Home / Zameen Shayari

Zameen Shayari

Ab Koi Gulshan Na Ujde Ab Watan Azad Hai..

Ab koi gulshan na ujde ab watan azad hai,
Ruh ganga ki himala ka badan azad hai.

Khetiyan sona ugayen wadiyan moti lutayen,
Aaj gautam ki zamin tulsi ka ban azad hai.

Mandiron mein sankh baje masjidon mein ho azan,
Shaikh ka dharm aur din-e-barhaman azad hai.

Lut kaisi bhi ho ab is desh mein rahne na paye,
Aaj sab ke waste dharti ka dhan azad hai. !!

अब कोई गुलशन न उजड़े अब वतन आज़ाद है,
रूह गंगा की हिमाला का बदन आज़ाद है !

खेतियाँ सोना उगाएँ वादियाँ मोती लुटाएँ,
आज गौतम की ज़मीं तुलसी का बन आज़ाद है !

मंदिरों में संख बाजे मस्जिदों में हो अज़ाँ,
शैख़ का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है !

लूट कैसी भी हो अब इस देश में रहने न पाए,
आज सब के वास्ते धरती का धन आज़ाद है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Sada Hai Fikr-E-Taraqqi Buland-Binon Ko

Sada hai fikr-e-taraqqi buland-binon ko,
Hum aasman se laye hain in zaminon ko.

Padhen durud na kyun dekh kar hasinon ko,
Khayal-e-sanat-e-sane hai pak-binon ko.

Kamal-e-faqr bhi shayan hai pak-binon ko,
Ye khak takht hai hum boriya-nashinon ko.

Lahad mein soye hain chhoda hai shah-nashinon ko,
Qaza kahan se kahan le gayi makinon ko.

Ye jhurriyan nahin hathon pe zoaf-e-piri ne,
Chuna hai jama-e-asli ki aastinon ko.

Laga raha hun mazamin-e-nau ke phir ambar,
Khabar karo mere khirman ke khosha-chinon ko.

Bhala taraddud-e-beja se un mein kya hasil,
Utha chuke hain zamindar jin zaminon ko.

Unhin ko aaj nahin baithne ki ja milti,
Muaf karte the jo log kal zaminon ko.

Ye zairon ko milin sarfaraaziyan warna,
Kahan nasib ki chumen malak jabinon ko.

Sajaya hum ne mazamin ke taza phoolon se,
Basa diya hai in ujdi hui zaminon ko.

Lahad bhi dekhiye in mein nasib ho ki na ho,
Ki khak chhan ke paya hai jin zaminon ko.

Zawal-e-taqat o mu-e-sapid o zof-e-basar,
Inhin se paye bashar maut ke qarinon ko.

Nahin khabar unhen mitti mein apne milne ki,
Zamin mein gaad ke baithe hain jo dafinon ko.

Khabar nahin unhen kya badobast-e-pukhta ki,
Jo ghasb karne lage ghair ki zaminon ko.

Jahan se uth gaye jo log phir nahin milte,
Kahan se dhund ke ab layen ham-nashinon ko.

Nazar mein phirti hai wo tirgi o tanhai,
Lahad ki khak hai surma maal-bainon ko.

Khayal-e-khatir-e-ahbab chahiye har dam,
“Anees” thes na lag jaye aabginon ko. !!

सदा है फ़िक्र-ए-तरक़्क़ी बुलंद-बीनों को,
हम आसमान से लाए हैं इन ज़मीनों को !

पढ़ें दुरूद न क्यूँ देख कर हसीनों को,
ख़याल-ए-सनअत-ए-साने है पाक-बीनों को !

कमाल-ए-फ़क़्र भी शायाँ है पाक-बीनों को,
ये ख़ाक तख़्त है हम बोरिया-नशीनों को !

लहद में सोए हैं छोड़ा है शह-नशीनों को,
क़ज़ा कहाँ से कहाँ ले गई मकीनों को !

ये झुर्रियाँ नहीं हाथों पे ज़ोफ़-ए-पीरी ने,
चुना है जामा-ए-असली की आस्तीनों को !

लगा रहा हूँ मज़ामीन-ए-नौ के फिर अम्बार,
ख़बर करो मिरे ख़िर्मन के ख़ोशा-चीनों को !

भला तरद्दुद-ए-बेजा से उन में क्या हासिल,
उठा चुके हैं ज़मींदार जिन ज़मीनों को !

उन्हीं को आज नहीं बैठने की जा मिलती,
मुआ’फ़ करते थे जो लोग कल ज़मीनों को !

ये ज़ाएरों को मिलीं सरफ़राज़ियाँ वर्ना,
कहाँ नसीब कि चूमें मलक जबीनों को !

सजाया हम ने मज़ामीं के ताज़ा फूलों से,
बसा दिया है इन उजड़ी हुई ज़मीनों को !

लहद भी देखिए इन में नसीब हो कि न हो,
कि ख़ाक छान के पाया है जिन ज़मीनों को !

ज़वाल-ए-ताक़त ओ मू-ए-सपीद ओ ज़ोफ़-ए-बसर,
इन्हीं से पाए बशर मौत के क़रीनों को !

नहीं ख़बर उन्हें मिट्टी में अपने मिलने की,
ज़मीं में गाड़ के बैठे हैं जो दफ़ीनों को !

ख़बर नहीं उन्हें क्या बंदोबस्त-ए-पुख़्ता की,
जो ग़स्ब करने लगे ग़ैर की ज़मीनों को !

जहाँ से उठ गए जो लोग फिर नहीं मिलते,
कहाँ से ढूँड के अब लाएँ हम-नशीनों को !

नज़र में फिरती है वो तीरगी ओ तन्हाई,
लहद की ख़ाक है सुर्मा मआल-बीनों को !

ख़याल-ए-ख़ातिर-ए-अहबाब चाहिए हर दम,
“अनीस” ठेस न लग जाए आबगीनों को !! -Mir Anees Ghazal

 

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Chamakte Lafz Sitaron Se Chhin Laye Hain..

Chamakte lafz sitaron se chhin laye hain,
Hum aasman se ghazal ki zamin laye hain.

Woh aur honge jo khanjar chhupa ke laate hain,
Hum apne sath phati aastin laye hain.

Hamari baat ki gehrayi khak samjhenge,
Jo parbaton ke liye khurdbin laye hain.

Hanso na hum pe ki hum badnasib banjare,
Saron pe rakh ke watan ki zamin laye hain.

Mere qabile ke bachchon ke khel bhi hain ajib,
Kisi sipahi ki talwar chhin laye hain. !!

चमकते लफ्ज़ सितारों से छीन लाए हैं,
हम आसमाँ से ग़ज़ल की ज़मीन लाए हैं !

वो और होंगे जो खंजर छुपा के लाते हैं,
हम अपने साथ फटी आस्तीन लाए हैं !

हमारी बात की गहराई ख़ाक समझेंगे,
जो पर्बतों के लिए खुर्दबीन लाए हैं !

हँसो न हम पे कि हर बद-नसीब बंजारे,
सरों पे रख के वतन की ज़मीन लाए हैं !

मेरे क़बीले के बच्चों के खेल भी हैं अजीब,
किसी सिपाही की तलवार छीन लाए हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!