Home / Urdu Shayari

Urdu Shayari

Hans ke bola karo bulaya karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam”,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम”,
उस गली में बहुत न जाया करो !!

 

Jab tere nain muskuraate hain..

Jab tere nain muskuraate hain,
Zist ke ranj bhul jate hain.

Kyun shikan dalte ho mathe par,
Bhul kar aa gaye hain jate hain.

Kashtiyan yun bhi dub jati hain,
Nakhuda kis liye daraate hain.

Ek hasin aankh ke ishaare par,
Qafile rah bhul jate hain. !!

जब तेरे नैन मुस्कुराते हैं,
ज़ीस्त के रंज भूल जाते हैं !

क्यूँ शिकन डालते हो माथे पर,
भूल कर आ गए हैं जाते हैं !

कश्तियाँ यूँ भी डूब जाती हैं,
नाख़ुदा किस लिए डराते हैं !

एक हसीं आँख के इशारे पर,
क़ाफ़िले राह भूल जाते हैं !!

Girte hain log garmi-e-bazar dekh kar..

Girte hain log garmi-e-bazar dekh kar,
Sarkar dekh kar meri sarkar dekh kar.

Aawargi ka shouk bhadakta hai aur bhi,
Teri gali ka saya-e-diwar dekh kar.

Taskin-e-dil ki ek hi tadbir hai faqat,
Sar phod lijiye koi diwar dekh kar.

Hum bhi gaye hain hosh se saqi kabhi kabhi,
Lekin teri nigah ke atwar dekh kar.

Kya mustaqil ilaj kiya dil ke dard ka,
Wo muskura diye mujhe bimar dekh kar.

Dekha kisi ki samt to kya ho gaya “Adam”,
Chalte hain rah-rau sar-e-bazar dekh kar. !!

गिरते हैं लोग गर्मी-ए-बाजार देख कर,
सरकार देख कर मेरी सरकार देख कर !

आवारगी का शौक भडकता है और भी,
तेरी गली का साया-ए-दीवार देख कर !

तस्कीन-ए-दिल की एक ही तद्बीर है फ़क़त,
सर फोड़ लीजिए कोई दीवार देख कर !

हम भी गए हैं होश से साक़ी कभी कभी,
लेकिन तेरी निग़ाह के ऐतवार देख कर !

क्या मुश्तकिल इलाज किया दिल के दर्द का,
वो मुस्कुरा दिए मुझे बीमार देख कर !

देखा किसी की सिम्त तो क्या हो गया “अदम”,
चलते हैं राह-रो सर-ए-बाजार देख कर !!

 

Khairaat sirf itni mili hai hayat se..

Khairaat sirf itni mili hai hayat se,
Pani ki bund jaise ata ho furaat se.

Shabnam isi junun mein azal se hai sina-kub,
Khurshid kis maqam pe milta hai raat se.

Nagah ishq waqt se aage nikal gaya,
Andaza kar rahi hai khirad waqiyat se.

Su-e-adab na thahre to dein koi mashwara,
Hum mutmain nahi hain teri kayenat se.

Sakit rahein to hum hi thaharte hain ba-qusur,
Bolen to baat badhti hai chhoti si baat se.

Aasan-pasandiyon se ijazat talab karo,
Rasta bhara hua hai “Adam” mushkilat se. !!

खैरात सिर्फ इतनी मिली है हयात से,
पानी की बूँद जैसे अता हो फुरात से !

शबनम इसी जूनून में अज़ल से है सीना-खूब,
खुर्शीद किस मक़ाम पे मिलता है रात से !

नगाह इश्क़ वक़्त से आगे निकल गया,
अंदाजा कर रही है ख़िरद वाक़्यात से !

सू-ए–अदब न ठहरे तो देँ कोई मश्वरा,
हम मुत्मइन नहीं हैं तेरी कायनात से !

साकित रहें तो हम ही ठहरते हैं बा-क़ुसूर,
बोलें तो बात बढ़ती है छोटी सी बात से !

आसान-पसंदियों से इजाज़त तलब करो,
रास्ता भरा हुआ है “अदम” मुश्किलात से !!

 

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka..

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka,
Ki ban ke tut gaya ek habab pani ka.

Mila hai saqi to roushan hua hai ye mujh par,
Ki hazf tha koi tukda meri kahani ka.

Mujhe bhi chehre pe raunaq dikhayi deti hai,
Ye moajiza hai tabibon ki khush-bayani ka.

Hai dil mein ek hi khwahish wo dub jaane ki,
Koi shabab koi husn hai rawani ka.

Libas-e hashr mein kuchh ho to aur kya hoga,
Bujha sa ek chhanaka teri jawani ka.

Karam ke rang nihayat ajeeb hote hain,
Sitam bhi ek tariqa hai meharbani ka.

“Adam” bahaar ke mausam ne khud-kushi kar li,
Khula jo rang kisi jism-e arghawani ka. !!

बस इस क़दर है खुलासा मेरी कहानी का,
कि बन के टूट गया एक हबाब पानी का !

मिला है साक़ी तो रोशन हुआ है ये मुझ पर,
की हज़्फ़ था कोई टुकड़ा मेरी कहानी का !

मुझे भी चेहरे पे रौनक दिखाई देती है,
ये मोजिज़ा है तबीबों की खुश-बयानी का !

है दिल में एक ही ख्वाहिश वो डूब जाने की,
कोई शबाब कोई हुस्न है रवानी का !

लिबास-ए-हष्र में कुछ हो तो और क्या होगा,
बुझा सा एक छनाका तेरी जवानी का !

करम के रंग निहायत अजीब होते हैं,
सितम भी एक तरीका है मेहरबानी का !

“अदम” बहार के मौसम ने ख़ुद-कुशी कर ली,
खुला जो रंग किसी जिस्म-ए-आर्गावानी का !!

 

Ek nazm-danish war kahlane walo..

Danish-war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

 

Tu mera hai..

Tu mera hai,
Tere man mein chhupe hue sab dukh mere hain,
Teri aankh ke aansu mere,
Tere labon pe nachne wali ye masum hansi bhi meri..

Tu mera hai,
Har wo jhonka,
Jis ke lams ko,
Apne jism pe tu ne bhi mahsus kiya hai..

Pahle mere hathon ko,
Chhu kar guzra tha,
Tere ghar ke darwaze par,
Dastak dene wala..

Har wo lamha jis mein,
Tujh ko apni tanhai ka,
Shiddat se ehsas hua tha,
Pahle mere ghar aaya tha..

Tu mera hai,
Tera mazi bhi mera tha,
Aane wali har saat bhi meri hogi,
Tere tapte aariz ki dopahar hai meri..

Sham ki tarah gahre gahre ye palkon saye hain mere,
Tere siyah baalon ki shab se dhup ki surat,
Wo subhen jo kal jagengi,
Meri hongi..

Tu mera hai,
Lekin tere sapnon mein bhi aate hue ye dar lagta hai,
Mujh se kahin tu puchh na baithe,
Kyun aaye ho,
Mera tum se kya nata hai.. !!

तू मेरा है,
तेरे मन में छुपे हुए सब दुख मेरे हैं,
तेरी आँख के आँसू मेरे,
तेरे लबों पे नाचने वाली ये मासूम हँसी भी मेरी..

तू मेरा है,
हर वो झोंका,
जिस के लम्स को,
अपने जिस्म पे तू ने भी महसूस किया है..

पहले मेरे हाथों को,
छू कर गुज़रा था,
तेरे घर के दरवाज़े पर,
दस्तक देने वाला..

हर वो लम्हा जिस में,
तुझ को अपनी तन्हाई का,
शिद्दत से एहसास हुआ था,
पहले मेरे घर आया था..

तू मेरा है,
तेरा माज़ी भी मेरा था,
आने वाली हर साअत भी मेरी होगी,
तेरे तपते आरिज़ की दोपहर है मेरी..

शाम की तरह गहरे गहरे ये पलकों साए हैं मेरे,
तेरे सियाह बालों की शब से धूप की सूरत,
वो सुब्हें जो कल जागेंगी,
मेरी होंगी..

तू मेरा है ,
लेकिन तेरे सपनों में भी आते हुए ये डर लगता है,
मुझ से कहीं तू पूछ न बैठे,
क्यूँ आए हो,
मेरा तुम से क्या नाता है.. !!