Home / Zamana Shayari

Zamana Shayari

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe..

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe,
Wo mera hone se ziyada mujhe pana chahe.

Meri palkon se phisal jata hai chehra tera,
Ye musafir to koi aur thikana chahe.

Ek banphool tha is shehar mein wo bhi na raha,
Koi ab kis ke liye laut ke aana chahe.

Zindagi hasraton ke saz pe sahma-sahma,
Wo tarana hai jise dil nahi gaana chahe. !!

उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे,
वो मेरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे !

मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,
ये मुसाफ़िर तो कोई और ठिकाना चाहे !

एक बनफूल था इस शहर में वो भी न रहा,
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे !

ज़िंदगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा,
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे !!

 

Hai ajab haal ye zamane ka..

Hai ajab haal ye zamane ka,
Yaad bhi taur hai bhulane ka.

Pasand aaya bahut hamein pesha,
Khud hi apne gharon ko dhane ka.

Kash humko bhi ho nasib kabhi,
Aish-e-daftar mein gungunane ka.

Aasman hai khamoshi-e-jawed,
Main bhi ab lab nahi hilane ka.

Jaan kya ab tera piyala-e-naf,
Nashsha mujh ko nahi pilane ka.

Shauq hai is dil-e-darinda ko,
Aap ke honth kat khane ka.

Itna nadim hua hun khud se ki main,
Ab nahi khud ko aazmane ka.

Kya kahun jaan ko bachane main,
“Jaun” khatra hai jaan jaane ka.

Ye jahan “Jaun” ek jahannum hai,
Yan khuda bhi nahi hai aane ka.

Zindagi ek fan hai lamhon ko,
Apne andaz se ganwane ka. !!

है अजब हाल ये ज़माने का,
याद भी तौर है भुलाने का !

पसंद आया बहुत हमें पेशा,
ख़ुद ही अपने घरों को ढाने का !

काश हमको भी हो नसीब कभी,
ऐश-ए-दफ़्तर में गुनगुनाने का !

आसमाँ है ख़मोशी-ए-जावेद,
मैं भी अब लब नहीं हिलाने का !

जान क्या अब तेरा पियाला-ए-नाफ़,
नश्शा मुझ को नहीं पिलाने का !

शौक़ है इस दिल-ए-दरिंदा को,
आप के होंठ काट खाने का !

इतना नादिम हुआ हूँ ख़ुद से कि मैं,
अब नहीं ख़ुद को आज़माने का !

क्या कहूँ जान को बचाने मैं,
“जॉन” ख़तरा है जान जाने का !

ये जहाँ “जॉन” एक जहन्नुम है,
यहाँ ख़ुदा भी नहीं है आने का !

ज़िंदगी एक फ़न है लम्हों को,
अपने अंदाज़ से गँवाने का !!

 

Umar guzregi imtihan mein kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

 

Zakhm kya kya na zindagi se mile..

Zakhm kya kya na zindagi se mile,
Khwaab palkon se berukhi se mile.

Aap ko mil gaye hain kismat se,
Hum zamaane mein kab kisi ko mile ?

Aise khushbu se mil raha hai gulaab,
Jis tarah raat roshani se mile.

Hum faqeeron se dosti hai magar,
Uss se kehna ki saadagi se mile.

Dil mein rakhte hain ehtiyaat se hum,
Zakhm jo jo bhi jis kisi se mile.

Zindagi se gale mile to laga,
Ajnabi jaise ajnabi se mile.

Uss ke seene mein dil nahi tha “Batool”,
Hum ne socha tha aadmi se mile.

ज़ख्म क्या क्या न ज़िन्दगी से मिले,
ख्वाब पलकों से बेरुखी से मिले !

आप को मिल गए हैं किस्मत से,
हम ज़माने में कब किसी को मिले ?

ऐसे खुशबु से मिल रहा है गुलाब,
जिस तरह रात रोशनी से मिले !

हम फ़क़ीरों से दोस्ती है मगर,
उस से कहना की सादगी से मिले !

दिल में रखते हैं एहतियात से हम,
ज़ख्म जो जो भी जिस किसी से मिले !

ज़िन्दगी से गले मिले तो लगा,
अजनबी जैसे अजनबी से मिले !

उस के सीने में दिल नहीं था “बैतूल”,
हम ने सोचा था आदमी से मिले. !!