Friday , April 10 2020

Talaash Poetry

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Ajnabi Khwahishen Seene Mein Daba Bhi Na Sakun..

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

Meri ghairat bhi koi shai hai ki mehfil mein mujhe,
Us ne is tarah bulaya hai ki ja bhi na sakun.

Phal to sab mere darakhton ke pake hain lekin,
Itni kamzor hain shakhen ki hila bhi na sakun.

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun. !!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

मेरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे,
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ !

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन,
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ !

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !! -Rahat Indori Ghazal

 

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain..

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain,
Jab se chale hain ghar se musalsal safar mein hain.

Sare tamashe khatm hue log ja chuke,
Ek hum hi rah gaye jo fareb-e-sahar mein hain.

Aisi to koi khas khata bhi nahi hui,
Han ye samajh liya tha ki hum apne ghar mein hain.

Ab ke bahaar dekhiye kya naqsh chhod jaye,
Aasar baadalon ke na patte shajar mein hain.

Tujh se bichhadna koi naya hadsa nahi,
Aise hazaron kisse hamari khabar mein hain.

“Aashufta” sab guman dhara rah gaya yahan,
Kahte na the ki khamiyan tere hunar mein hain. !!

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं,
जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं !

सारे तमाशे ख़त्म हुए लोग जा चुके,
एक हम ही रह गए जो फ़रेब-ए-सहर में हैं !

ऐसी तो कोई ख़ास ख़ता भी नहीं हुई,
हाँ ये समझ लिया था कि हम अपने घर में हैं !

अब के बहार देखिए क्या नक़्श छोड़ जाए,
आसार बादलों के न पत्ते शजर में हैं !

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं,
ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं !

“आशुफ़्ता” सब गुमान धरा रह गया यहाँ,
कहते न थे कि ख़ामियाँ तेरे हुनर में हैं !!

 

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Main dhundta hun jise wo jahan nahi milta..

Main dhundta hun jise wo jahan nahi milta,
Nayi zamin naya aasman nahi milta.

Nayi zamin naya aasman bhi mil jaye,
Naye bashar ka kahin kuch nishan nahi milta.

Wo tegh mil gayi jis se hua hai qatl mera,
Kisi ke hath ka us par nishan nahi milta.

Wo mera ganw hai wo mere ganw ke chulhe,
Ki jin mein shole to shole dhuan nahi milta.

Jo ek khuda nahi milta to itna matam kyun,
Yahan to koi mera ham-zaban nahi milta.

Khada hun kab se main chehron ke ek jangal mein,
Tumhare chehre ka kuch bhi yahan nahi milta. !!

मैं ढूँडता हूँ जिसे वो जहाँ नहीं मिलता,
नई ज़मीन नया आसमाँ नहीं मिलता !

नई ज़मीन नया आसमाँ भी मिल जाए,
नए बशर का कहीं कुछ निशाँ नहीं मिलता !

वो तेग़ मिल गई जिस से हुआ है क़त्ल मेरा,
किसी के हाथ का उस पर निशाँ नहीं मिलता !

वो मेरा गाँव है वो मेरे गाँव के चूल्हे,
कि जिन में शोले तो शोले धुआँ नहीं मिलता !

जो इक ख़ुदा नहीं मिलता तो इतना मातम क्यूँ,
यहाँ तो कोई मेरा हम-ज़बाँ नहीं मिलता !

खड़ा हूँ कब से मैं चेहरों के एक जंगल में,
तुम्हारे चेहरे का कुछ भी यहाँ नहीं मिलता !!

Agar talash karun koi mil hi jayega..

Agar talash karun koi mil hi jayega,
Magar tumhari tarah kaun mujh ko chahega.

Tumhein zarur koi chahaton se dekhega,
Magar wo aankhen hamari kahan se layega.

Na jaane kab tere dil par nayi si dastak ho,
Makan khali hua hai to koi aayega.

Main apni rah mein diwar ban ke baitha hun,
Agar wo aaya to kis raste se aayega.

Tumhare sath ye mausam farishton jaisa hai,
Tumhare baad ye mausam bahut satayega. !!

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा,
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा !

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा,
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा !

न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो,
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आएगा !

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ,
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा !

तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है,
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा !!

Agar kabhi meri yaad aaye..

Agar kabhi meri yaad aaye

Agar kabhi meri yaad aaye,
Toh chaand raaton ki naram dil geer roshni mein,
Kisi sitaarey ko dekh lena,
Agar woh nakhl-e-falak se udd kar tumhare qadmon mein aa gire toh,
Ye jaan lena woh istaara tha mere dil ka,
Agar na aaye..

Magar ye mumkin hi kis tarah hai ki tum kisi par nigaah daalo,
Toh uski deewar-e-jaan na tootey,
Woh apni hasti na bhool jaaye,
Agar kabhi meri yaad aaye..

Gureiz karti hawaa ki lehron pe haath rakhna,
Main khushbuon mein tumhein miloonga,
Mujhe gulaabon ki patiyon mein talash karna,
Main oss qatron ke aainon mein tumhein miloonga,
Agar sitaaron mein, oss qatron mein, khushbuon mein na paao mujhko,
Toh apne qadmon mein dekh lena..

Main gard karti masaafton mein tumhein miloonga,
Kahin pe roshan chiraag dekho toh jaan lena,
Ki har patange ke saath main bhi bikhar chuka hoon,
Tum apne haathon se un patangon ki khaak dariya mein daal dena,
Main khaak ban kar samandaron mein safar karunga,
Kisi na dekhe huye jazeere pe ruk ke tum ko sadaayein dunga,
Samandaron ke safar pe niklo toh us jazeere pe bhi utarna,
Agar kabhi meri yaad aaye..

अगर कभी मेरी याद आये,
तो चाँद रातों की नर्म दिल गीर रौशनी में,
किसी सितारे को देख लेना,
अगर वो नख्ल-ए फलक से उड़ कर तुम्हारे क़दमों में आ गिरे तो,
ये जान लेना वो इस्तारा था,
मेरे दिल का अगर ना आये..

मगर ये मुमकिन ही किस तरह है कि तुम किसी पर निगाह डालो,
तो उसकी निग़ाह-ए जान ना टूटे,
वो अपनी हस्ती ना भूल जाए,
अगर कभी मेरी याद आये..

गुरेज़ करती हवा की लहरों पे हाथ रखना,
मैं खुशबुओं में तुम्हें मिलूंगा,
मुझे गुलाबों की पत्तियों में तलाश करना,
मैं ओस क़तरों के आइनों में तुम्हें मिलूंगा,
अगर सितारों में, ओस क़तरों में, खुशबुओं में ना पाओ मुझको,
तो अपने क़दमों में देख लेना..

मैं गर्द करती मसाफ़तों में तुम्हें मिलूंगा,
कहीं पे रौशन चिराग़ देखो तो जान लेना,
कि हर पतंगे के साथ मैं भी बिखर चुका हूं,
तुम अपने हाथों से उन पतंगों कि खाक दरिया में डाल देना,
मैं खाक बन कर समन्दरों में सफर करूंगा,
किसी ना देखे हुए जज़ीरे पे रुक के तुम को सदायें दूंगा,
समन्दरों के सफर पे निकलो तो उस जज़ीरे पे भी उतरना,
अगर कभी मेरी याद आये..