Wednesday , April 8 2020

Tanhaai shayari

Apni Tanhai Mere Naam Pe Aabaad Kare..

Apni tanhai mere naam pe aabaad kare,
Kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare.

Dil ajab shahr ki jis par bhi khula dar is ka,
Wo musafir ise har samt se barbaad kare.

Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roz ek maut naye tarz ki ijad kare.

Itna hairan ho meri be-talabi ke aage,
Wa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare.

Salb-e-binai ke ahkaam mile hain jo kabhi,
Raushni chhune ki khwahish koi shab-zad kare.

Soch rakhna bhi jaraem mein hai shamil ab to,
Wahi masum hai har baat pe jo sad kare.

Jab lahu bol pade us ke gawahon ke khilaf,
Qazi-e-shahr kuchh is bab mein irshad kare.

Us ki mutthi mein bahut roz raha mera wajud,
Mere sahir se kaho ab mujhe aazad kare. !!

अपनी तन्हाई मेरे नाम पे आबाद करे,
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे !

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का,
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे !

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज़ एक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे !

इतना हैराँ हो मेरी बे-तलबी के आगे,
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मेरा सय्याद करे !

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी,
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे !

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो,
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे !

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़,
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे !

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद,
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Aks-e-khushbu hun bikharne se na roke koi..

Aks-e-khushbu hun bikharne se na roke koi,
Aur bikhar jaun to mujh ko na samete koi.

Kanp uthti hun main ye soch ke tanhai mein,
Mere chehre pe tera naam na padh le koi.

Jis tarah khwab mere ho gaye reza reza,
Us tarah se na kabhi tut ke bikhre koi.

Main to us din se hirasan hun ki jab hukm mile,
Khushk phulon ko kitabon mein na rakkhe koi.

Ab to is rah se wo shakhs guzarta bhi nahi,
Ab kis ummid pe darwaze se jhanke koi.

Koi aahat koi aawaz koi chap nahi,
Dil ki galiyan badi sunsan hain aaye koi. !!

अक्स-ए-ख़ुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई,
और बिखर जाऊँ तो मुझ को न समेटे कोई !

काँप उठती हूँ मैं ये सोच के तन्हाई में,
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई !

जिस तरह ख़्वाब मेरे हो गए रेज़ा रेज़ा,
उस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई !

मैं तो उस दिन से हिरासाँ हूँ कि जब हुक्म मिले,
ख़ुश्क फूलों को किताबों में न रक्खे कोई !

अब तो इस राह से वो शख़्स गुज़रता भी नहीं,
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई !

कोई आहट कोई आवाज़ कोई चाप नहीं,
दिल की गलियाँ बड़ी सुनसान हैं आए कोई !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua..

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua,
Apna kya hai sare shehar ka ek jaisa nuqsan hua.

Ye dil ye aaseb ki nagri maskan sochun wahmon ka,
Soch raha hun is nagri mein tu kab se mehman hua.

Sahra ki munh-zor hawayen auron se mansub hui,
Muft mein hum aawara thahre muft mein ghar viran hua.

Mere haal pe hairat kaisi dard ke tanha mausam mein,
Patthar bhi ro padte hain insan to phir insan hua.

Itni der mein ujde dil par kitne mahshar bit gaye,
Jitni der mein tujh ko pa kar khone ka imkan hua.

Kal tak jis ke gird tha raqsan ek amboh sitaron ka,
Aaj usi ko tanha pa kar main to bahut hairan hua.

Us ke zakhm chhupa kar rakhiye khud us shakhs ki nazron se,
Us se kaisa shikwa kije wo to abhi nadan hua.

Jin ashkon ki phiki lau ko hum be-kar samajhte the,
Un ashkon se kitna raushan ek tarik makan hua.

Yun bhi kam-amez tha “Mohsin” wo is shehar ke logon mein,
Lekin mere samne aa kar aur bhi kuchh anjaan hua. !!

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुक़सान हुआ !

ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ !

सहरा की मुँह-ज़ोर हवाएँ औरों से मंसूब हुईं,
मुफ़्त में हम आवारा ठहरे मुफ़्त में घर वीरान हुआ !

मेरे हाल पे हैरत कैसी दर्द के तन्हा मौसम में,
पत्थर भी रो पड़ते हैं इंसान तो फिर इंसान हुआ !

इतनी देर में उजड़े दिल पर कितने महशर बीत गए,
जितनी देर में तुझ को पा कर खोने का इम्कान हुआ !

कल तक जिस के गिर्द था रक़्साँ एक अम्बोह सितारों का,
आज उसी को तन्हा पा कर मैं तो बहुत हैरान हुआ !

