Home / Wada Shayari

Wada Shayari

Itna kyun sharmate hain..

Itna kyun sharmate hain,
Wade aakhir wade hain.

Likha likhaya dho dala,
Sare waraq phir sade hain.

Tujh ko bhi kyun yaad rakha,
Soch ke ab pachhtate hain.

Ret mahal do chaar bache,
Ye bhi girne wale hain.

Jayen kahin bhi tujh ko kya,
Shehar se tere jate hain.

Ghar ke andar jaane ke,
Aur kai darwaze hain.

Ungli pakad ke sath chale,
Daud mein hum se aage hain. !!

इतना क्यूँ शरमाते हैं,
वादे आख़िर वादे हैं !

लिखा लिखाया धो डाला,
सारे वरक़ फिर सादे हैं !

तुझ को भी क्यूँ याद रखा,
सोच के अब पछताते हैं !

रेत महल दो चार बचे,
ये भी गिरने वाले हैं !

जाएँ कहीं भी तुझ को क्या,
शहर से तेरे जाते हैं !

घर के अंदर जाने के,
और कई दरवाज़े हैं !

उँगली पकड़ के साथ चले,
दौड़ में हम से आगे हैं !!

 

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir”,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर”,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!

Jaane kya dekha tha maine khwab mein..

Jaane kya dekha tha maine khwab mein,
Phans gaya phir jism ke girdab mein.

Tera kya tu to baras ke khul gaya,
Mera sab kuchh bah gaya sailab mein.

Meri ankhon ka bhi hissa hai bahut,
Tere is chehre ki ab-o-tab mein.

Tujh mein aur mujh mein taalluq hai wahi,
Hai jo rishta saaz aur mizrab mein.

Mera wada hai ki saari zindagi,
Tujh se main milta rahunga khwab mein. !!

जाने क्या देखा था मैं ने ख़्वाब में,
फँस गया फिर जिस्म के गिर्दाब में !

तेरा क्या तू तो बरस के खुल गया,
मेरा सब कुछ बह गया सैलाब में !

मेरी आँखों का भी हिस्सा है बहुत,
तेरे इस चेहरे की आब-ओ-ताब में !

तुझ में और मुझ में तअल्लुक़ है वही,
है जो रिश्ता साज़ और मिज़राब में !

मेरा वादा है कि सारी ज़िंदगी,
तुझ से मैं मिलता रहूँगा ख़्वाब में !!