Home / Sharaab Shayari

Sharaab Shayari

Hans hans ke jaam jaam ko chhalka ke pi gaya..

Hans hans ke jaam jaam ko chhalka ke pi gaya,
Wo khud pila rahe the main lahra ke pi gaya.

Tauba ke tutne ka bhi kuchh kuchh malal tha,
Tham tham ke soch soch ke sharma ke pi gaya.

Saghar-ba-dast baithi rahi meri aarzoo,
Saqi shafaq se jaam ko takra ke pi gaya.

Wo dushmanon ke tanz ko thukra ke pi gaye,
Main doston ke ghaiz ko bhadka ke pi gaya.

Sadha mutalibaat ke baad ek jaam-e-talkh,
Duniya-e-jabr-o-sabr ko dhadka ke pi gaya.

Sau bar laghzishon ki kasam kha ke chhod di,
Sau bar chhodne ki kasam kha ke pi gaya.

Pita kahan tha subh-e-azal main bhala “Adam”,
Saqi ke etibar pe lahra ke pi gaya. !!

हँस हँस के जाम जाम को छलका के पी गया,
वो ख़ुद पिला रहे थे मैं लहरा के पी गया !

तौबा के टूटने का भी कुछ कुछ मलाल था,
थम थम के सोच सोच के शर्मा के पी गया !

साग़र-ब-दस्त बैठी रही मेरी आरज़ू,
साक़ी शफ़क़ से जाम को टकरा के पी गया !

वो दुश्मनों के तंज़ को ठुकरा के पी गए,
मैं दोस्तों के ग़ैज़ को भड़का के पी गया !

सदहा मुतालिबात के बाद एक जाम-ए-तल्ख़,
दुनिया-ए-जब्र-ओ-सब्र को धड़का के पी गया !

सौ बार लग़्ज़िशों की क़सम खा के छोड़ दी,
सौ बार छोड़ने की क़सम खा के पी गया !

पीता कहाँ था सुब्ह-ए-अज़ल मैं भला “अदम”,
साक़ी के एतिबार पे लहरा के पी गया !!

 

Wo baaten teri wo fasane tere..

Wo baaten teri wo fasane tere,
Shagufta shagufta bahane tere.

Bas ek dagh-e-sajda meri kayenat,
Babinen teri aastane tere.

Mazalim tere aafiyat-afrin,
Marasim suhane suhane tere.

Faqiron ki jholi na hogi tahi,
Hain bharpur jab tak khazane tere.

Dilon ko jarahat ka lutf aa gaya,
Lage hain kuchh aise nishane tere.

Asiron ki daulat asiri ka gham,
Naye dam tere purane tere.

Bas ek zakhm-e-nazzara hissa mera,
Bahaaren teri aashiyane tere.

Faqiron ka jamghat ghadi-do-ghadi,
Sharaben teri baada-khane tere.

Zamir-e-sadaf mein kiran ka maqam,
Anokhe anokhe thikane tere.

Bahaar o khizan kam-nigahon ke wahm,
Bure ya bhale sab zamane tere.

“Adam” bhi hai tera hikayat-kada,
Kahan tak gaye hain fasane tere. !!

वो बातें तेरी वो फ़साने तेरे,
शगुफ़्ता शगुफ़्ता बहाने तेरे !

बस एक दाग़-ए-सज्दा मेरी काएनात,
जबीनें तेरी आस्ताने तेरे !

मज़ालिम तेरे आफ़ियत-आफ़रीं,
मरासिम सुहाने सुहाने तेरे !

फ़क़ीरों की झोली न होगी तही,
हैं भरपूर जब तक ख़ज़ाने तेरे !

दिलों को जराहत का लुत्फ़ आ गया,
लगे हैं कुछ ऐसे निशाने तेरे !

असीरों की दौलत असीरी का ग़म,
नए दाम तेरे पुराने तेरे !

बस एक ज़ख़्म-ए-नज़्ज़ारा हिस्सा मेरा,
बहारें तेरी आशियाने तेरे !

फ़क़ीरों का जमघट घड़ी-दो-घड़ी,
शराबें तेरी बादा-ख़ाने तेरे !

ज़मीर-ए-सदफ़ में किरन का मक़ाम,
अनोखे अनोखे ठिकाने तेरे !

बहार ओ ख़िज़ाँ कम-निगाहों के वहम,
बुरे या भले सब ज़माने तेरे !

“अदम” भी है तेरा हिकायत-कदा,
कहाँ तक गए हैं फ़साने तेरे !!

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Dekh kar dil-kashi zamane ki..

Dekh kar dil-kashi zamane ki,
Aarzoo hai fareb khane ki.

Aye gham-e-zindagi na ho naraaz,
Mujh ko aadat hai muskurane ki.

Zulmaton se na dar ki raste mein,
Roshani hai sharab-khane ki.

Aa tere gesuon ko pyar karun,
Raat hai mishalen jalane ki.

Kis ne saghar “Adam buland kiya,
Tham gayi gardishen zamane ki. !!

देख कर दिल-कशी ज़माने की,
आरज़ू है फरेब खाने की !

ऐ ग़म-ए-ज़िन्दगी न हो नाराज,
मुझ को आदत है मुस्कुराने की !

ज़ुल्मतों से न डर की रास्ते में,
रोशनी है शराब-खाने की !

आ तेरे गेसुओं को प्यार करूँ,
रात है मिशालें जलाने की !

किस ने सागर “अदम बुलंद किया,
थम गयी गर्दिशें ज़माने की !!

