Home / Two Line Poetry

Two Line Poetry

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Beti बेटी)

1.
Gharon mein yun sayani betiyan bechain rehati hain,
Ki jaise sahilon par kashtiyan bechain rehati hain.

घरों में यूँ सयानी बेटियाँ बेचैन रहती हैं,
कि जैसे साहिलों पर कश्तियाँ बेचैन रहती हैं !

2.
Ye chidiya bhi meri beti se kitani milati-julti hai,
Kahin bhi shakhe-gul dekhe to jhula daal deti hai.

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है,
कहीं भी शाख़े-गुल देखे तो झूला डाल देती है !

3.
Ro rahe the sab to main bhi phoot ke rone laga,
Warna mujhko betiyon ki rukhsati achchi lagi.

रो रहे थे सब तो मैं भी फूट कर रोने लगा,
वरना मुझको बेटियों की रुख़सती अच्छी लगी !

4.
Badi hone ko hain ye muratein aangan mein mitti ki,
Bahut se kaam baaki hai sambhala le liya jaye.

बड़ी होने को हैं ये मूरतें आँगन में मिट्टी की,
बहुत से काम बाक़ी हैं सँभाला ले लिया जाये !

5.
To phir jakar kahin Maa-Baap ko kuch chain padta hai,
Ki jab sasuraal se ghar aa ke beti muskurati hai.

तो फिर जाकर कहीँ माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है !

6.
Ayesa lagta hai ki jaise khtam mela ho gaya,
Uad gayi aangan se chidiyaan ghar akela ho gaya.

ऐसा लगता है कि जैसे ख़त्म मेला हो गया,
उड़ गईं आँगन से चिड़ियाँ घर अकेला हो गया !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1.
Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye,
Jab sukhne lage to jalane ke kaam aaye.

हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये,
जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये !

2.
Koyal bole ya gaureyya achcha lagta hai,
Apne gaon mein sab kuch bhaiya achcha lagta hai.

कोयल बोले या गौरेय्या अच्छा लगता है,
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है !

3.
Khandani wirasat ke nilam par aap apne ko taiyaar karte hue,
Us haweli ke sare makin ro diye us haweli ko bazaar karte hue.

ख़ानदानी विरासत के नीलाम पर आप अपने को तैयार करते हुए,
उस हवेली के सारे मकीं रो दिये उस हवेली को बाज़ार करते हुए !

4.
Udane se parinde ko shzar rok raha hai,
Ghar wale to khamosh hain ghar rok raha hai.

उड़ने से परिंदे को शजर रोक रहा है,
घर वाले तो ख़ामोश हैं घर रोक रहा है !

5.
Wo chahati hai ki aangan mein maut ho meri,
Kahan ki mitti hai mujhko kahan bulaati hai.

वो चाहती है कि आँगन में मौत हो मेरी,
कहाँ की मिट्टी है मुझको कहाँ बुलाती है !

6.
Numaaish par badan ki yun koi taiyaar kyon hota,
Agar sab ghar ho jate to ye bazar kyon hota.

नुमाइश पर बदन की यूँ कोई तैयार क्यों होता,
अगर सब घर हो जाते तो ये बाज़ार क्यों होता !

7.
Kachcha samajh ke bech na dena makan ko,
Shayad kabhi ye sar ko chhupane ke kaam aaye.

कच्चा समझ के बेच न देना मकान को,
शायद कभी ये सर को छुपाने के काम आये !

8.
Andheri raat mein aksar sunhari mishalein lekar,
Parindo ki musibat ka pata jugnu lagate hain.

अँधेरी रात में अक्सर सुनहरी मिशअलें लेकर,
परिंदों की मुसीबत का पता जुगनू लगाते हैं !

9.
Tune saari bajiyan jiti hain mujhpe baith kar,
Ab main budha ho raha hun astbal bhi chahiye.

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपे बैठ कर,
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए !

10.
Mohaaziro ! yahi tarikh hai makanon ki,
Banane wala hamesha baramdon mein raha.

मोहाजिरो ! यही तारीख़ है मकानों की,
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा !

