Home / Zaat Poetry

Zaat Poetry

Ho jayegi jab tum se shanasaai zara aur..

Ho jayegi jab tum se shanasaai zara aur,
Badh jayegi shayed meri tanhaai zara aur.

Kyon khul gaye logon pe meri zaat ke asraar,
Ae kaash ki hoti meri ghraai zara aur.

Phir haath pe zakhmon ke nishan gin na sakoge,
Ye uljhi hui dor jo suljhaai zara aur.

Tardeed to kar sakta tha phailegi magar baat,
Iss taur bhi hogi teri ruswaai zara aur.

Kyon tark-e-taalluq bhi kiya laut bhi aaya?
Achchha tha ki hota jo wo harjaai zara aur.

Hai deep teri yaad ka roshan abhi dil mein,
Ye khauf hai lekin jo hawa aayi zara aur.

Ladna wahin dushman se jahan gher sako tum,
Jeetoge tabhi hogi jo paspaai zara aur.

Badh jayenge kuch aur lahoo bechne waale,
Ho jaaye agar shehar mein mehngaai zara aur.

Ek doobti dhadkan ki sadaa log na sun lein,
Kuch der ko bajne do ye shehnaai zara aur. !!

हो जायेगी जब तुम से शनासाई ज़रा और,
बढ़ जायेगी शायद मेरी तन्हाई ज़रा और !

क्यों खुल गए लोगों पे मेरी ज़ात के असरार,
ऐ काश की होती मेरी गहराई ज़रा और !

फिर हाथ पे ज़ख्मों के निशान गिन न सकोगे,
ये उलझी हुई डोर जो सुलझाई ज़रा और !

तरदीद तो कर सकता था फैलेगी मगर बात,
इस तौर भी होगी तेरी रुसवाई ज़रा और !

क्यों तर्क-ए-ताल्लुक़ भी किया लौट भी आया ?
अच्छा था कि होता जो वो हरजाई ज़रा और !

है दीप तेरी याद का रोशन अभी दिल में,
ये खौफ है लेकिन जो हवा आई ज़रा और !

लड़ना वही दुश्मन से जहाँ घेर सको तुम,
जीतोगे तभी होगी जो पासपाई ज़रा और !

बढ़ जायेंगे कुछ और लहू बेचने वाले,
हो जाए अगर शहर में महंगाई ज़रा और !

एक डूबती धड़कन की सदा लोग न सुन लें,
कुछ देर को बजने दो ये शेहनाई ज़रा और !!