Thursday , April 9 2020

Umeed Shayari

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Khud ko aasan kar rahi ho na..

Khud ko aasan kar rahi ho na,
Hum pe ehsan kar rahi ho na .

Zindagi hasraton ki mayyat hai,
Phir bhi arman kar rahi ho na.

Nind sapne sukun ummidein,
Kitna nuqsan kar rahi ho na.

Hum ne samjha hai pyar par tum to,
Jaan pahchan kar rahi ho na. !!

ख़ुद को आसान कर रही हो ना,
हम पे एहसान कर रही हो ना !

ज़िंदगी हसरतों की मय्यत है,
फिर भी अरमान कर रही हो ना !

नींद सपने सुकून उम्मीदें,
कितना नुक़सान कर रही हो ना !

हम ने समझा है प्यार पर तुम तो,
जान पहचान कर रही हो ना !!

 

Jhuki jhuki si nazar be-qarar hai ki nahi..

Jhuki jhuki si nazar be-qarar hai ki nahi,
Daba-daba sa sahi dil mein pyaar hai ki nahi.

Tu apne dil ki jawan dhadkano ko gin ke bata,
Meri tarah tera dil be-qarar hai ki nahi.

Woh pal ki jis mein mohabbat jawan hoti hai,
Us ek pal ka tujhe intizar hai ki nahi.

Teri ummid pe thukra raha hun duniya ko,
Tujhe bhi apne pe ye aitbaar hai ki nahi. !!

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं,
दबा-दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं !

तू अपने दिल की जवाँ धड़कनों को गिन के बता,
मेरी तरह तेरा दिल बे-क़रार है कि नहीं !

वो पल कि जिस में मोहब्बत जवान होती है,
उस एक पल का तुझे इंतिज़ार है कि नहीं !

तेरी उमीद पे ठुकरा रहा हूँ दुनिया को,
तुझे भी अपने पे ये ऐतबार है कि नहीं !!

 

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke,
Meri wafa ne ujad di hain umid ki bastiyan basa ke.

Tujhe bhula denge apne dil se ye faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko malum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke.

Kabhi milenge jo raste mein to munh phira kar palat padenge,
Kahin sunenge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke.

Na sochne par bhi sochti hun ki zindagani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kar ke tere khayalon se dur ja ke. !!

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहब्बतों के दीए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियाँ बसा के !

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लकिन,
न दिल को मालूम है न हम को जिएँगे कैसे तुझे भुला के !

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मुँह फिराकर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुका के !

न सोचने पर भी सोचती हूँ की जिंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के !!