11.
Tumhari aankhon ki tauheen hai zara socho,
Tumhara chahane wala sharab pita hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

12.
Kisi dukh ka kisi chehare se andaza nahi hota,
Shazar to dekhne se sab hare malum hote hain.

किसी दुख का किसी चेहरे से अंदाज़ा नहीं होता,
शजर तो देखने में सब हरे मालूम होते हैं !

13.
Jarurat se anaa ka bhari patthar tut jata hai,
Magar phir aadami hi andar-andar tut jata hai.

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जात है,
मगर फिर आदमी भी अंदर-अंदर टूट जाता है !

14.
Mohabbat ek aisa khel hai jismein mere bhai,
Hamesha jitane wale pareshani mein rehate hain.

मोहब्बत एक ऐसा खेल है जिसमें मेरे भाई,
हमेशा जीतने वाले परेशानी में रहते हैं !

15.
Phir kabutar ki wafadari pe shaq mat karna,
Wah to ghar ko isi minar se pehachanta hai.

फिर कबूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना,
वह तो घर को इसी मीनार से पहचानता है !

16.
Anaa ki mohani surat bigad deti hai,
Bade-badon ki jarurat bigad deti hai.

अना की मोहनी सूरत बिगाड़ देती है,
बड़े-बड़ों को ज़रूरत बिगाड़ देती है !

17.
Banakar ghaunsala rehata tha ek joda kabootar ka,
Agar aandhi nahi aati to ye minar bach jata.

बनाकर घौंसला रहता था इक जोड़ा कबूतर का,
अगर आँधी नहीं आती तो ये मीनार बच जाता !

18.
Un gharon mein jahan mitti ke ghade rahte hain,
Kad mein chhote hon magar log bade rahte hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं !

19.
Pyaas ki shiddat se munh khole parinda gir pada,
Sidhiyon par haanfte akhbar wale ki tarah.

प्यास की शिद्दत से मुँह खोले परिंदा गिर पड़ा,
सीढ़ियों पर हाँफ़ते अख़बार वाले की तरह !

20.
Wo chidiyaan thi duayein padh ke jo mujhko jagati thi,
Main aksar sochta tha ye tilawat kaun karta hai.

वो चिड़ियाँ थीं दुआएँ पढ़ के जो मुझको जगाती थीं,
मैं अक्सर सोचता था ये तिलावत कौन करता है !

21.
Parinde chonch mein tinke dabate jate hain.
Main sochta hun ki ab ghar basa liya jaye.

परिंदे चोंच में तिनके दबाते जाते हैं,
मैं सोचता हूँ कि अब घर बसा लिया जाये !

22.
Aye mere bhai mere khoon ka badla le le,
Hath mein roz ye talwar nahi aayegi.

ऐ मेरे भाई मेरे ख़ून का बदला ले ले,
हाथ में रोज़ ये तलवार नहीं आयेगी !

23.
Naye kamron mein ye chizein purani kaun rakhta hai,
Parindo ke liye sheharon mein paani kaun rakhta hai.

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है,
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है !

24.
Jisko bachchon mein pahunchane ki bahut ujalat ho,
Us se kehiye na kabhi Car chalane ke liye.

जिसको बच्चों में पहुँचने की बहुत उजलत हो,
उस से कहिये न कभी कार चलाने के लिए !

25.
So jate hai footpaath pe akhbar bichha kar,
Majdur kabhi nind ki goli nahi khate.

सो जाते हैं फुट्पाथ पे अखबार बिछा कर,
मज़दूर कभी नींद की गोलॊ नहीं खते !

26.
Pet ki khatir phootpaathon pe bech raha hun tasvirein,
Main kya janu roza hai ya mera roza tut gaya.

पेट की ख़ातिर फुटपाथों पे बेच रहा हूँ तस्वीरें,
मैं क्या जानूँ रोज़ा है या मेरा रोज़ा टूट गया !

27.
Jab us se guftgu kar li to phir shazara nahi puncha,
Hunar bakhiyagiri ka ek turpai mein khulta hai.

जब उससे गुफ़्तगू कर ली तो फिर शजरा नहीं पूछा,
हुनर बख़ियागिरी का एक तुरपाई में खुलता है !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1.
Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi,
Humein maalum hai tum ko ye bimari nahi hogi.