उस के ज़ख़्म छुपा कर रखिए ख़ुद उस शख़्स की नज़रों से,
उस से कैसा शिकवा कीजे वो तो अभी नादान हुआ !

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बे-कार समझते थे,
उन अश्कों से कितना रौशन एक तारीक मकान हुआ !

यूँ भी कम-आमेज़ था “मोहसिन” वो इस शहर के लोगों में,
लेकिन मेरे सामने आ कर और भी कुछ अंजान हुआ !!

 

Ujde hue logon se gurezan na hua kar..

Ujde hue logon se gurezan na hua kar,
Haalat ki qabron ke ye katbe bhi padha kar.

Kya jaaniye kyun tez hawa soch mein gum hai,
Khwabida parindon ko darakhton se uda kar.

Us shakhs ke tum se bhi marasim hain to honge,
Wo jhooth na bolega mere samne aa kar.

Har waqt ka hansna tujhe barbaad na kar de,
Tanhai ke lamhon mein kabhi ro bhi liya kar.

Wo aaj bhi sadiyon ki masafat pe khada hai,
Dhunda tha jise waqt ki diwar gira kar.

Aye dil tujhe dushman ki bhi pahchan kahan hai,
Tu halqa-e-yaran mein bhi mohtat raha kar.

Is shab ke muqaddar mein sahar hi nahi “Mohsin”,
Dekha hai kai bar charaghon ko bujha kar. !!

उजड़े हुए लोगों से गुरेज़ाँ न हुआ कर,
हालात की क़ब्रों के ये कतबे भी पढ़ा कर !

क्या जानिए क्यूँ तेज़ हवा सोच में गुम है,
ख़्वाबीदा परिंदों को दरख़्तों से उड़ा कर !

उस शख़्स के तुम से भी मरासिम हैं तो होंगे,
वो झूठ न बोलेगा मेरे सामने आ कर !

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे,
तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर !

वो आज भी सदियों की मसाफ़त पे खड़ा है,
ढूँडा था जिसे वक़्त की दीवार गिरा कर !

ऐ दिल तुझे दुश्मन की भी पहचान कहाँ है,
तू हल्क़ा-ए-याराँ में भी मोहतात रहा कर !

इस शब के मुक़द्दर में सहर ही नहीं “मोहसिन”,
देखा है कई बार चराग़ों को बुझा कर !!

 

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

 

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
“Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
“मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!

 

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi..

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi,
Meri tarah kisi se mohabbat use bhi thi.

Mujh ko bhi shauq tha naye chehron ki did ka,
Rasta badal ke chalne ki aadat use bhi thi.

Is raat der tak wo raha mahw-e-guftugu,
Masruf main bhi kam tha faraghat use bhi thi.

Mujh se bichhad ke shehar mein ghul-mil gaya wo shakhs,
Haalanki shehar-bhar se adawat use bhi thi.

Wo mujh se badh ke zabt ka aadi tha ji gaya,
Warna har ek sans qayamat use bhi thi.

Sunta tha wo bhi sab se purani kahaniyan,
Shayad rafaqaton ki zarurat use bhi thi.

Tanha hua safar mein to mujh pe khula ye bhed,
Saye se pyar dhup se nafrat use bhi thi.

“Mohsin” main us se kah na saka yun bhi haal dil,
Darpesh ek taza musibat use bhi thi. !!

ज़िक्र-ए-शब-ए-फ़िराक़ से वहशत उसे भी थी,
मेरी तरह किसी से मोहब्बत उसे भी थी !

मुझ को भी शौक़ था नए चेहरों की दीद का,
रस्ता बदल के चलने की आदत उसे भी थी !

इस रात देर तक वो रहा महव-ए-गुफ़्तुगू,
मसरूफ़ मैं भी कम था फ़राग़त उसे भी थी !

मुझ से बिछड़ के शहर में घुल-मिल गया वो शख़्स,
हालाँकि शहर-भर से अदावत उसे भी थी !

वो मुझ से बढ़ के ज़ब्त का आदी था जी गया,
वर्ना हर एक साँस क़यामत उसे भी थी !

सुनता था वो भी सब से पुरानी कहानियाँ,
शायद रफ़ाक़तों की ज़रूरत उसे भी थी !

तन्हा हुआ सफ़र में तो मुझ पे खुला ये भेद,
साए से प्यार धूप से नफ़रत उसे भी थी !

“मोहसिन” मैं उस से कह न सका यूँ भी हाल दिल,
दरपेश एक ताज़ा मुसीबत उसे भी थी !!