Friday , April 10 2020

Zakhm Shayari

Bichhda Hai Jo Ek Bar To Milte Nahin Dekha..

Bichhda hai jo ek bar to milte nahin dekha,
Is zakhm ko hum ne kabhi silte nahin dekha.

Ek bar jise chat gayi dhup ki khwahish,
Phir shakh pe us phool ko khilte nahin dekha.

Yak-lakht gira hai to jaden tak nikal aayi,
Jis ped ko aandhi mein bhi hilte nahin dekha.

Kanton mein ghire phool ko chum aayegi lekin,
Titli ke paron ko kabhi chhilte nahin dekha.

Kis tarah meri ruh hari kar gaya aakhir,
Wo zahr jise jism mein khilte nahin dekha. !!

बिछड़ा है जो एक बार तो मिलते नहीं देखा,
इस ज़ख़्म को हम ने कभी सिलते नहीं देखा !

एक बार जिसे चाट गई धूप की ख़्वाहिश,
फिर शाख़ पे उस फूल को खिलते नहीं देखा !

यक-लख़्त गिरा है तो जड़ें तक निकल आईं,
जिस पेड़ को आँधी में भी हिलते नहीं देखा !

काँटों में घिरे फूल को चूम आएगी लेकिन,
तितली के परों को कभी छिलते नहीं देखा !

किस तरह मेरी रूह हरी कर गया आख़िर,
वो ज़हर जिसे जिस्म में खिलते नहीं देखा !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Jab Bhi Yeh Dil Udas Hota Hai..

Jab bhi yeh dil udas hota hai,
Jane kaun aas-pas hota hai.

Aankhen pahchanti hain aankhon ko,
Dard chehra-shanas hota hai.

Go barasti nahi sada aankhen,
Abr to barah-mas hota hai.

Chhaal pedon ki sakht hai lekin,
Niche nakhun ke mas hota hai.

Zakhm kahte hain dil ka gahna hai,
Dard dil ka libas hota hai.

Das hi leta hai sab ko ishq kabhi,
Sanp mauqa-shanas hota hai.

Sirf itna karam kiya kije,
Aap ko jitna ras hota hai. !!

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन आस-पास होता है !

आँखें पहचानती हैं आँखों को,
दर्द चेहरा-शनास होता है !

गो बरसती नहीं सदा आँखें,
अब्र तो बारह-मास होता है !

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन,
नीचे नाख़ुन के मास होता है !

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है !

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी,
साँप मौक़ा-शनास होता है !

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे,
आप को जितना रास होता है !!

Gulzar All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Mere Junoon Ka Natija Zarur Niklega..

Mere junoon ka natija zarur niklega,
Isi siyah samundar se nur niklega.

Gira diya hai to sahil pe intezaar na kar,
Agar wo dub gaya hai to dur niklega.

Usi ka shahr wahi muddai wahi munsif,
Hamein yakin tha hamara kusoor niklega.

Yakin na aaye to ek baat puchh kar dekho,
Jo hans raha hai wo zakhmon se chur niklega.

Us aastin se ashkon ko pochhne wale,
Us aastin se khanjar zarur niklega. !!

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा,
इसी सियाह समुंदर से नूर निकलेगा !

गिरा दिया है तो साहिल पे इंतिज़ार न कर,
अगर वो डूब गया है तो दूर निकलेगा !

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़,
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा !

यक़ीं न आए तो एक बात पूछ कर देखो,
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा !

उस आस्तीन से अश्कों को पोछने वाले,
उस आस्तीन से ख़ंजर ज़रूर निकलेगा !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Na Humsafar Na Kisi Humnasheen Se Niklega..

Na humsafar na kisi humnasheen se niklega,
Hamare panw ka kanta hameen se niklega.

Main janta tha ki zahrila saanp ban ban kar,
Tera khulus meri aastin se niklega.

Isi gali mein wo bhukha faqir rahta tha,
Talash kije khazana yahin se niklega.

Buzurg kahte the ek waqt aayega jis din,
Jahan pe dubega sooraj wahin se niklega.

Guzishta sal ke zakhmon hare-bhare rahna,
Julus ab ke baras bhi yahin se niklega. !!

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा !

मैं जानता था कि ज़हरीला साँप बन बन कर,
तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा !

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा !

बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन,
जहाँ पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा !

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा !! -Rahat Indori Ghazal