Wednesday , February 26 2020
Home / Tanha Shayari

Tanha Shayari

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz”,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़”,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!

 

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala..

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala,
Wahi andaz hai zalim ka zamane wala.

Ab use log samajhte hain giraftar mera,
Sakht nadim hai mujhe dam mein lane wala.

Subh-dam chhod gaya nikhat-e-gul ki surat,
Raat ko ghuncha-e-dil mein simat aane wala.

Kya kahen kitne marasim the humare us se,
Wo jo ek shakhs hai munh pher ke jaane wala.

Tere hote hue aa jati thi sari duniya,
Aaj tanha hun to koi nahi aane wala.

Muntazir kis ka hun tuti hui dahliz pe main,
Kaun aayega yahan kaun hai aane wala.

Kya khabar thi jo meri jaan mein ghula hai itna,
Hai wahi mujh ko sar-e-dar bhi lane wala.

Main ne dekha hai bahaaron mein chaman ko jalte,
Hai koi khwab ki tabir batane wala.

Tum takalluf ko bhi ikhlas samajhte ho “Faraz”,
Dost hota nahi har hath milane wala. !!

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला,
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला !

अब उसे लोग समझते हैं गिरफ़्तार मेरा,
सख़्त नादिम है मुझे दाम में लाने वाला !

सुब्ह-दम छोड़ गया निकहत-ए-गुल की सूरत,
रात को ग़ुंचा-ए-दिल में सिमट आने वाला !

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उस से,
वो जो एक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला !

तेरे होते हुए आ जाती थी सारी दुनिया,
आज तन्हा हूँ तो कोई नहीं आने वाला !

मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं,
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला !

क्या ख़बर थी जो मेरी जाँ में घुला है इतना,
है वही मुझ को सर-ए-दार भी लाने वाला !

मैं ने देखा है बहारों में चमन को जलते,
है कोई ख़्वाब की ताबीर बताने वाला !

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़्लास समझते हो “फ़राज़”,
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला !!

 

Aagahi mein ek khala maujud hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam”,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम”,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi..

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi,
Mujhe khud se bhi wahshat ho rahi thi.

Use jakda hua tha zindagi ne,
Sirhane maut baithi ro rahi thi.

Khula mujh par ki meri khush-nasibi,
Mere raste mein kante bo rahi thi.

Mujhe bhi na-rasai ka samar de,
Mujhe teri tamanna jo rahi thi.

Mera qatil mere andar chhupa tha,
Magar bad-naam khilqat ho rahi thi.

Baghawat kar ke khud apne lahu se,
Ghulami dagh apne dho rahi thi.

Labon par tha sukut-e-marg lekin,
Mere dil mein qayamat so rahi thi.

Ba-juz mauj-e-fana duniya mein “Mohsin”,
Hamari justuju kis ko rahi thi. !!

मैं कल तन्हा था ख़िल्क़त सो रही थी,
मुझे ख़ुद से भी वहशत हो रही थी !

उसे जकड़ा हुआ था ज़िंदगी ने,
सिरहाने मौत बैठी रो रही थी !

खुला मुझ पर कि मेरी ख़ुश-नसीबी,
मेरे रस्ते में काँटे बो रही थी !

मुझे भी ना-रसाई का समर दे,
मुझे तेरी तमन्ना जो रही थी !

मेरा क़ातिल मेरे अंदर छुपा था,
मगर बद-नाम ख़िल्क़त हो रही थी !

बग़ावत कर के ख़ुद अपने लहू से,
ग़ुलामी दाग़ अपने धो रही थी !

लबों पर था सुकूत-ए-मर्ग लेकिन,
मेरे दिल में क़यामत सो रही थी !

ब-जुज़ मौज-ए-फ़ना दुनिया में “मोहसिन’,
हमारी जुस्तुजू किस को रही थी !!