Wednesday , April 8 2020

Tamana Shayari

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi..

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi,
Mujhe khud se bhi wahshat ho rahi thi.

Use jakda hua tha zindagi ne,
Sirhane maut baithi ro rahi thi.

Khula mujh par ki meri khush-nasibi,
Mere raste mein kante bo rahi thi.

Mujhe bhi na-rasai ka samar de,
Mujhe teri tamanna jo rahi thi.

Mera qatil mere andar chhupa tha,
Magar bad-naam khilqat ho rahi thi.

Baghawat kar ke khud apne lahu se,
Ghulami dagh apne dho rahi thi.

Labon par tha sukut-e-marg lekin,
Mere dil mein qayamat so rahi thi.

Ba-juz mauj-e-fana duniya mein “Mohsin”,
Hamari justuju kis ko rahi thi. !!

मैं कल तन्हा था ख़िल्क़त सो रही थी,
मुझे ख़ुद से भी वहशत हो रही थी !

उसे जकड़ा हुआ था ज़िंदगी ने,
सिरहाने मौत बैठी रो रही थी !

खुला मुझ पर कि मेरी ख़ुश-नसीबी,
मेरे रस्ते में काँटे बो रही थी !

मुझे भी ना-रसाई का समर दे,
मुझे तेरी तमन्ना जो रही थी !

मेरा क़ातिल मेरे अंदर छुपा था,
मगर बद-नाम ख़िल्क़त हो रही थी !

बग़ावत कर के ख़ुद अपने लहू से,
ग़ुलामी दाग़ अपने धो रही थी !

लबों पर था सुकूत-ए-मर्ग लेकिन,
मेरे दिल में क़यामत सो रही थी !

ब-जुज़ मौज-ए-फ़ना दुनिया में “मोहसिन’,
हमारी जुस्तुजू किस को रही थी !!

 

Sab tamannayen hon puri koi khwahish bhi rahe..

Sab tamannayen hon puri koi khwahish bhi rahe,
Chahta wo hai mohabbat mein numaish bhi rahe.

Aasman chume mere pankh teri rahmat se,
Aur kisi ped ki dali pe rihaish bhi rahe.

Us ne saunpa nahi mujh ko mere hisse ka wajud,
Us ki koshish hai ki mujh se meri ranjish bhi rahe.

Mujh ko malum hai mera hai wo main us ka hun,
Us ki chahat hai ki rasmon ki ye bandish bhi rahe.

Mausamon se rahen “vishwas” ke aise rishte,
Kuchh adawat bhi rahe thodi nawazish bhi rahe. !!

सब तमन्नाएँ हों पूरी कोई ख़्वाहिश भी रहे,
चाहता वो है मोहब्बत में नुमाइश भी रहे !

आसमाँ चूमे मेरे पँख तेरी रहमत से,
और किसी पेड़ की डाली पे रिहाइश भी रहे !

उस ने सौंपा नहीं मुझ को मेरे हिस्से का वजूद,
उस की कोशिश है कि मुझ से मेरी रंजिश भी रहे !

मुझ को मालूम है मेरा है वो मैं उस का हूँ,
उस की चाहत है कि रस्मों की ये बंदिश भी रहे !

मौसमों से रहें “विश्वास” के ऐसे रिश्ते,
कुछ अदावत भी रहे थोड़ी नवाज़िश भी रहे !!

 

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke,
Meri wafa ne ujad di hain umid ki bastiyan basa ke.

Tujhe bhula denge apne dil se ye faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko malum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke.

Kabhi milenge jo raste mein to munh phira kar palat padenge,
Kahin sunenge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke.

Na sochne par bhi sochti hun ki zindagani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kar ke tere khayalon se dur ja ke. !!

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहब्बतों के दीए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियाँ बसा के !

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लकिन,
न दिल को मालूम है न हम को जिएँगे कैसे तुझे भुला के !

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मुँह फिराकर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुका के !

न सोचने पर भी सोचती हूँ की जिंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के !!

 

Mera ji hai jab tak teri justaju hai..

Mera ji hai jab tak teri justaju hai,
Zaban jab talak hai yahi guftagu hai.

Khuda jaane kya hoga anjam is ka,
Main be-sabr itna hun wo tund-khu hai.

Tamana teri hai agar hai tamana,
Teri aarzu hai agar aarzu hai.

Kiya sair sab hum ne gulzar-e-duniya,
Gul-e-dosti mein ajab rang-o-bu hai.

Ghanimat hai ye did wa did-e-yaran,
Jahan aankh mund gayi na main hun na tu hai.

Nazar mere dil ki padi “Dard” kis par,
Jidhar dekhta hun wahi ru-ba-ru hai. !!

मेरा जी है जब तक तेरी जुस्तुजू है,
ज़बाँ जब तलक है यही गुफ़्तुगू है !

ख़ुदा जाने क्या होगा अंजाम इस का,
मैं बे-सब्र इतना हूँ वो तुंद-ख़ू है !

तमन्ना तेरी है अगर है तमन्ना,
तेरी आरज़ू है अगर आरज़ू है !

किया सैर सब हम ने गुलज़ार-ए-दुनिया,
गुल-ए-दोस्ती में अजब रंग-ओ-बू है !

गनीमत है ये दीद व दीद-ए-याराँ,
जहाँ आँख मुँद गई न मैं हूँ न तू है !

नज़र मेरे दिल की पड़ी “दर्द” किस पर,
जिधर देखता हूँ वही रू-ब-रू है !!