Thursday , April 9 2020

Urdu Shayari

Aam Ho Faiz-E-Bahaaran To Maza Aa Jaye..

Aam ho faiz-e-bahaaran to maza aa jaye,
Chaak hon sab ke gareban to maza aa jaye.

Waizo main bhi tumhaari hi tarah masjid mein,
Bech dun daulat-e-iman to maza aa jaye.

Kaisi kaisi hai shab-e-tar yahan chin-ba-jabin,
Subh ek roz ho khandan to maza aa jaye.

Saqiya hai teri mehfil mein khudaon ka hujum,
Mahfil-afroz ho inshan to maza aa jaye. !!

आम हो फ़ैज़-ए-बहाराँ तो मज़ा आ जाए,
चाक हों सब के गरेबाँ तो मज़ा आ जाए !

वाइज़ो मैं भी तुम्हारी ही तरह मस्जिद में,
बेच दूँ दौलत-ए-ईमाँ तो मज़ा आ जाए !

कैसी कैसी है शब-ए-तार यहाँ चीं-ब-जबीं,
सुब्ह इक रोज़ हो ख़ंदाँ तो मज़ा आ जाए !

साक़िया है तिरी महफ़िल में ख़ुदाओं का हुजूम,
महफ़िल-अफ़रोज़ हो इंसाँ तो मज़ा आ जाए !!

Abid Ali Abid All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ye Kya Tilism Hai Duniya Pe Bar Guzri Hai

Ye kya tilism hai duniya pe bar guzri hai,
Wo zindagi jo sar-e-rahguzar guzri hai.

Gulon ki gum-shudagi se suragh milta hai,
Kahin chaman se nasim-e-bahaar guzri hai.

Kahin sahar ka ujala hua hai ham-nafaso,
Ki mauj-e-barq sar-e-shakh-sar guzri hai.

Raha hai ye sar-e-shorida misl-e-shola buland,
Agarche mujh pe qayamat hazar guzri hai.

Ye hadisa bhi hua hai ki ishq-e-yar ki yaad,
Dayar-e-qalb se begana-war guzri hai.

Unhin ko arz-e-wafa ka tha ishtiyaq bahut,
Unhin ko arz-e-wafa na-gawar guzri hai.

Harim-e-shauq mahakta hai aaj tak “Abid“,
Yahan se nikhat-e-gesu-e-yar guzri hai. !!

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है,
वो ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़ार गुज़री है !

गुलों की गुम-शुदगी से सुराग़ मिलता है,
कहीं चमन से नसीम-ए-बहार गुज़री है !

कहीं सहर का उजाला हुआ है हम-नफ़सो,
कि मौज-ए-बर्क़ सर-ए-शाख़-सार गुज़री है !

रहा है ये सर-ए-शोरीदा मिस्ल-ए-शोला बुलंद,
अगरचे मुझ पे क़यामत हज़ार गुज़री है !

ये हादिसा भी हुआ है कि इश्क़-ए-यार की याद,
दयार-ए-क़ल्ब से बेगाना-वार गुज़री है !

उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा का था इश्तियाक़ बहुत,
उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा ना-गवार गुज़री है !

हरीम-ए-शौक़ महकता है आज तक “आबिद“,
यहाँ से निकहत-ए-गेसू-ए-यार गुज़री है !!

 

Apni Tanhai Mere Naam Pe Aabaad Kare..

Apni tanhai mere naam pe aabaad kare,
Kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare.

Dil ajab shahr ki jis par bhi khula dar is ka,
Wo musafir ise har samt se barbaad kare.

Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roz ek maut naye tarz ki ijad kare.

Itna hairan ho meri be-talabi ke aage,
Wa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare.

Salb-e-binai ke ahkaam mile hain jo kabhi,
Raushni chhune ki khwahish koi shab-zad kare.

Soch rakhna bhi jaraem mein hai shamil ab to,
Wahi masum hai har baat pe jo sad kare.

Jab lahu bol pade us ke gawahon ke khilaf,
Qazi-e-shahr kuchh is bab mein irshad kare.

Us ki mutthi mein bahut roz raha mera wajud,
Mere sahir se kaho ab mujhe aazad kare. !!

अपनी तन्हाई मेरे नाम पे आबाद करे,
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे !

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का,
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे !

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज़ एक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे !

इतना हैराँ हो मेरी बे-तलबी के आगे,
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मेरा सय्याद करे !

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी,
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे !

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो,
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे !

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़,
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे !

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद,
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Gaye Mausam Mein Jo Khilte The Gulabon Ki Tarah..

Gaye mausam mein jo khilte the gulabon ki tarah,
Dil pe utrenge wahi khwab azabon ki tarah.

Rakh ke dher pe ab raat basar karni hai,
Jal chuke hain mere kheme mere khwabon ki tarah.

Saat-e-did ki aariz hain gulabi ab tak,
Awwalin lamhon ke gulnar hijabon ki tarah.

Wo samundar hai to phir ruh ko shadab kare,
Tishnagi kyun mujhe deta hai sharaabon ki tarah.

Ghair-mumkin hai tere ghar ke gulabon ka shumar,
Mere riste hue zakhmon ke hisabon ki tarah.

Yaad to hongi wo baaten tujhe ab bhi lekin,
Shelf mein rakkhi hui band kitabon ki tarah.

Kaun jaane ki naye sal mein tu kis ko padhe,
Tera mear badalta hai nisabon ki tarah.

Shokh ho jati hai ab bhi teri aankhon ki chamak,
Gahe gahe tere dilchasp jawabon ki tarah.

