Home / Umar Shayari

Umar Shayari

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate..

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate,
Warna itne to marasim the ki aate jate.

Shikwa-e-zulmat-e-shab se to kahin behtar tha,
Apne hisse ki koi shama jalate jate.

Kitna aasan tha tere hijr mein marna jaanan,
Phir bhi ek umar lagi jaan se jate jate.

Jashn-e-maqtal hi na barpa hua warna hum bhi,
Pa-ba-jaulan hi sahi nachte gate jate.

Is ki wo jaane use pas-e-wafa tha ki na tha,
Tum “Faraz” apni taraf se to nibhate jate. !!

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते जाते,
वर्ना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते !

शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शमा जलाते जाते !

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ,
फिर भी एक उम्र लगी जान से जाते जाते !

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वर्ना हम भी,
पा-ब-जौलाँ ही सही नाचते गाते जाते !

इस की वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम “फ़राज़” अपनी तरफ़ से तो निभाते जाते !!

 

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le..

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le,
Kis haal mein hai in dinon ghar-bar dekh le.

Jab aa gaye hain shehar-e-tilismat ke qarib,
Kya chahti hai nargis-e-bimar dekh le.

Hansna-hansana chhute hue muddaten hui,
Bas thodi dur rah gayi diwar dekh le.

Arse se is dayar ki koi khabar nahi,
Mohlat mile to aaj ka akhbar dekh le.

Mushkil hai tera sath nibhana tamam umar,
Bikna hai na-guzir to bazaar dekh le.

Aashuftagi hamari yahan layi bar-bar,
Hai kya zarur tujh ko bhi har bar dekh le. !!

आँगन में छोड़ आए थे जो ग़ार देख लें,
किस हाल में है इन दिनों घर-बार देख लें !

जब आ गए हैं शहर-ए-तिलिस्मात के क़रीब,
क्या चाहती है नर्गिस-ए-बीमार देख लें !

हँसना-हँसाना छूटे हुए मुद्दतें हुईं,
बस थोड़ी दूर रह गई दीवार देख लें !

अर्से से इस दयार की कोई ख़बर नहीं,
मोहलत मिले तो आज का अख़बार देख लें !

मुश्किल है तेरा साथ निभाना तमाम उम्र,
बिकना है ना-गुज़ीर तो बाज़ार देख लें !

आशुफ़्तगी हमारी यहाँ लाई बार-बार,
है क्या ज़रूर तुझ को भी हर बार देख लें !!

 

Gham hai ya khushi hai tu..

Gham hai ya khushi hai tu,
Meri zindagi hai tu.

Aafaton ke daur mein,
Chain ki ghadi hai tu.

Meri raat ka charagh,
Meri nind bhi hai tu.

Main khizan ki sham hun,
Rut bahaar ki hai tu.

Doston ke darmiyan,
Wajh-e-dosti hai tu.

Meri sari umar mein,
Ek hi kami hai tu.

Main to wo nahi raha,
Han magar wahi hai tu.

“Nasir” is dayar mein,
Kitna ajnabi hai tu. !!

ग़म है या ख़ुशी है तू ,
मेरी ज़िंदगी है तू !

आफ़तों के दौर में,
चैन की घड़ी है तू !

मेरी रात का चराग़,
मेरी नींद भी है तू !

मैं ख़िज़ाँ की शाम हूँ,
रुत बहार की है तू !

दोस्तों के दरमियाँ,
वज्ह-ए-दोस्ती है तू !

मेरी सारी उम्र में,
एक ही कमी है तू !

मैं तो वो नहीं रहा,
हाँ मगर वही है तू !

“नासिर” इस दयार में,
कितना अजनबी है तू !!

 

Wo khat ke purze uda raha tha..

Wo khat ke purze uda raha tha,
Hawaon ka rukh dikha raha tha.

Bataun kaise wo bahta dariya,
Jab aa raha tha to ja raha tha.

Kuch aur bhi ho gaya numayan,
Main apna likha mita raha tha.

Dhuan dhuan ho gayi thi aankhen,
Charagh ko jab bujha raha tha.

Munder se jhuk ke chand kal bhi,
Padosiyon ko jaga raha tha.

Usi ka iman badal gaya hai,
Kabhi jo mera khuda raha tha.

Wo ek din ek ajnabi ko,
Meri kahani suna raha tha.

Wo umar kam kar raha tha meri,
Main saal apne badha raha tha.

Khuda ki shayad raza ho is mein,
Tumhara jo faisla raha tha. !!

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था,
हवाओं का रुख़ दिखा रहा था !

बताऊँ कैसे वो बहता दरिया,
जब आ रहा था तो जा रहा था !

कुछ और भी हो गया नुमायाँ,
मैं अपना लिखा मिटा रहा था !

धुआँ धुआँ हो गई थीं आँखें,
चराग़ को जब बुझा रहा था !

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी,
पड़ोसियों को जगा रहा था !

उसी का ईमाँ बदल गया है,
कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था !

वो एक दिन एक अजनबी को,
मेरी कहानी सुना रहा था !

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था !

ख़ुदा की शायद रज़ा हो इस में,
तुम्हारा जो फ़ैसला रहा था !!