Home / Wafa Shayari

Wafa Shayari

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta..

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta,
Ye uthte baithte zikr-e-wafa achchha nahi lagta.

Jahan le jaana hai le jaye aa kar ek phere mein,
Ki har dam ka taqaza-e-hawa achchha nahi lagta.

Samajh mein kuchh nahi aata samundar jab bulata hai,
Kisi sahil ka koi mashwara achchha nahi lagta.

Jo hona hai so donon jaante hain phir shikayat kya,
Ye be-masraf khaton ka silsila achchha nahi lagta.

Ab aise hone ko baaten to aisi roz hoti hain,
Koi jo dusra bole zara achchha nahi lagta.

Hamesha hans nahi sakte ye to hum bhi samajhte hain,
Har ek mahfil mein munh latka hua achchha nahi lagta. !!

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता,
ये उठते बैठते ज़िक्र-ए-वफ़ा अच्छा नहीं लगता !

जहाँ ले जाना है ले जाए आ कर एक फेरे में,
कि हर दम का तक़ाज़ा-ए-हवा अच्छा नहीं लगता !

समझ में कुछ नहीं आता समुंदर जब बुलाता है,
किसी साहिल का कोई मशवरा अच्छा नहीं लगता !

जो होना है सो दोनों जानते हैं फिर शिकायत क्या,
ये बे-मसरफ़ ख़तों का सिलसिला अच्छा नहीं लगता !

अब ऐसे होने को बातें तो ऐसी रोज़ होती हैं,
कोई जो दूसरा बोले ज़रा अच्छा नहीं लगता !

हमेशा हँस नहीं सकते ये तो हम भी समझते हैं,
हर एक महफ़िल में मुँह लटका हुआ अच्छा नहीं लगता !!

 

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin”,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन”,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!

 

Wo bulayen to kya tamasha ho..

Wo bulayen to kya tamasha ho,
Hum na jayen to kya tamasha ho.

Ye kinaron se khailne wale,
Dub jayen to kya tamasha ho.

Banda-parwar jo hum pe guzri hai,
Hum batayen to kya tamasha ho.

Aaj hum bhi teri wafaon par,
Muskurayen to kya tamasha ho.

Teri surat jo Ittifaq se hum,
Bhul jayen to kya tamasha ho.

Waqt ki chand saaten “Saghar”,
Laut ayen to kya tamasha ho. !!

वो बुलाएँ तो क्या तमाशा हो,
हम न जाएँ तो क्या तमाशा हो !

ये किनारों से खेलने वाले,
डूब जाएँ तो क्या तमाशा हो !

बंदा-पर्वर जो हम पे गुज़री है,
हम बताएँ तो क्या तमाशा हो !

आज हम भी तेरी वफाओं पर,
मुस्कुराएँ तो क्या तमाशा हो !

तेरी सूरत जो इत्तिफ़ाक़ से हम,
भूल जाएँ तो क्या तमाशा हो !

वक़्त की चंद साअ’तें “सागर”,
लौट आएं तो क्या तमाशा हो !!

 

Wafa mein ab ye hunar ikhtiyar karna hai..

Wafa mein ab ye hunar ikhtiyar karna hai,
Wo sach kahe na kahe aitebaar karna hai.

Ye tujh ko jagte rahne ka shouq kab se hua,
Mujhe to khair tera intezar karna hai.

Hawa ki zad mein jalne hain aansoon ke chiraagh,
Kabhi ye jashan sar-e-rah guzaar karna hai.

Wo muskura ke naye wishwason mein dhal gaya,
Khayal tha ke use sharam saar karna hai.

Misaal-e-shaakh-e-barhana khizan ke rut mein kabhi,
Khud apne jism ko be-barg-o-baar karna hai.

Tere firaaq mein din kis tarah kattein apne,
Ke shugal-e-shab to sitare shumaar karna hai.

Chalo ye ashk hi moti samajh ke baich aaye,
Kisi tarah to hame rozgaar karna hai.

Kabhi to dil mein chupe zakhm bhi numayaan hun,
Qaba samajh ke badan taar taar karna hai.

Khuda jane ye koi zid ke shouq hai “Mohsin”,
Khud apni jaan ke dushman se pyar karna hai. !!

वफ़ा में अब ये हुनर इख़्तियार करना है,
वह सच कहें न कहे ऐतबार करना है !

ये तुझ को जागते रहने का शौक़ कब से हुआ,
मुझे तो खैर तेरा इंतज़ार करना है !

हवा की ज़द में जलने हैं आंसुओं के चिराग,
कभी ये जश्न सर-ए-राह गुजार करना है !

वह मुस्कुरा के नए विश्वासों में ढल गया,
ख्याल था कि उसे शर्म सार करना है !

मिसाल-ए-शाख-ए-बढ़ाना खिज़ां के रुत में कभी,
खुद अपने जिस्म को बेबर्ग-ओ-बार करना है !

तेरे फ़िराक में दिन किस तरह कटें अपने,
के सहगल-ए-शब तो सितारे शुमार करना है !

चलो ये अश्क ही मोती समझ के बेच आये,
किसी तरह तो हमे रोज़गार करना है !

कभी तो दिल में छुपे ज़ख्म भी नुमायां हों,
क़बा समझ के बदन तार तार करना है !

खुदा जाने ये कोई ज़िद के शौक है “मोहसिन”,
खुद अपनी जान के दुश्मन से प्यार करना है !!

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad..

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad,
Raah mein sang-e-wafa tha shayad.

Is qadar tez hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayad.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayad.

Log be-mehr na hote honge,
Waham sa dil ko hua tha shayad.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-dua tha shayad.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayad.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-ada,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayad !!

घर का रास्ता भी मिला था शायद,
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!