Home / Saza Shayari

Saza Shayari

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

 

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin”,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन”,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!

 

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!

 

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye..

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye,
Main pina chahta hun pila deni chahiye.

Allah barkaton se nawazega ishq mein,
Hai jitni punji pas laga deni chahiye.

Dil bhi kisi faqir ke hujre se kam nahi,
Duniya yahin pe la ke chhupa deni chahiye.

Main khud bhi karna chahta hun apna samna,
Tujh ko bhi ab naqab utha deni chahiye.

Main phool hun to phool ko gul-dan ho nasib,
Main aag hun to aag bujha deni chahiye.

Main taj hun to taj ko sar par sajayen log,
Main khak hun to khak uda deni chahiye.

Main jabr hun to jabr ki taid band ho,
Main sabr hun to mujh ko dua deni chahiye.

Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe,
Main nind hun to nind uda deni chahiye.

Sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake,
Main kah raha hun mujh ko saza deni chahiye. !!

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए !

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में,
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए !

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं,
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए !

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना,
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए !

मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब,
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए !

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग,
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए !

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो,
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए !

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे,
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए !

सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके,
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए !!

 

Ab ke yun dil ko saza di hum ne..

Ab ke yun dil ko saza di hum ne,
Uss ki har baat bhula di hum ne.

Ek ek phool bahut yaad aya,
Shakh-e-gul jab woh jala di hum ne.

Aaj tak jis pe woh sharmaate hain,
Baat woh kab ki bhula di hum ne.

Shehar-e jahan raakh se aabaad hua,
Aag jab dil ki bujha di hum ne.

Aaj phir yaad bahut aaye wo,
Aaj phir uss ko dua di hum ne.

Koi toh baat uss mein bhi hai “Faiz”,
Har khushi jis par luta di hum ne. !!

अब के यूँ दिल को सजा दी हम ने,
उस की हर बात भुला दी हम ने !

एक एक फूल बहुत याद आया,
शख-ए-गुल जब जला दी हम ने !

आज तक जिस पे वो शर्माते हैं,
बात वह कब की भुला दी हम ने !

शहर-ए-जहाँ राख से आबाद हुआ,
आग जब दिल की बुझा दी हम ने

आज फिर याद बहुत आये वो,
आज फिर उस को दुआ दी हम ने !

कोई तो बात उस में भी है “फैज”,
हर ख़ुशी जिस पर लूटा दी हम ने !!

Yun na mil mujh se khafa ho jaise..

Yun na mil mujh se khafa ho jaise,
Sath chal mauj-e-saba ho jaise.

Log yun dekh ke hans dete hain,
Tu mujhe bhul gaya ho jaise.

Ishq ko shirk ki had tak na badha,
Yun na mil hum se khuda ho jaise.

Maut bhi aayi to is naaz ke sath,
Mujh pe ehsan kiya ho jaise.

Aise anjan bane baithe ho,
Tum ko kuchh bhi na pata ho jaise.

Hichkiyan raat ko aati hi rahi,
Tu ne phir yaad kiya ho jaise.

Zindagi bit rahi hai “Danish”,
Ek be-jurm saza ho jaise.

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे,
साथ चल मौज-ए-सबा हो जैसे !

लोग यूँ देख के हँस देते हैं,
तू मुझे भूल गया हो जैसे !

इश्क़ को शिर्क की हद तक न बढ़ा,
यूँ न मिल हम से ख़ुदा हो जैसे !

मौत भी आई तो इस नाज़ के साथ,
मुझ पे एहसान किया हो जैसे !

ऐसे अंजान बने बैठे हो,
तुम को कुछ भी न पता हो जैसे !

हिचकियाँ रात को आती ही रहीं,
तू ने फिर याद किया हो जैसे !

ज़िंदगी बीत रही है “दानिश”,
एक बे-जुर्म सज़ा हो जैसे !