Home / Sooraj Shayari

Sooraj Shayari

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Hath aa kar laga gaya koi..

Haath aa kar laga gaya koi,
Mera chhappar utha gaya koi.

Lag gaya ek masheen mein main bhi,
Shehar mein le ke aa gaya koi.

Main khada tha ki peeth par meri,
Ishtihaar ek laga gaya koi.

Ye sadi dhoop ko tarasti hai,
Jaise sooraj ko kha gaya koi.

Aisi mehangaai hai ki chehra bhi,
Bech ke apna kha gaya koi.

Ab woh armaan hain na woh sapne,
Sab kabootar uda gaya koi.

Woh gaye jab se aisa lagta hai,
Chhota mota khuda gaya koi.

Mera bachpan bhi saath le gaya,
Gaaon se jab bhi aa gaya koi. !!

हाथ आ कर लगा गया कोई,
मेरा छप्पर उठा गया कोई !

लग गया एक मशीन में मैं भी,
शहर में ले के आ गया कोई !

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी,
इश्तिहार एक लगा गया कोई !

ये सदी धूप को तरसती है,
जैसे सूरज को खा गया कोई !

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी,
बेच के अपना खा गया कोई !

अब वो अरमान हैं न वो सपने,
सब कबूतर उड़ा गया कोई !

वो गए जब से ऐसा लगता है,
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई !

मेरा बचपन भी साथ ले आया,
गाँव से जब भी आ गया कोई !!

 

Ye sannata bahut mahnga padega..

Ye sannata bahut mahnga padega,
Ise bhi phut kar rona padega.

Wahi do-chaar chehare ajnabi se,
Unhi ko phir se dohrana padega.

Koi ghar se nikalta hi nahi hai,
Hawa ko thak ke so jaana padega.

Yahan suraj bhi kala pad gaya hai,
Kahin se din bhi mangwana padega.

Wo achchhe the jo pahle mar gaye hain,
Hamein ab aur pachhtana padega. !!

ये सन्नाटा बहुत महँगा पड़ेगा,
इसे भी फूट कर रोना पड़ेगा !

वही दो-चार चेहरे अजनबी से,
उन्हीं को फिर से दोहराना पड़ेगा !

कोई घर से निकलता ही नहीं है,
हवा को थक के सो जाना पड़ेगा !

यहाँ सूरज भी काला पड़ गया है,
कहीं से दिन भी मँगवाना पड़ेगा !

वो अच्छे थे जो पहले मर गए हैं,
हमें अब और पछताना पड़ेगा !!

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad..

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad,
Kitne chup-chap se lagte hain shajar sham ke baad.

Itne chup-chap ki raste bhi rahenge la-ilm,
Chhod jayenge kisi roz nagar sham ke baad.

Main ne aise hi gunah teri judai mein kiye,
Jaise tufan mein koi chhod de ghar sham ke baad.

Sham se pahle wo mast apni udanon mein raha,
Jis ke hathon mein the tute hue par sham ke baad.

Raat biti to gine aable aur phir socha,
Kaun tha bais-e-aghaz-e-safar sham ke baad.

Tu hai suraj tujhe malum kahan raat ka dukh,
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad.

Laut aaye na kisi roz wo aawara-mizaj,
Khol rakhte hain isi aas pe dar sham ke baad. !!

तू ने देखा है कभी एक नज़र शाम के बाद,
कितने चुप-चाप से लगते हैं शजर शाम के बाद !

इतने चुप-चाप कि रस्ते भी रहेंगे ला-इल्म,
छोड़ जाएँगे किसी रोज़ नगर शाम के बाद !

मैं ने ऐसे ही गुनह तेरी जुदाई में किए,
जैसे तूफ़ाँ में कोई छोड़ दे घर शाम के बाद !

शाम से पहले वो मस्त अपनी उड़ानों में रहा,
जिस के हाथों में थे टूटे हुए पर शाम के बाद !

रात बीती तो गिने आबले और फिर सोचा,
कौन था बाइस-ए-आग़ाज़-ए-सफ़र शाम के बाद !

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दुख,
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद !

लौट आए न किसी रोज़ वो आवारा-मिज़ाज,
खोल रखते हैं इसी आस पे दर शाम के बाद !!

Deep tha ya taara kya jaane..

Deep tha ya taara kya jaane,
Dil mein kyon dooba kya jaane.

Gul par kya kuch beet gayi hai,
Albela jhonka kya jaane.

Aas ki maili chaadar odhe,
Woh bhi tha mujh sa kya jaane.

Reet bhi apni rutt bhi apni,
Dil rasm-e-duniya kya jaane.

Ungli thaam ke chalne wala,
Nagri ka rasta kya jaane.

Kitne mod abhi baaki hain,
Tum jaano saaya kya jaane.

Kaun khilauna toot gaya hai,
Baalak be-parwa kya jaane.

Mamta ott dahakte sooraj,
Aankhon ka taara kya jaane !!

दीप था या तारा क्या जाने,
दिल में क्यूँ डूबा क्या जाने !

गुल पर क्या कुछ बीत गई है,
अलबेला झोंका क्या जाने !

आस की मैली चादर ओढ़े,
वो भी था मुझ सा क्या जाने !

रीत भी अपनी रुत भी अपनी,
दिल रस्म-ए-दुनिया क्या जाने !

उँगली थाम के चलने वाला,
नगरी का रस्ता क्या जाने !

कितने मोड़ अभी बाक़ी हैं,
तुम जानो साया क्या जाने !

कौन खिलौना टूट गया है,
बालक बे-परवा क्या जाने !

ममता ओट दहकते सूरज,
आँखों का तारा क्या जाने !!

Wo kuch gahri soch mein aise dub gaya hai

Wo kuch gahri soch mein aise dub gaya hai,
Baithe baithe nadi kinare dub gaya hai.

Aaj ki raat na jane kitni lambi hogi,
Aaj ka suraj sham se pahle dub gaya hai.

Wo jo pyasa lagta tha sailab-zada tha,
Pani pani kahte kahte dub gaya hai.

Mere andar ek bhanwar tha jism mein,
Mera sab kuch saath hi mere dub gaya hai.

Shor to yun uththa tha jaise ek tufan ho,
sannate mein jane kaise dub gaya hai.

Aakhiri khwahish puri kar ke jeena kaisa,
“Aanis” sahil tak aa ke dub gaya hai.

वो कुछ गहरी सोच में ऐसे डूब गया है,
बैठे बैठे नदी किनारे डूब गया है !

आज की रात न जाने कितनी लम्बी होगी,
आज का सूरज शाम से पहले डूब गया है !

वो जो प्यासा लगता था सैलाब-ज़दा था,
पानी पानी कहते कहते डूब गया है !

मेरे अंदर एक भंवर था जिस्म में,
मेरा सब कुछ साथ ही मेरे डूब गया है !

शोर तो यूँ उठता था जैसे एक तूफान हो,
सन्नाटे में जाने कैसे डूब गया है !

आखिरी ख्वाहिश पूरी कर के जीना कैसा,
“आनिस” साहिल तक आ के डूब गया है !!