किसी भी मोड़ पर तुमसे वफ़ादारी नहीं होगी,
हमें मालूम है तुम को ये बीमारी नहीं होगी !

2.
Neem ka ped tha barsaat thi aur jhula tha,
Gaon mein gujara jamana bhi ghazal jaisa tha.

नीम का पेड़ था बरसात थी और झूला था,
गाँव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

3.
Hum kuch ase tere didar mein kho jate hain,
Jaise bachche bhare bazar mein kho jate hain.

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं !

4.
Tujhe akele padhoon koi hum sabak na rahe,
Main chahata hun ki tujh par kisi ka haq na rahe.

तुझे अकेले पढ़ूँ कोई हम सबक न रहे,
मैं चाहता हूँ कि तुझ पर किसी का हक़ न रहे !

5.
Wo apne kandhon pe kunbe ka bojh rakhta hai,
Isiliye to qadam soch kar uthata hai.

वो अपने काँधों पे कुन्बे का बोझ रखता है,
इसीलिए तो क़दम सोच कर उठाता है !

6.
Aankhein to usko ghar se nikalne nahi deti,
Aansoo hai ki saamaan-e-safar baandhe hue hain.

आँखें तो उसको घर से निकलने नहीं देतीं,
आँसू हैं कि सामान-ए-सफ़र बाँधे हुए हैं !

7.
Safedi aa gayi baalon mein uske,
Wo baaizzat ghrana chahata tha.

सफ़ेदी आ गई बालों में उसके,
वो बाइज़्ज़त घराना चाहता था !

8.
Na jaane kaun si majburiyan pardes layi thi,
Wah jitni der tak zinda raha ghar yaad karta tha.

न जाने कौन सी मजबूरियाँ परदेस लाई थीं,
वह जितनी देर तक ज़िन्दा रहा घर याद करता था !

9.
Talash karte hain unko jaruraton wale,
Kahan gaye wo purane sharafaton wale.

तलाश करते हैं उनको ज़रूरतों वाले,
कहाँ गये वो पुराने शराफ़तों वाले !

10.
Wo khush hai ki bazar mein gali de di,
Main khush hun ehsan ki kimat nikal aayi.

वो ख़ुश है कि बाज़ार में गाली मुझे दे दी,
मैं ख़ुश हूँ एहसान की क़ीमत निकल आई !

11.
Use jali huyi lashein nazar nahi aati,
Magar wo sui se dhaga gujar deta hai.

उसे जली हुई लाशें नज़र नहीं आतीं,
मगर वो सूई से धागा गुज़ार देता है !

12.
Wo peharon baith kar tote se baatein karta rehta hai,
Chalo achcha hai ab nazarein badalna sikh jayega.

वो पहरों बैठ कर तोते से बातें करता रहता है,
चलो अच्छा है अब नज़रें बदलना सीख जायेगा !

13.
Use halat ne roka mujhe mere masayal ne,
Wafa ki rah mein dushwariyan dono taraf se hain.

उसे हालात ने रोका मुझे मेरे मसायल ने,
वफ़ा की राह में दुश्वारियाँ दोनों तरफ़ से हैं !

14.
Tujh se bichhada to pasand aa gayi betartibi,
Is se pehale mera kamara bhi ghazal jaisa tha.

तुझ से बिछड़ा तो पसंद आ गई बेतरतीबी,
इस से पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था !

15.
Kahan ki hizaratein, kaisa safar, kaisa juda hona,
Kisi ki chah pairon mein duppata daal deti hai.

कहाँ की हिजरतें कैसा सफ़र कैसा जुदा होना,
किसी की चाह पैरों में दुपट्टा डाल देती है !

16.
Ghazal wo sinf-e-naajuk hai jise apni rafakat se,
Wo mahabuba bana leta hai main beti banata hun.

ग़ज़ल वो सिन्फ़-ए-नाज़ुक़ है जिसे अपनी रफ़ाक़त से,
वो महबूबा बना लेता है मैं बेटी बनाता हूँ !

17.
Wo ek gudiya jo mele mein kal dukan pe thi,
Dino ki baat hai pehale mere makan pe thi.

वो एक गुड़िया जो मेले में कल दुकान पे थी,
दिनों की बात है पहले मेरे मकान पे थी !

