Sunday , March 29 2020
Home / Shajar Shayari

Shajar Shayari

Shajar Hain Ab Samar Asar Mere..

Shajar hain ab samar asar mere,
Chale aate hain dawedar mere.

Muhajir hain na ab ansar mere,
Mukhalif hain bahut is bar mere.

Yahan ek bund ka mohtaj hun main,
Samundar hain samundar par mere.

Abhi murdon mein ruhen phunk dalen,
Agar chahen to ye bimar mere.

Hawayen odh kar soya tha dushman,
Gaye bekar sare war mere.

Main aa kar dushmanon mein bas gaya hun,
Yahan hamdard hain do-chaar mere.

Hansi mein taal dena tha mujhe bhi,
Khata kyun ho gaye sarkar mere.

Tasawwur mein na jaane kaun aaya,
Mahak uthe dar-o-diwar mere.

Tumhara naam duniya jaanti hai,
Bahut ruswa hain ab ashaar mere.

Bhanwar mein ruk gayi hai naav meri,
Kinare rah gaye us paar mere.

Main khud apni hifazat kar raha hun,
Abhi soye hain pehredar mere. !!

शजर हैं अब समर-आसार मेरे,
चले आते हैं दावेदार मेरे !

मुहाजिर हैं न अब अंसार मेरे,
मुख़ालिफ़ हैं बहुत इस बार मेरे !

यहाँ इक बूँद का मुहताज हूँ मैं,
समुंदर हैं समुंदर पार मेरे !

अभी मुर्दों में रूहें फूँक डालें,
अगर चाहें तो ये बीमार मेरे !

हवाएँ ओढ़ कर सोया था दुश्मन,
गए बेकार सारे वार मेरे !

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ,
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे !

हँसी में टाल देना था मुझे भी,
ख़ता क्यूँ हो गए सरकार मेरे !

तसव्वुर में न जाने कौन आया,
महक उट्ठे दर-ओ-दीवार मेरे !

तुम्हारा नाम दुनिया जानती है,
बहुत रुस्वा हैं अब अशआर मेरे !

भँवर में रुक गई है नाव मेरी,
किनारे रह गए उस पार मेरे !

मैं ख़ुद अपनी हिफ़ाज़त कर रहा हूँ,
अभी सोए हैं पहरे-दार मेरे !! -Rahat Indori Ghazal