Saturday , February 29 2020
Home / Two Line Poetry (page 4)

Two Line Poetry

Chandni chhat pe chal rahi hogi..

Chandni chhat pe chal rahi hogi,
Ab akeli tahal rahi hogi.

Phir mera zikr aa gaya hoga,
Barf si wo pighal rahi hogi.

Kal ka sapna bahut suhana tha,
Ye udasi na kal rahi hogi.

Sochta hun ki band kamre mein,
Ek shama si jal rahi hogi.

Shahr ki bhid-bhad se bach kar,
Tu gali se nikal rahi hogi.

Aaj buniyaad thartharaati hai,
Wo dua phul-phal rahi hogi.

Tere gahnon si khankhanati thi,
Bajre ki fasal rahi hogi.

Jin hawaon ne tujh ko dulraya,
Un mein meri ghazal rahi hogi. !!

चाँदनी छत पे चल रही होगी,
अब अकेली टहल रही होगी !

फिर मेरा ज़िक्र आ गया होगा,
बर्फ़ सी वो पिघल रही होगी !

कल का सपना बहुत सुहाना था,
ये उदासी न कल रही होगी !

सोचता हूँ कि बंद कमरे में,
एक शमा सी जल रही होगी !

शहर की भीड़-भाड़ से बच कर,
तू गली से निकल रही होगी !

आज बुनियाद थरथराती है,
वो दुआ फूल-फल रही होगी !

तेरे गहनों सी खनखनाती थी,
बाजरे की फ़सल रही होगी !

जिन हवाओं ने तुझ को दुलराया,
उन में मेरी ग़ज़ल रही होगी !!

Na mera makan hi badal gaya na tera pata koi aur hai..

Na mera makan hi badal gaya na tera pata koi aur hai,
Meri rah phir bhi hai mukhtalif tera rasta koi aur hai.

Pas-e-marg khak huye badan wo kafan mein hon ki hon be-kafan,
Na meri lahad koi aur hai na teri chita koi aur hai.

Wo jo mahr bahr-e-nikah tha wo dulhan ka mujh se mizah tha,
Ye to ghar pahunch ke pata chala meri ahliya koi aur hai.

Meri qatila meri lash se ye bayan lene ko aayi thi,
Na de mulzima ko saza police meri qatila koi aur hai.

Jo sajai jati hai raat ko wo hamari bazm-e-khayal hai,
Jo sadak pe hota hai raat din wo mushaera koi aur hai.

Kabhi “mir”-o-“dagh” ki shayari bhi moamla se hasin thi,
Magar ab jo sher mein hota hai wo moamla koi aur hai.

Tujhe kya khabar ki main kis liye tujhe dekhta hun kan-ankhiyon se,
Ki barah-e-rast nazare mein mujhe dekhta koi aur hai.

Ye jo titar aur chakor hain wahi pakden un ko jo chor hain,
Main chakor-akor ka kya karun meri fakhta koi aur hai.

Mujhe man ka pyar nahi mila magar is ka bap se kya gila,
Meri walida to ye kahti hai teri walida koi aur hai. !!

न मेरा मकाँ ही बदल गया न तेरा पता कोई और है,
मेरी राह फिर भी है मुख़्तलिफ़ तेरा रास्ता कोई और है !

पस-ए-मर्ग ख़ाक हुए बदन वो कफ़न में हों कि हों बे-कफ़न,
न मेरी लहद कोई और है न तेरी चिता कोई और है !

वो जो महर बहर-ए-निकाह था वो दुल्हन का मुझ से मिज़ाह था,
ये तो घर पहुँच के पता चला मिरी अहलिया कोई और है !

मेरी क़ातिला मेरी लाश से ये बयान लेने को आई थी,
न दे मुलज़िमा को सज़ा पुलिस मेरी क़ातिला कोई और है !

जो सजाई जाती है रात को वो हमारी बज़्म-ए-ख़याल है,
जो सड़क पे होता है रात दिन वो मुशाएरा कोई और है !

कभी “मीर”-ओ-“दाग़” की शायरी भी मोआ’मला से हसीन थी,
मगर अब जो शेर में होता है वो मोआ’मला कोई और है !

तुझे क्या ख़बर कि मैं किस लिए तुझे देखता हूँ कन-अँखियों से,
कि बराह-ए-रास्त नज़ारे में मुझे देखता कोई और है !

ये जो तीतर और चकोर हैं वही पकड़ें उन को जो चोर हैं,
मैं चकोर-अकोर का क्या करूँ मिरी फ़ाख़्ता कोई और है !

मुझे माँ का प्यार नहीं मिला मगर इस का बाप से क्या गिला,
मेरी वालिदा तो ये कहती है तेरी वालिदा कोई और है !!

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

“Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

“बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!

Hum tum mein kal duri bhi ho sakti hai..

Hum tum mein kal duri bhi ho sakti hai,
Wajh koi mazburi bhi ho sakti hai.

Pyar ki khatir kabhi bhi hum kar sakte hain,
Wo teri mazduri bhi ho sakti hai.

Sukh ka din kuchh pahle bhi chadh sakta hai,
Dukh ki raat uburi bhi ho sakti hai.

Dushman mujh par ghalib bhi aa sakta hai,
Haar meri mazburi bhi ho sakti hai.

“Bedil” mujh mein ye jo ek kami si hai,
Wo chahe to puri bhi ho sakti hai. !!

हम तुम में कल दूरी भी हो सकती है,
वज्ह कोई मजबूरी भी हो सकती है !

प्यार की ख़ातिर कभी भी हम कर सकते हैं,
वो तेरी मज़दूरी भी हो सकती है !

सुख का दिन कुछ पहले भी चढ़ सकता है,
दुख की रात उबूरी भी हो सकती है !

दुश्मन मुझ पर ग़ालिब भी आ सकता है,
हार मिरी मजबूरी भी हो सकती है !

“बेदिल” मुझ में ये जो इक कमी सी है,
वो चाहे तो पूरी भी हो सकती है !!

Agar talash karun koi mil hi jayega..

Agar talash karun koi mil hi jayega,
Magar tumhari tarah kaun mujh ko chahega.

Tumhein zarur koi chahaton se dekhega,
Magar wo aankhen hamari kahan se layega.

Na jaane kab tere dil par nayi si dastak ho,
Makan khali hua hai to koi aayega.

Main apni rah mein diwar ban ke baitha hun,
Agar wo aaya to kis raste se aayega.

Tumhare sath ye mausam farishton jaisa hai,
Tumhare baad ye mausam bahut satayega. !!

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा,
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा !

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा,
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा !

न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो,
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आएगा !

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ,
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा !

तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है,
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा !!

Jaane kya dekha tha maine khwab mein..

Jaane kya dekha tha maine khwab mein,
Phans gaya phir jism ke girdab mein.

Tera kya tu to baras ke khul gaya,
Mera sab kuchh bah gaya sailab mein.

Meri ankhon ka bhi hissa hai bahut,
Tere is chehre ki ab-o-tab mein.

Tujh mein aur mujh mein taalluq hai wahi,
Hai jo rishta saaz aur mizrab mein.

Mera wada hai ki saari zindagi,
Tujh se main milta rahunga khwab mein. !!

जाने क्या देखा था मैं ने ख़्वाब में,
फँस गया फिर जिस्म के गिर्दाब में !

तेरा क्या तू तो बरस के खुल गया,
मेरा सब कुछ बह गया सैलाब में !

मेरी आँखों का भी हिस्सा है बहुत,
तेरे इस चेहरे की आब-ओ-ताब में !

तुझ में और मुझ में तअल्लुक़ है वही,
है जो रिश्ता साज़ और मिज़राब में !

मेरा वादा है कि सारी ज़िंदगी,
तुझ से मैं मिलता रहूँगा ख़्वाब में !!