Friday , April 10 2020

Watan Shayari

Ab Koi Gulshan Na Ujde Ab Watan Azad Hai..

Ab koi gulshan na ujde ab watan azad hai,
Ruh ganga ki himala ka badan azad hai.

Khetiyan sona ugayen wadiyan moti lutayen,
Aaj gautam ki zamin tulsi ka ban azad hai.

Mandiron mein sankh baje masjidon mein ho azan,
Shaikh ka dharm aur din-e-barhaman azad hai.

Lut kaisi bhi ho ab is desh mein rahne na paye,
Aaj sab ke waste dharti ka dhan azad hai. !!

अब कोई गुलशन न उजड़े अब वतन आज़ाद है,
रूह गंगा की हिमाला का बदन आज़ाद है !

खेतियाँ सोना उगाएँ वादियाँ मोती लुटाएँ,
आज गौतम की ज़मीं तुलसी का बन आज़ाद है !

मंदिरों में संख बाजे मस्जिदों में हो अज़ाँ,
शैख़ का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है !

लूट कैसी भी हो अब इस देश में रहने न पाए,
आज सब के वास्ते धरती का धन आज़ाद है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Chamakte Lafz Sitaron Se Chhin Laye Hain..

Chamakte lafz sitaron se chhin laye hain,
Hum aasman se ghazal ki zamin laye hain.

Woh aur honge jo khanjar chhupa ke laate hain,
Hum apne sath phati aastin laye hain.

Hamari baat ki gehrayi khak samjhenge,
Jo parbaton ke liye khurdbin laye hain.

Hanso na hum pe ki hum badnasib banjare,
Saron pe rakh ke watan ki zamin laye hain.

Mere qabile ke bachchon ke khel bhi hain ajib,
Kisi sipahi ki talwar chhin laye hain. !!

चमकते लफ्ज़ सितारों से छीन लाए हैं,
हम आसमाँ से ग़ज़ल की ज़मीन लाए हैं !

वो और होंगे जो खंजर छुपा के लाते हैं,
हम अपने साथ फटी आस्तीन लाए हैं !

हमारी बात की गहराई ख़ाक समझेंगे,
जो पर्बतों के लिए खुर्दबीन लाए हैं !

हँसो न हम पे कि हर बद-नसीब बंजारे,
सरों पे रख के वतन की ज़मीन लाए हैं !

मेरे क़बीले के बच्चों के खेल भी हैं अजीब,
किसी सिपाही की तलवार छीन लाए हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!

 

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !

Aakhiri mulaqat..

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!