 

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun..

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun,
Aye gardish-e-ayyam main kuchh soch raha hun.

Saaki tujhe ek thodi si taklif to hogi,
Saghar ko zara tham main kuchh soch raha hun.

Pahle badi raghbat thi tere naam se mujh ko,
Ab sun ke tera naam main kuchh soch raha hun.

Idrak abhi pura taawun nahi karta,
Dai bada-e-gulfam main kuchh soch raha hun.

Hal kuch to nikal aayega halat ki zid ka,
Aye kasrat-e-aalam main kuchh soch raha hun.

Phir aaj “Adam” sham se ghamgin hai tabiyat,
Phir aaj sar-e-sham main kuchh soch raha hun. !!

खाली है अभी जाम मैं कुछ सोच रहा हूँ,
ऐ गर्दिश-ए-अय्याम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

साक़ी तुझे एक थोड़ी सी तकलीफ तो होगी,
सागर को ज़रा थाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

पहले बड़ी रग़बत थी तेरे नाम से मुझको,
अब सुन के तेरा नाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

इदराक अभी पूरा तआवुन नहीं करता,
दय बादा-ए-गुलफ़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

हल कुछ तो निकल आएगा हालात की ज़िद्द का,
ऐ कसरत-ए-आलम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

फिर आज “अदम” शाम से ग़मगीन है तबियत,
फिर आज सर-ए-शाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !!

 

Mujhko aap apna aap deejiyega..

Mujhko aap apna aap deejiyega,
Aur kuchh bhi na mujh se leejiyega.

Aap be-misl be-misaal hoon main,
Mujh siwa aap kis pe reejhiyega.

Aap jo hain azal se hi be-naam,
Naam mera kabhi to leejiyega.

Aap bas mujh mein hi to hain, so aap,
Mera be-had khyaal keejiyega.

Hai agar waaqai sharaab haraam,
Aap hothon se mere peejiyega.

Intezaari hoon apna main din-raat,
Ab mujhe aap bhej deejiyega.

Aap mujh ko bahut pasand aaye,
Aap meri qameez seejiyega.

Dil ke rishte hain khoon, jhooth ki sach,
Ye muamma kabhi na boojhiyega.

Hai mere jism-o jaan ka maazi kya,
Mujh se bas ye kabhi na poochiyega.

Mujh se meri kamaai ka sar-e shaam,
Paai-paai hisaab leejiyega.

Zindagi kya hai, ek hunar karna,
So qareene se zehar peejiyega.

Main jo hun, “Jaun Elia” hun janaab,
Iska behad lihaaz keejiyega. !!

मुझको आप अपना आप दीजियेगा,
और कुछ भी न मुझ से लीजियेगा !

आप बे-मिस्ल बे-मिसाल हूँ मैं,
मुझ सिवा आप किस पे रीझियेगा !

आप जो हैं अज़ल से ही बे-नाम,
नाम मेरा कभी तो लीजियेगा !

आप बस मुझ में ही तो हैं, सो आप,
मेरा बे-हद ख्याल कीजियेगा !

है अगर वाकई शराब हराम,
आप होठों से मेरे पीजियेगा !

इन्तेज़ारी हूँ अपना मैं दिन-रात,
अब मुझे आप भेज दीजियेगा !

आप मुझ को बहुत पसंद आये,
आप मेरी क़मीज़ सीजीयेगा !

दिल के रिश्ते हैं खून, झूठ की सच,
ये मुअम्मा कभी न बूझियेगा !

है मेरे जिस्म-ओ जान का माज़ी क्या,
मुझ से बस ये कभी न पूछियेगा !

मुझ से मेरी कमाई का सार-इ शाम,
पाई-पाई हिसाब लीजियेगा !

ज़िन्दगी क्या है, एक हुनर करना,
सो करीने से ज़ेहर पीजियेगा !

मैं जो हूँ, “जॉन एलिया” हूँ जनाब,
इसका बेहद लिहाज़ कीजियेगा !!

Aakhiri baar aah kar li hai..

Aakhiri baar aah kar li hai,
Maine khud se nibaah kar li hai.

Apne sar ek bala to leni thi,
Maine wo zulf apne sar li hai.

Din bhala kis tarah guzaroge,
Wasl ki shab bhi ab guzar li hai.

Jaan-nisaron pe war kya karna,
Maine bas haath mein sipar li hai.

Jo bhi mango udhaar dunga main,
Us gali mein dukaan kar li hai.

Mera kashkol kab se khali tha,
Maine is mein sharab bhar li hai.

Aur to kuchh nahi kiya maine,
Apni haalat tabaah kar li hai.

Shaikh aaya tha mohtasib ko liye,
Maine bhi un ki wo khabar li hai. !!

आख़िरी बार आह कर ली है,
मैंने ख़ुद से निबाह कर ली है !

अपने सर इक बला तो लेनी थी,
मैंने वो ज़ुल्फ़ अपने सर ली है !

दिन भला किस तरह गुज़ारोगे,
वस्ल की शब भी अब गुज़र ली है !

जाँ-निसारों पे वार क्या करना,
मैंने बस हाथ में सिपर ली है !

जो भी माँगो उधार दूँगा मैं,
उस गली में दुकान कर ली है !

मेरा कश्कोल कब से ख़ाली था,
मैंने इस में शराब भर ली है !

और तो कुछ नहीं किया मैंने,
अपनी हालत तबाह कर ली है !

शैख़ आया था मोहतसिब को लिए,
मैंने भी उन की वो ख़बर ली है !!