18.
Ladakpan mein kiye wade ki kimat kuch nahi hoti,
Anguthi hath mein rehti hai mangani tut jati hai.

लड़कपन में किए वादे की क़ीमत कुछ नहीं होती,
अँगूठी हाथ में रहती है मंगनी टूट जाती है !

19.
Wo jiske waaste pardesh ja raha hun main,
Bichhadte waqt usi ki taraf nahi dekha.

वो जिसके वास्ते परदेस जा रहा हूँ मैं,
बिछड़ते वक़्त उसी की तरफ़ नहीं देखा !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1.
Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain,
Wo bachche rail ke dibbe mein jo jhaadu lagaate hain.

फ़रिश्ते आ के उनके जिस्म पर ख़ुशबू लगाते हैं,
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाड़ू लगाते हैं !

2.
Humakte khelte bachchon ki shaitaani nahi jati,
Magar phir bhi humare ghar ki veeraani nahi jati.

हुमकते खेलते बच्चों की शैतानी नहीं जाती,
मगर फिर भी हमारे घर की वीरानी नहीं जाती !

3.
Apne mustkbil ki chaadar par rafu karte huye,
Maszidon mein dekhiye bachche waju karte huye.

अपने मुस्तक़्बिल की चादर पर रफ़ू करते हुए,
मस्जिदों में देखिये बच्चे वज़ू करते हुए !

4.
Mujhe is shehar ki sab ladkiyaan aadaab karti hain,
Main bachchon ki kalaai ke liye raakhi banata hun.

मुझे इस शहर की सब लड़कियाँ आदाब करती हैं,
मैं बच्चों की कलाई के लिए राखी बनाता हूँ !

5.
Ghar ka bhojh uthane wale bachche ki taqdeer na punchh,
Bachpan ghar se baahar nikala aur khilauna tut gaya.

घर का बोझ उठाने वाले बच्चे की तक़दीर न पूछ,
बचपन घर से बाहर निकला और खिलौना टूट गया !

6.
Jo ashq gunge the wo arje-haal karne lage,
Humare bachche humin par sawal karne lage.

जो अश्क गूँगे थे वो अर्ज़े-हाल करने लगे,
हमारे बच्चे हमीं पर सवाल करने लगे !

7.
Jab ek waakya bachpan ka humko yaad aaya,
Hum un parindo ko phir se gharon mein chhod aaye.

जब एक वाक़्या बचपन का हमको याद आया,
हम उन परिंदों को फिर से घरों में छोड़ आए !

8.
Bhare sheharon mein kurbaani ka mausam jab se aaya hai,
Mere bachche kabhi holi mein pichkaari nahi late.

भरे शहरों में क़ुर्बानी का मौसम जबसे आया है,
मेरे बच्चे कभी होली में पिचकारी नहीं लाते !

9.
Maszid ki chataai pe ye sote hue bachche,
In bachchon ko dekho kabhi resham nahi dekha.

मस्जिद की चटाई पे ये सोते हुए बच्चे,
इन बच्चों को देखो, कभी रेशम नहीं देखा !

10.
Bhukh se behaal bachche to nahi roye magar,
Ghar ka chulha muflisi ki chugliyaan khane laga.

भूख से बेहाल बच्चे तो नहीं रोये मगर,
घर का चूल्हा मुफ़लिसी की चुग़लियाँ खाने लगा !

11.
Talwaar to kya meri nazar tak nahi uththi,
Us shakhs ke bachche ki taraf dekh liya tha.

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठ्ठी,
उस शख़्स के बच्चों की तरफ़ देख लिया था !

12.
Ret par khelte bachchon ko abhi kya maalum,
Koi sailaab gharaunda nahi rehane deta.

रेत पर खेलते बच्चों को अभी क्या मालूम,
कोई सैलाब घरौंदा नहीं रहने देता !

13.
Dhuaan baadal nahi hota ki bachpan daud padta hai,
Khushi se kaun bachcha karkhane tak pahunchta hai.

धुआँ बादल नहीं होता कि बचपन दौड़ पड़ता है,
ख़ुशी से कौन बच्चा कारखाने तक पहुँचता है !

14.
Main chahun to mithaai ki dukane khol sakta hun,
Magar bachpan humesha ramdane tak phunchata hai.

मैं चाहूँ तो मिठाई की दुकानें खोल सकता हूँ,
मगर बचपन हमेशा रामदाने तक पहुँचता है !

15.
Hawa ke rukh pe rehane do ye chalana sikh jayega,
Ki bachcha ladkhadayega to chalana sikh jayega.

हवा के रुख़ पे रहने दो ये चलना सीख जाएगा,
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा !

16.
Ek sulgate shehar mein bachcha mila hansta hua,
Sehame-sehame-se charagon ke ujale ki tarah.

इक सुलगते शहर में बच्चा मिला हँसता हुआ,
सहमे-सहमे-से चराग़ों के उजाले की तरह !

17.
Maine Ek muddat se maszid nahi dekhi magar,
Ek bachche ka ajan dena bahut achcha laga.

मैंने इक मुद्दत से मस्जिद नहीं देखी मगर,
एक बच्चे का अज़ाँ देना बहुत अच्छा लगा !

18.
Inhen apni jarurat ke thikaane yaad rehate hain,
Kahan par hai khilauno ki dukan bachche samjhte hain.

इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते हैं,
कहाँ पर है खिलौनों की दुकाँ बच्चे समझते हैं !

19.
Zamaana ho gaya dange mein is ghar ko jale lekin,
Kisi bachche ke rone ki sadaayein roz aati hain.

ज़माना हो गया दंगे में इस घर को जले लेकिन,
किसी बच्चे के रोने की सदाएँ रोज़ आती हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1.
Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta,
Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta.

मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता,
अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता !

2.
Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya,
Mere badan mein Bhai ka trishool chubh gaya.

काँटों से बच गया था मगर फूल चुभ गया,
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया !

3.
Aye khuda thodi karam farmaai hona chahiye,
Itani Behane hai to phir ek Bhai hona chahiye.

ऐ ख़ुदा थोड़ी करम फ़रमाई होना चाहिए,
इतनी बहनें हैं तो फिर एक भाई होना चाहिए !

4.
Baap ki daulat se yun dono ne hissa le liya,
Bhai ne dastaar le lee maine juta le liya.

बाप की दौलत से यूँ दोनों ने हिस्सा ले लिया,
भाई ने दस्तार ले ली मैंने जूता ले लिया !

5.
Nihatha dekh kar mujhko ladaai karta hai,
Jo kaam usne kiya hai wo Bhai karta hai.

निहत्था देख कर मुझको लड़ाई करता है,
जो काम उसने किया है वो भाई करता है !

6.
Yahi tha ghar jahan mil-jul ke sab ek sath rehate the,
Yahi hai ghar alag Bhai ki aftaari nikalti hai.

यही था घर जहाँ मिल-जुल के सब एक साथ रहते थे,
यही है घर अलग भाई की अफ़्तारी निकलती है !

7.
Wah apne ghar mein raushan saari shmayein ginata rehta hai,
Akela Bhai khamoshi se Behane ginta rehata hai.

वह अपने घर में रौशन सारी शमएँ गिनता रहता है,
अकेला भाई ख़ामोशी से बहनें गिनता रहता है !

8.
Main apne Bhaiyon ke sath jab ghar se bahar nikalata hun,
Mujhe Yusuf ke jani dushmano ki yaad aati hai.

मैं अपने भाइयों के साथ जब बाहर निकलता हूँ,
मुझे यूसुफ़ के जानी दुश्मनों की याद आती है !

9.
Mere Bhai wahan paani se roza kholte honge,
Hata lo saamne se mujhse aftaari nahi hogi.

मेरे भाई वहाँ पानी से रोज़ा खोलते होंगे,
हटा लो सामने से मुझसे अफ़्तारी नहीं होगी !

10.
Jahan par gin ke roti Bhaiyon ko bhai dete ho,
Sabhi chizein wahin dekhi magar barkat nahi dekhi.

जहाँ पर गिन के रोटी भाइयों को भाई देते हों,
सभी चीज़ें वहाँ देखीं मगर बरकत नहीं देखी !

11.
Raat dekha hai bahaaron pe khizaan ko hanste,
Koi tohafaa mujhe shayad mera Bhai dega.

रात देखा है बहारों पे खिज़ाँ को हँसते,
कोई तोहफ़ा मुझे शायद मेरा भाई देगा !

12.
Tumhein aye Bhaiyon yun chhodna achcha nahi lekin,
Humein ab shaam se pehale thikaana dhund lena hai.

तुम्हें ऐ भाइयो यूँ छोड़ना अच्छा नहीं लेकिन,
हमें अब शाम से पहले ठिकाना ढूँढ लेना है !

13.
Gham se Lakshman ki tarah Bhai ka rishta hai mera,
Mujhko jangal mein akela nahi rehane deta.

ग़म से लछमन की तरह भाई का रिश्ता है मेरा,
मुझको जंगल में अकेला नहीं रहने देता !

14.
Jo log kam ho to kaandha jaroor de dena,
Sarhaane aake magar Bhai-Bhai na kehana.

जो लोग कम हों तो काँधा ज़रूर दे देना,
सरहाने आके मगर भाई-भाई मत कहना !

15.
Mohabbat ka ye jajba khuda ki den hai Bhai,
To mere raaste se kyun ye duniya hat nahi jati.

मोहब्बत का ये जज़्बा ख़ुदा की देन है भाई,
तो मेरे रास्ते से क्यूँ ये दुनिया हट नहीं जाती !

16.
Ye kurbe-qyaamat hai lahu kaisa “Munawwar”,
Paani bhi tujhe tera biraadar nahi dega.

ये कुर्बे-क़यामत है लहू कैसा “मुनव्वर”,
पानी भी तुझे तेरा बिरादर नहीं देगा !

17.
Aapne khul ke mohabbat nahi ki hai humse,
Aapn Bhai nahi kehate hai Miyaan kehate hain.

आपने खुल के मोहब्बत नहीं की है हमसे,
आप भाई नहीं कहते हैं मियाँ कहते हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bahan बहन)

1.
Kis din koi rishta meri Bahano ko milega,
Kab nind ka mausam meri aankhon ko milega.

किस दिन कोई रिश्ता मेरी बहनों को मिलेगा,
कब नींद का मौसम मेरी आँखों को मिलेगा !

2.
Meri gudiya-si Bahan ko khudkushi karni padi,
Kya khabar thi ki dost mera is kadar gir jayega.

मेरी गुड़िया-सी बहन को ख़ुद्कुशी करनी पड़ी,
क्या ख़बर थी दोस्त मेरा इस क़दर गिर जायेगा !

3.
Kisi bachche ki tarah phoot ke royi thi bahut,
Ajnabi hath mein wah apni kalaai dete.

किसी बच्चे की तरह फूट के रोई थी बहुत,
अजनबी हाथ में वह अपनी कलाई देते !

4.
Jab ye suna ki haar ke lauta hun jang se,
Raakhi zameen pe phenk ke Bahanein chali gayi.

जब यह सुना कि हार के लौटा हूँ जंग से,
राखी ज़मीं पे फेंक के बहनें चली गईं !

5.
Chahata hun ki tere hath bhi pile ho jaye,
Kya karun main koi rishta hi nahi aata hai.

चाहता हूँ कि तेरे हाथ भी पीले हो जायें,
क्या करूँ मैं कोई रिश्ता ही नहीं आता है !

6.
Har khushi byaaj pe laya hua dhan lagti hai,
Aur udasi mujhe munh boli Bahan lagti hai.

हर ख़ुशी ब्याज़ पे लाया हुआ धन लगती है,
और उदासी मुझे मुझे मुँह बोली बहन लगती है !

7.
Dhoop rishton ki nikal aayegi ye aas liye,
Ghar ki dehleez pe baithi rahi meri Bahanein.

धूप रिश्तों की निकल आयेगी ये आस लिए,
घर की दहलीज़ पे बैठी रहीं मेरी बहनें !

8.
Is liye baithi hai dehleez pe meri Bahanein,
Phal nahi chahate taaumar shazar mein rehana.

इस लिए बैठी हैं दहलीज़ पे मेरी बहनें,
फल नहीं चाहते ताउम्र शजर में रहना !

9.
Naummidi ne bhare ghar mein andhera kar diya,
Bhai khaali hath laute aur Bahanein bujh gayi.

नाउम्मीदी ने भरे घर में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !