Home / Udaas Shayari

Udaas Shayari

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Jab Bhi Yeh Dil Udas Hota Hai..

Jab bhi yeh dil udas hota hai,
Jane kaun aas-pas hota hai.

Aankhen pahchanti hain aankhon ko,
Dard chehra-shanas hota hai.

Go barasti nahi sada aankhen,
Abr to barah-mas hota hai.

Chhaal pedon ki sakht hai lekin,
Niche nakhun ke mas hota hai.

Zakhm kahte hain dil ka gahna hai,
Dard dil ka libas hota hai.

Das hi leta hai sab ko ishq kabhi,
Sanp mauqa-shanas hota hai.

Sirf itna karam kiya kije,
Aap ko jitna ras hota hai. !!

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन आस-पास होता है !

आँखें पहचानती हैं आँखों को,
दर्द चेहरा-शनास होता है !

गो बरसती नहीं सदा आँखें,
अब्र तो बारह-मास होता है !

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन,
नीचे नाख़ुन के मास होता है !

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है !

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी,
साँप मौक़ा-शनास होता है !

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे,
आप को जितना रास होता है !!

Gulzar All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kabhi Khud Pe Kabhi Halat Pe Rona Aaya..

abhi khud pe kabhi halat pe rona aaya

Kabhi khud pe kabhi halat pe rona aaya,
Baat nikli to har ek baat pe rona aaya.

Hum to samjhe the ki hum bhul gaye hain un ko,
Kya hua aaj ye kis baat pe rona aaya.

Kis liye jite hain hum kis ke liye jite hain,
Barha aise sawalat pe rona aaya.

Kaun rota hai kisi aur ki khatir aye dost,
Sab ko apni hi kisi baat pe rona aaya. !!

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया,
बात निकली तो हर इक बात पे रोना आया !

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया !

किस लिए जीते हैं हम किस के लिए जीते हैं,
बारहा ऐसे सवालात पे रोना आया !

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari  Collection

 

Hai Ajib Shehar Ki Zindagi Na Safar Raha Na Qayam Hai

Hai ajib shehar ki zindagi na safar raha na qayam hai,
Kahin karobar si dopehar kahin bad-mizaj si shaam hai.

Kahan ab duaon ki barkatein wo nasihatein wo hidayatein,
Ye matalbon ka khulus hai ye zaruraton ka salam hai.

Yun hi roz milne ki aarzoo badi rakh rakhaw ki guftugu,
Ye sharafatein nahin be gharaz ise aap se koi kaam hai.

Wo dilo mein aag lagayega main dilon ki aag bujhaunga,
Use apne kaam se kaam hai mujhe apne kaam se kaam hai.

Na udas ho na malal kar kisi baat ka na khyal kar,
Kayi saal baad mile hain hum tere naam aaj ki sham hai.

Koi naghma dhup ke ganw sa koi naghma sham ki chhanw sa,
Zara in parindon se puchhna ye kalam kis ka kalam hai. !!

है अजीब शहर कि ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है,
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बदमिज़ाज सी शाम है !

कहाँ अब दुआओं कि बरकतें वो नसीहतें वो हिदायतें,
ये मतलबों का ख़ुलूस है या ज़रूरतों का सलाम है !

यूँ ही रोज़ मिलने कि आरज़ू बड़ी रख रखाव कि गुफ्तगू,
ये शराफ़ातें नहीं बे ग़रज़ इसे आपसे कोई काम है !

वो दिलों में आग लगायेगा में दिलों कि आग बुझाऊंगा,
उसे अपने काम से काम है मुझे अपने काम से काम है !

न उदास हो न मलाल कर किसी बात का न ख्याल कर,
कई साल बाद मिले है हम तेरे नाम आज कि शाम कर !

कोई नग्मा धुप के गॉँव सा कोई नग़मा शाम कि छाँव सा,
ज़रा इन परिंदों से पूछना ये कलाम किस का कलाम है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin”,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन”,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!