Hijr ki shab meri tanhai pe dastak degi,
Teri khush-bu mere khoye hue khwabon ki tarah. !!

गए मौसम में जो खिलते थे गुलाबों की तरह,
दिल पे उतरेंगे वही ख़्वाब अज़ाबों की तरह !

राख के ढेर पे अब रात बसर करनी है,
जल चुके हैं मेरे ख़ेमे मेरे ख़्वाबों की तरह !

साअत-ए-दीद कि आरिज़ हैं गुलाबी अब तक,
अव्वलीं लम्हों के गुलनार हिजाबों की तरह !

वो समुंदर है तो फिर रूह को शादाब करे,
तिश्नगी क्यूं मुझे देता है शराबों की तरह !

ग़ैर-मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों का शुमार,
मेरे रिश्ते हुए ज़ख़्मों के हिसाबों की तरह !

याद तो होंगी वो बातें तुझे अब भी लेकिन,
शेल्फ़ में रक्खी हुई बंद किताबों की तरह !

कौन जाने कि नए साल में तू किस को पढ़े,
तेरा मेआर बदलता है निसाबों की तरह !

शोख़ हो जाती है अब भी तेरी आंखों की चमक,
गाहे गाहे तेरे दिलचस्प जवाबों की तरह !

हिज्र की शब मेरी तन्हाई पे दस्तक देगी,
तेरी ख़ुश-बू मेरे खोए हुए ख़्वाबों की तरह !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Ab Itni Sadgi Laen Kahan Se..

Ab itni sadgi laen kahan se,
Zamin ki khair mangen aasman se.

Agar chahen to wo diwar kar den,
Hamein ab kuch nahi kahna zaban se.

Sitara hi nahi jab sath deta,
To kashti kaam le kya baadban se.

Bhatakne se mile fursat to puchhen,
Pata manzil ka mir-e-karwan se.

Tawajjoh barq ki hasil rahi hai,
So hai aazad fikr-e-ashiyan se.

Hawa ko raaz-dan hum ne banaya,
Aur ab naraz khushbu ke bayan se.

Zaruri ho gayi hai dil ki zinat,
Makin pahchane jate hain makan se.

Fana-fil-ishq hona chahte the,
Magar fursat na thi kar-e-jahan se.

Wagarna fasl-e-gul ki qadr kya thi,
Badi hikmat hai wabasta khizan se.

Kisi ne baat ki thi hans ke shayad,
Zamane bhar se hain hum khud guman se.

Main ek ek tir pe khud dhaal banti,
Agar hota wo dushman ki kaman se.

Jo sabza dekh kar kheme lagayen,
Unhen taklif kyun pahunche khizan se.

Jo apne ped jalte chhod jayen,
Unhen kya haq ki ruthen baghban se. !!

अब इतनी सादगी लाएँ कहाँ से,
ज़मीं की ख़ैर माँगें आसमाँ से !

अगर चाहें तो वो दीवार कर दें,
हमें अब कुछ नहीं कहना ज़बाँ से !

सितारा ही नहीं जब साथ देता,
तो कश्ती काम ले क्या बादबाँ से !

भटकने से मिले फ़ुर्सत तो पूछें,
पता मंज़िल का मीर-ए-कारवाँ से !

तवज्जोह बर्क़ की हासिल रही है,
सो है आज़ाद फ़िक्र-ए-आशियाँ से !

हवा को राज़-दाँ हम ने बनाया,
और अब नाराज़ ख़ुशबू के बयाँ से !

ज़रूरी हो गई है दिल की ज़ीनत,
मकीं पहचाने जाते हैं मकाँ से !

फ़ना-फ़िल-इश्क़ होना चाहते थे,
मगर फ़ुर्सत न थी कार-ए-जहाँ से !

वगर्ना फ़स्ल-ए-गुल की क़द्र क्या थी,
बड़ी हिकमत है वाबस्ता ख़िज़ाँ से !

किसी ने बात की थी हँस के शायद,
ज़माने भर से हैं हम ख़ुद गुमाँ से !

मैं इक इक तीर पे ख़ुद ढाल बनती,
अगर होता वो दुश्मन की कमाँ से !

जो सब्ज़ा देख कर ख़ेमे लगाएँ,
उन्हें तकलीफ़ क्यूँ पहुँचे ख़िज़ाँ से !

जो अपने पेड़ जलते छोड़ जाएँ,
उन्हें क्या हक़ कि रूठें बाग़बाँ से !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Main Zinda Hun Ye Mushtahar Kijiye..

Main zinda hun ye mushtahar kijiye,
Mere qatilon ko khabar kijiye.

Zamin sakht hai aasman dur hai,
Basar ho sake to basar kijiye.

Sitam ke bahut se hain radd-e-amal,
Zaruri nahi chashm tar kijiye.

Wahi zulm bar-e-digar hai to phir,
Wahi jurm bar-e-digar kijiye.

Qafas todna baad ki baat hai,
Abhi khwahish-e-baal-o-par kijiye. !!

मैं ज़िंदा हूँ ये मुश्तहर कीजिए,
मेरे क़ातिलों को ख़बर कीजिए !

ज़मीं सख़्त है आसमाँ दूर है,
बसर हो सके तो बसर कीजिए !

सितम के बहुत से हैं रद्द-ए-अमल,
ज़रूरी नहीं चश्म तर कीजिए !

वही ज़ुल्म बार-ए-दिगर है तो फिर,
वही जुर्म बार-ए-दिगर कीजिए !

क़फ़स तोड़ना बाद की बात है,
अभी ख़्वाहिश-ए-बाल-ओ-पर कीजिए !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal