Wednesday , April 8 2020

Yaad Shayari

Apni Tanhai Mere Naam Pe Aabaad Kare..

Apni tanhai mere naam pe aabaad kare,
Kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare.

Dil ajab shahr ki jis par bhi khula dar is ka,
Wo musafir ise har samt se barbaad kare.

Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roz ek maut naye tarz ki ijad kare.

Itna hairan ho meri be-talabi ke aage,
Wa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare.

Salb-e-binai ke ahkaam mile hain jo kabhi,
Raushni chhune ki khwahish koi shab-zad kare.

Soch rakhna bhi jaraem mein hai shamil ab to,
Wahi masum hai har baat pe jo sad kare.

Jab lahu bol pade us ke gawahon ke khilaf,
Qazi-e-shahr kuchh is bab mein irshad kare.

Us ki mutthi mein bahut roz raha mera wajud,
Mere sahir se kaho ab mujhe aazad kare. !!

अपनी तन्हाई मेरे नाम पे आबाद करे,
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे !

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का,
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे !

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज़ एक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे !

इतना हैराँ हो मेरी बे-तलबी के आगे,
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मेरा सय्याद करे !

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी,
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे !

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो,
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे !

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़,
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे !

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद,
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Bahut Roya Wo Humko Yaad Kar Ke..

Bahut roya wo humko yaad kar ke,
Hamari zindagi barbaad kar ke.

Palat kar phir yahin aa jayenge hum,
Wo dekhe to hamein aazad kar ke.

Rihai ki koi surat nahi hai,
Magar han minnat-e-sayyaad kar ke.

Badan mera chhua tha us ne lekin,
Gaya hai ruh ko aabaad kar ke.

Har aamir tul dena chahta hai,
Muqarrar zulm ki miad kar ke. !!

बहुत रोया वो हमको याद कर के,
हमारी ज़िंदगी बरबाद कर के !

पलट कर फिर यहीं आ जाएँगे हम,
वो देखे तो हमें आज़ाद कर के !

रिहाई की कोई सूरत नहीं है,
मगर हाँ मिन्नत-ए-सय्याद कर के !

बदन मेरा छुआ था उस ने लेकिन,
गया है रूह को आबाद कर के !

हर आमिर तूल देना चाहता है,
मुक़र्रर ज़ुल्म की मीआद कर के !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Kabhi Khud Pe Kabhi Halat Pe Rona Aaya..

abhi khud pe kabhi halat pe rona aaya

Kabhi khud pe kabhi halat pe rona aaya,
Baat nikli to har ek baat pe rona aaya.

Hum to samjhe the ki hum bhul gaye hain un ko,
Kya hua aaj ye kis baat pe rona aaya.

Kis liye jite hain hum kis ke liye jite hain,
Barha aise sawalat pe rona aaya.

Kaun rota hai kisi aur ki khatir aye dost,
Sab ko apni hi kisi baat pe rona aaya. !!

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया,
बात निकली तो हर इक बात पे रोना आया !

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया !

किस लिए जीते हैं हम किस के लिए जीते हैं,
बारहा ऐसे सवालात पे रोना आया !

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari  Collection

 

Koi Na Jaan Saka Wo Kaha Se Aaya Tha..

Koi na jaan saka wo kaha se aaya tha,
Aur usne dhoop se badal ko kyon milaya tha.

Ye baat logon ko shayad pasand aayi nahi,
Makaan chhota tha lekin bahut sajaya tha.

Wo ab wahan hain jahan raste nahi jate,
Main jiske saath yahaan pichhle saal aaya tha.

Suna hai uspe chahakne lage parinde bhi,
Wo ek pauda jo hamne kabhi lagaya tha.

Chiraagh doob gaye Kapkapaye honton par,
Kisi ka haath humaare labon tak aaya tha.

Badan ko chhod ke jana hai aasman ki taraf,
Samandaron ne hamein ye sabaq padaya tha.

Tamaam umar mera dam isi dhuein mein ghuta,
Wo ek chiraagh tha maine use bujhaaya tha. !!

कोई न जान सका वो कहाँ से आया था,
और उसने धुप से बादल को क्यों मिलाया था !

यह बात लोगों को शायद पसंद आयी नहीं,
मकान छोटा था लेकिन बहुत सजाया था !

वो अब वहाँ हैं जहाँ रास्ते नहीं जाते,
मैं जिसके साथ यहाँ पिछले साल आया था !

सुना है उस पे चहकने लगे परिंदे भी,
वो एक पौधा जो हमने कभी लगाया था !

चिराग़ डूब गए कपकपाये होंठों पर,
किसी का हाथ हमारे लबों तक आया था !

तमाम उम्र मेरा दम इसी धुएं में घुटा,
वो एक चिराग़ था मैंने उसे बुझाया था !! -Bashir Badr Ghazal

 

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal