gir gayi magar ab tak,
Mere buzurgon ka nasha nahi utarta hai.

हवेलियों की छतें गिर गईं मगर अब तक,
मेरे बुज़ुर्गों का नश्शा नहीं उतरता है !

7.
Bilakh rahe hain zamino pe bhukh se bachche,
Mere buzurgon ki daulat khandr ke niche hai.

बिलख रहे हैं ज़मीनों पे भूख से बच्चे,
मेरे बुज़ुर्गों की दौलत खण्डर के नीचे है !

8.
Mere buzurgon ko iski khabar nahi shayad,
Panap nahi saka jo ped bargadon mein raha.

मेरे बुज़ुर्गों को इसकी ख़बर नहीं शायद,
पनप नहीं सका जो पेड़ बरगदों में रहा !

9.
Ishq mein raay buzurgon se nahi li jati,
Aag bujhte huye chulhon se nahi li jati.

इश्क़ में राय बुज़ुर्गों से नहीं ली जाती,
आग बुझते हुए चूल्हों से नहीं ली जाती !

10.
Mere buzurgon ka saya tha jab talak mujh par,
Main apni umar se chhota dikhaai deta tha.

मेरे बुज़ुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर,
मैं अपनी उम्र से छोटा दिखाई देता था !

11.
Bade-budhe kuyen mein nekiyaan kyon fenk aate hain,
Kuyen mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jati hai.

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं,
कुएँ में छुप के आख़िर क्यों ये नेकी बैठ जाती है !

12.
Mujhe itna sataya hai mere apne ajijon ne,
Ki ab jangle bhala lagta hai ghar achcha nahi lagta.

मुझे इतना सताया है मरे अपने अज़ीज़ों ने,
कि अब जंगल भला लगता है घर अच्छा नहीं लगता !

 

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !