Home / Yaad Shayari

Yaad Shayari

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Itna kyun sharmate hain..

Itna kyun sharmate hain,
Wade aakhir wade hain.

Likha likhaya dho dala,
Sare waraq phir sade hain.

Tujh ko bhi kyun yaad rakha,
Soch ke ab pachhtate hain.

Ret mahal do chaar bache,
Ye bhi girne wale hain.

Jayen kahin bhi tujh ko kya,
Shehar se tere jate hain.

Ghar ke andar jaane ke,
Aur kai darwaze hain.

Ungli pakad ke sath chale,
Daud mein hum se aage hain. !!

इतना क्यूँ शरमाते हैं,
वादे आख़िर वादे हैं !

लिखा लिखाया धो डाला,
सारे वरक़ फिर सादे हैं !

तुझ को भी क्यूँ याद रखा,
सोच के अब पछताते हैं !

रेत महल दो चार बचे,
ये भी गिरने वाले हैं !

जाएँ कहीं भी तुझ को क्या,
शहर से तेरे जाते हैं !

घर के अंदर जाने के,
और कई दरवाज़े हैं !

उँगली पकड़ के साथ चले,
दौड़ में हम से आगे हैं !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Itni muddat baad mile ho..

Itni muddat baad mile ho,
Kin sochon mein gum phirte ho.

Itne khaif kyun rahte ho,
Har aahat se dar jate ho.

Tez hawa ne mujh se puchha,
Ret pe kya likhte rahte ho.

Kash koi hum se bhi puchhe,
Raat gaye tak kyun jage ho.

Main dariya se bhi darta hun,
Tum dariya se bhi gahre ho.

Kaun si baat hai tum mein aisi,
Itne achchhe kyun lagte ho.

Pichhe mud kar kyun dekha tha,
Patthar ban kar kya takte ho.

Jao jit ka jashn manao,
Main jhutha hun tum sachche ho.

Apne shehar ke sab logon se,
Meri khatir kyun uljhe ho.

Kahne ko rahte ho dil mein,
Phir bhi kitne dur khade ho.

Raat hamein kuchh yaad nahi tha,
Raat bahut hi yaad aaye ho.

Hum se na puchho hijr ke kisse,
Apni kaho ab tum kaise ho.

“Mohsin” tum badnam bahut ho,
Jaise ho phir bhi achchhe ho. !!

इतनी मुद्दत बाद मिले हो,
किन सोचों में गुम फिरते हो !

इतने ख़ाइफ़ क्यूँ रहते हो,
हर आहट से डर जाते हो !

तेज़ हवा ने मुझ से पूछा,
रेत पे क्या लिखते रहते हो !

काश कोई हम से भी पूछे,
रात गए तक क्यूँ जागे हो !

में दरिया से भी डरता हूँ,
तुम दरिया से भी गहरे हो !

कौन सी बात है तुम में ऐसी,
इतने अच्छे क्यूँ लगते हो !

पीछे मुड़ कर क्यूँ देखा था,
पत्थर बन कर क्या तकते हो !

जाओ जीत का जश्न मनाओ,
में झूठा हूँ तुम सच्चे हो !

अपने शहर के सब लोगों से,
मेरी ख़ातिर क्यूँ उलझे हो !

कहने को रहते हो दिल में,
फिर भी कितने दूर खड़े हो !

रात हमें कुछ याद नहीं था,
रात बहुत ही याद आए हो !

हम से न पूछो हिज्र के क़िस्से,
अपनी कहो अब तुम कैसे हो !

“मोहसिन” तुम बदनाम बहुत हो,
जैसे हो फिर भी अच्छे हो !!

 

Aabshaaron ki yaad aati hai

Aabshaaron ki yaad aati hai,
Phir kinaron ki yaad aati hai.

Jo nahi hain magar unhin se hun,
Un nazaron ki yaad aati hai.

Zakhm pahle ubhar ke aate hain,
Phir hazaron ki yaad aati hai.

Aaine mein nihaar kar khud ko,
Kuchh ishaaron ki yaad aati hai.

Aur to mujh ko yaad kya aata,
Un pukaron ki yaad aati hai.

Aasman ki siyah raaton ko,
Ab sitaron ki yaad aati hai. !!

आबशारों की याद आती है,
फिर किनारों की याद आती है !

जो नहीं हैं मगर उन्हीं से हूँ,
उन नज़ारों की याद आती है !

ज़ख़्म पहले उभर के आते हैं,
फिर हज़ारों की याद आती है !

आइने में निहार कर ख़ुद को,
कुछ इशारों की याद आती है !

और तो मुझ को याद क्या आता,
उन पुकारों की याद आती है !

आसमाँ की सियाह रातों को,
अब सितारों की याद आती है !!

 

Phir meri yaad aa rahi hogi..

Phir meri yaad aa rahi hogi,
Phir wo dipak bujha rahi hogi.

Phir mere facebook pe aa kar wo,
Khud ko banner bana rahi hogi.

Apne bete ka chum kar matha,
Mujh ko tika laga rahi hogi.

Phir usi ne use chhua hoga,
Phir usi se nibha rahi hogi.

Jism chadar sa bichh gaya hoga,
Ruh silwat hata rahi hogi.

Phir se ek raat kat gayi hogi,
Phir se ek raat aa rahi hogi. !!

फिर मेरी याद आ रही होगी,
फिर वो दीपक बुझा रही होगी !

फिर मेरे फेसबुक पे आ कर वो,
ख़ुद को बैनर बना रही होगी !

अपने बेटे का चूम कर माथा,
मुझ को टीका लगा रही होगी !

फिर उसी ने उसे छुआ होगा,
फिर उसी से निभा रही होगी !

जिस्म चादर सा बिछ गया होगा,
रूह सिलवट हटा रही होगी !

फिर से एक रात कट गई होगी,
फिर से एक रात आ रही होगी !!