Home / Shaam Shayari

Shaam Shayari

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!

 

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin”,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन”,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!

 

Kitne aish se rahte honge kitne itraate honge..

Kitne aish se rahte honge kitne itraate honge,
Jaane kaise log wo honge jo usko bhaate honge.

Shaam hue khush-bash yahan ke mere paas aa jaate hain,
Mere bujhne ka nazzara karne aa jaate honge.

Wo jo na aane wala hai na us se mujhko matlab tha,
Aane walon se kya matlab aate hain aate honge.

Uski yaad ki baad-e-saba mein aur to kya hota hoga,
Yunhi mere baal hain bikhre aur bikhar jaate honge.

Yaaro kuchh to zikr karo tum uski qayamat banhon ka,
Wo jo simatte honge un mein wo to mar jaate honge.

Mera sans ukhadte hi sab bain karenge royenge,
Yaani mere baad bhi yaani sans liye jaate honge. !!

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे,
जाने कैसे लोग वो होंगे जो उसको भाते होंगे !

शाम हुए ख़ुश-बाश यहाँ के मेरे पास आ जाते हैं,
मेरे बुझने का नज़्ज़ारा करने आ जाते होंगे !

वो जो न आने वाला है ना उस से मुझको मतलब था,
आने वालों से क्या मतलब आते हैं आते होंगे !

उसकी याद की बाद-ए-सबा में और तो क्या होता होगा,
यूँही मेरे बाल हैं बिखरे और बिखर जाते होंगे !

यारो कुछ तो ज़िक्र करो तुम उस की क़यामत बाँहों का,
वो जो सिमटते होंगे उन में वो तो मर जाते होंगे !

मेरा साँस उखड़ते ही सब बैन करेंगे रोएँगे,
यानी मेरे बाद भी यानी साँस लिए जाते होंगे !!

 

Umar guzregi imtihan mein kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

 

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad..

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad,
Kitne chup-chap se lagte hain shajar sham ke baad.

Itne chup-chap ki raste bhi rahenge la-ilm,
Chhod jayenge kisi roz nagar sham ke baad.

Main ne aise hi gunah teri judai mein kiye,
Jaise tufan mein koi chhod de ghar sham ke baad.

Sham se pahle wo mast apni udanon mein raha,
Jis ke hathon mein the tute hue par sham ke baad.

Raat biti to gine aable aur phir socha,
Kaun tha bais-e-aghaz-e-safar sham ke baad.

Tu hai suraj tujhe malum kahan raat ka dukh,
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad.

Laut aaye na kisi roz wo aawara-mizaj,
Khol rakhte hain isi aas pe dar sham ke baad. !!

तू ने देखा है कभी एक नज़र शाम के बाद,
कितने चुप-चाप से लगते हैं शजर शाम के बाद !

इतने चुप-चाप कि रस्ते भी रहेंगे ला-इल्म,
छोड़ जाएँगे किसी रोज़ नगर शाम के बाद !

मैं ने ऐसे ही गुनह तेरी जुदाई में किए,
जैसे तूफ़ाँ में कोई छोड़ दे घर शाम के बाद !

शाम से पहले वो मस्त अपनी उड़ानों में रहा,
जिस के हाथों में थे टूटे हुए पर शाम के बाद !

रात बीती तो गिने आबले और फिर सोचा,
कौन था बाइस-ए-आग़ाज़-ए-सफ़र शाम के बाद !

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दुख,
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद !

लौट आए न किसी रोज़ वो आवारा-मिज़ाज,
खोल रखते हैं इसी आस पे दर शाम के बाद !!