Home / Waqt Shayari

Waqt Shayari

Aankh se dur na ho dil se utar jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz”,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़”,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

 

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Ujde hue logon se gurezan na hua kar..

Ujde hue logon se gurezan na hua kar,
Haalat ki qabron ke ye katbe bhi padha kar.

Kya jaaniye kyun tez hawa soch mein gum hai,
Khwabida parindon ko darakhton se uda kar.

Us shakhs ke tum se bhi marasim hain to honge,
Wo jhooth na bolega mere samne aa kar.

Har waqt ka hansna tujhe barbaad na kar de,
Tanhai ke lamhon mein kabhi ro bhi liya kar.

Wo aaj bhi sadiyon ki masafat pe khada hai,
Dhunda tha jise waqt ki diwar gira kar.

Aye dil tujhe dushman ki bhi pahchan kahan hai,
Tu halqa-e-yaran mein bhi mohtat raha kar.

Is shab ke muqaddar mein sahar hi nahi “Mohsin”,
Dekha hai kai bar charaghon ko bujha kar. !!

उजड़े हुए लोगों से गुरेज़ाँ न हुआ कर,
हालात की क़ब्रों के ये कतबे भी पढ़ा कर !

क्या जानिए क्यूँ तेज़ हवा सोच में गुम है,
ख़्वाबीदा परिंदों को दरख़्तों से उड़ा कर !

उस शख़्स के तुम से भी मरासिम हैं तो होंगे,
वो झूठ न बोलेगा मेरे सामने आ कर !

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे,
तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर !

वो आज भी सदियों की मसाफ़त पे खड़ा है,
ढूँडा था जिसे वक़्त की दीवार गिरा कर !

ऐ दिल तुझे दुश्मन की भी पहचान कहाँ है,
तू हल्क़ा-ए-याराँ में भी मोहतात रहा कर !

इस शब के मुक़द्दर में सहर ही नहीं “मोहसिन”,
देखा है कई बार चराग़ों को बुझा कर !!

 

Aap apna ghubar the hum to..

Aap apna ghubar the hum to,
Yaad the yaadgar the hum to.

Pardagi hum se kyun rakha parda,
Tere hi parda-dar the hum to.

Waqt ki dhup mein tumhare liye,
Shajar-e-saya-dar the hum to.

Ude jate hain dhul ke maanind,
Aandhiyon par sawar the hum to.

Hum ne kyun khud pe aitbaar kiya,
Sakht be-aitbaar the hum to.

Sharam hai apni baar baari ki,
Be-sabab baar baar the hum to.

Kyun hamein kar diya gaya majboor,
Khud hi be-ikhtiyar the hum to.

Tum ne kaise bhula diya hum ko,
Tum se hi mustaar the hum to.

Khush na aaya hamein jiye jaana,
Lamhe lamhe pe bar the hum to.

Seh bhi lete hamare taanon ko,
Jaan-e-man jaan-nisar the hum to.

Khud ko dauran-e-haal mein apne,
Be-tarah nagawaar the hum to.

Tum ne hum ko bhi kar diya barbaad,
Naadir-e-rozgaar the hum to.

Hum ko yaaron ne yaad bhi na rakha,
“Jaun” yaaron ke yaar the hum to. !!

आप अपना ग़ुबार थे हम तो,
याद थे यादगार थे हम तो !

पर्दगी हम से क्यूँ रखा पर्दा,
तेरे ही पर्दा-दार थे हम तो !

वक़्त की धूप में तुम्हारे लिए,
शजर-ए-साया-दार थे हम तो !

उड़े जाते हैं धूल के मानिंद,
आँधियों पर सवार थे हम तो !

हम ने क्यूँ ख़ुद पे ऐतबार किया,
सख़्त बे-ऐतबार थे हम तो

शर्म है अपनी बार बारी की,
बे-सबब बार बार थे हम तो !

क्यूँ हमें कर दिया गया मजबूर,
ख़ुद ही बे-इख़्तियार थे हम तो !

तुम ने कैसे भुला दिया हम को,
तुम से ही मुस्तआ’र थे हम तो !

ख़ुश न आया हमें जिए जाना,
लम्हे लम्हे पे बार थे हम तो !

सह भी लेते हमारे ता’नों को,
जान-ए-मन जाँ-निसार थे हम तो !

ख़ुद को दौरान-ए-हाल में अपने,
बे-तरह नागवार थे हम तो !

तुम ने हम को भी कर दिया बरबाद,
नादिर-ए-रोज़गार थे हम तो !

हम को यारों ने याद भी न रखा,
“जॉन” यारों के यार थे हम तो !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!

 

Waqt ki umar kya badi hogi..

Waqt ki umar kya badi hogi,
Ek tere wasl ki ghadi hogi.

Dastaken de rahi hai palkon par,
Koi barsat ki jhadi hogi.

Kya khabar thi ki nok-e-khanjar bhi,
Phool ki ek pankhudi hogi.

Zulf bal kha rahi hai mathe par,
Chandni se saba ladi hogi.

Aye adam ke musafiro hushyar,
Raah mein zindagi khadi hogi

Kyun girah gesuon mein dali hai,
Jaan kisi phool ki adi hogi.

Iltija ka malal kya kije,
Un ke dar par kahin padi hogi.

Maut kahte hain jis ko aye “Saghar”,
Zindagi ki koi kadi hogi. !!

वक़्त की उम्र क्या बड़ी होगी,
एक तेरे वस्ल की घड़ी होगी !

दस्तकें दे रही है पलकों पर,
कोई बरसात की झड़ी होगी !

क्या ख़बर थी कि नोक-ए-ख़ंजर भी,
फूल की एक पंखुड़ी होगी !

ज़ुल्फ़ बल खा रही है माथे पर,
चाँदनी से सबा लड़ी होगी !

ऐ अदम के मुसाफ़िरो हुश्यार,
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी !

क्यूँ गिरह गेसुओं में डाली है,
जाँ किसी फूल की अड़ी होगी !

इल्तिजा का मलाल क्या कीजे,
उन के दर पर कहीं पड़ी होगी !

मौत कहते हैं जिस को ऐ “साग़र”,
ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी !!